होम /न्यूज /दुनिया /अमेरिका में 100 साल पहले विलुप्त हुई मछली प्रजाति वापस हुई पैदा, पढ़ें दिलचस्प मामला

अमेरिका में 100 साल पहले विलुप्त हुई मछली प्रजाति वापस हुई पैदा, पढ़ें दिलचस्प मामला

100 साल पहले विलुप्त हो गई थी ग्रीनबैक कटथ्रोट ट्राउट मछली. ( फोटो- ट्विटर)

100 साल पहले विलुप्त हो गई थी ग्रीनबैक कटथ्रोट ट्राउट मछली. ( फोटो- ट्विटर)

ग्रीनबैक को लंबे समय से विलुप्त माना जाता था. यह स्वाभाविक रूप से दक्षिण पठार ड्रेनेज के जल में प्रजनन (Reporduce) कर र ...अधिक पढ़ें

  • News18Hindi
  • Last Updated :

वॉशिंगटन. अमेरिका में 100 साल पुरानी विलुप्त मछली प्रजाति को फिर से देखे जाने के बाद लोग हैरान रह गए है. यह अमेरिका के कोलोराडो में पाई गई है. एक रिपोर्ट के मुताबिक यह 1930 के दशक में विलुप्त हो गई थी, इसके विलुप्त होने की वजह खनन प्रदुषण (Mining Pollution) और अत्यधिक मछली पकड़ना बताई गई है.

न्यूजवीक की एक रिपोर्ट के मुताबिक, इस प्रजाति का नाम ग्रीनबैक कटथ्रोट ट्राउट (Greenback Cutthroat Trout) है. यह मछली दक्षिण प्लैट ड्रेनेज नदी जल निकासी में हरमन गुलच में पाई गई है. सोमवार को मछली की विभिन्न तस्वीरों को कोलोराडो पार्क्स एंड वाइल्डलाइफ के दक्षिणपूर्व क्षेत्र के आधिकारिक ट्विटर हैंडल से साझा किया गया है.

कोलोराडो के गवर्नर ने बताया कि मछली को कोलोराडो पार्क्स में पाया गया. ग्रीनबैक को लंबे समय से विलुप्त माना जाता था. यह स्वाभाविक रूप से दक्षिण पठार ड्रेनेज के जल में प्रजनन (Reporduce) कर रही है. वन्यजीव पार्क ने पोस्ट साझा करते हुए लिखा कि यह  वन्यजीव संरक्षण के लिए बहुत बड़ी जीत है. कोलोराडो पार्क्स ने न्यूजवीक को बताया कि प्रजातियों को विलुप्त होने के कगार से बचाने के लिए के लिए बहुत प्रयास किया जाता है, इसलिए यह खबर हमारे लिए बहुत बड़ी है.

वैज्ञानिकों को मिला दुनिया का सबसे पुराना दिल, 38 करोड़ साल से ऐसे रखा है सुरक्षित

शेयर किए जाने के बाद से, पोस्ट को 1,200 से अधिक लाइक्स और 100 से अधिक बार शेयर किया जा चुका है. एक विज्ञप्ति के अनुसार प्रजातियों की एक छोटी आबादी को प्रजनन को बढ़ावा देने और नई आबादी की स्थापना के लिए एक हैचरी में संरक्षित किया गया था.  इस प्रजाति को बाद में कई स्थानों पर जीवविज्ञानियों ने संरक्षित करने की कोशिश की. जिसमें 2016 में हरमन गुलच भी शामिल है.

Tags: America, Fish, Wildlife

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें