शिमला में जल संकट : तीन जोन में बांटा गया शहर, ये रहेगा पानी सप्लाई का शेड्यूल

फाइल फोटो: शिमला में जलसंकट प्रतीकात्मक तस्वीर

फाइल फोटो: शिमला में जलसंकट प्रतीकात्मक तस्वीर

बैठक में बताया गया कि शिमला नगर निगम में पानी की आपूर्ति सुनिश्चित बनाने के लिए पर्याप्त संख्या में टैंकर तैनात किए गए हैं. प्रत्येक वार्ड में कम से कम एक टैंकर लगाया गया है.

  • Share this:

हिमाचल प्रदेश की राजधानी में जारी जल संकट के बीच सरकार हरकत में आई है. सीएम ने खुद इन हालात से निपटने के लिए कमान संभाली है. शिमला शहर को तीन जोन में बांटा गया है.

सरकार का दावा है कि पूरे शिमला शहर के तीन जोन में बांटकर पानी की एक समान आपूर्ति होगी. हर जोन में तीन दिन के बाद पानी आएगा. मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने शिमला शहर के लोगों को पर्याप्त पानी उपलब्ध करवाने की तैयारियों के लिए आयोजित बैठक के बाद यह जानकारी दी.

बता दें कि सीएम ने जल सकंट को देखते हुए तीन दिन में चौथी बार बैठक की है. वहीं, सोमवार को तो एक ही दिन में दूसरी समीक्षा बैठक हुई.



यहां-यहां मंगलवार को आएगा पानी
बैठक में बताया गया कि 29 मई को कुसुम्पटी, पंथाघाटी, छोटो शिमला, विकास नगर, पटयोग, कंगना धार, न्यू शिमला, खलीनी और अन्य साथ लगते क्षेत्रों में पानी की आपूर्ति की जाएगी जबकि छोटा शिमला, विकास नगर और खलीनी में पानी की आपूर्ति शाम को की जाएगी. वहीं, कुसुम्पटी, पंथाघाटी, पटयोग, कंगनाधार, न्यू शिमला व क्षेत्र के अन्य साथ लगते स्थलों में पानी की आपूर्ति सुबह की जाएगी.

यहां बुधवार को होगी पानी की सप्लाई

30 मई को भराड़ी, रुलदुभट्टा, कैथू, अन्नाडेल, समरहिल, टूटू और मझियाथ, बालूगंज, कच्ची घाटी, टूटीकंडी, कंनलोग, नाभा व फागली में पानी की आपूर्ति की जाएगी. इसके अतिरिक्त इसी दिन इन वार्डों के साथ लगते नगर निगम के बाहर के क्षेत्रों में पानी दिया जाएगा.

31 मई का यह रहेगा शेड्यूल

कृष्णानगर, राम बाजार, लोअर बाजार, जाखू, बेनमोर, इंजनघर, संजौली चौक, ढली व मशोबरा, भट्टाकुफर, शांति विहार, सिमेट्री, मलियाना और सांगटी में पानी की आपूर्ति की जाएगी. इसी प्रकार पानी की आपूर्ति का समय सारिणी तय रहेगी.

हर वार्ड में कम से कम एक टैंकर

बैठक में बताया गया कि शिमला नगर निगम में पानी की आपूर्ति सुनिश्चित बनाने के लिए पर्याप्त संख्या में टैंकर तैनात किए गए हैं. प्रत्येक वार्ड में कम से कम एक टैंकर लगाया गया है. सीएम ने कहा कि ये टैंकर उन क्षेत्रों में पेयजल आपूर्ति सुनिश्चित बनाएंगे, जहां पानी की सर्वाधिक कमी होगी।

प्रबंधन बेहतर करने की कोशिश

गिरी और गुम्मा नदी से सिंचाई के बेहतर प्रबंधन को लेकर प्रयास किए जा रहे हैं. इससे दो-तीन एमएलडी पानी बढ़ने की संभावना है. उन्होंने अधिकारियों को पाईपों से होने वाले पानी के रिसाव पर नजर रखने व निर्माण कार्यों के प्रयोग में लाए जा रहे पानी के कनेक्शन को बंद करने के निर्देश दिए हैं. उन्होंने उपभोक्ताओं से पानी का सदुपयोग करने की भी अपील की.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज