लाइव टीवी

त्रिनिदाद एंड टोबैगो में लुटते-लुटते बचा बैंक ऑफ बड़ौदा

आईएएनएस
Updated: June 11, 2012, 2:43 PM IST
त्रिनिदाद एंड टोबैगो में लुटते-लुटते बचा बैंक ऑफ बड़ौदा
बैंक ऑफ बड़ौदा की एक शाखा यहां लुटते-लुटते बची। चार लुटेरों ने यहां काम करने वाले तीन भारतीय कर्मचारियों को बांध दिया था और उनसे खजाने की चाबी मांग रहे थे।

बैंक ऑफ बड़ौदा की एक शाखा यहां लुटते-लुटते बची। चार लुटेरों ने यहां काम करने वाले तीन भारतीय कर्मचारियों को बांध दिया था और उनसे खजाने की चाबी मांग रहे थे।

  • Share this:
पोर्ट ऑफ स्पेन। बैंक ऑफ बड़ौदा की एक शाखा यहां लुटते-लुटते बची। चार लुटेरों ने यहां काम करने वाले तीन भारतीय कर्मचारियों को बांध दिया था और उनसे खजाने की चाबी मांग रहे थे। बैंक के बगल से गुजरते तीन पुलिसकर्मियों ने इसे देख लिया और लुटेरों को गिरफ्तार कर लिया। सोमवार को लुटेरों की अदालत में पेशी होगी।

वारदात के दिन तीन पुलिस कर्मचारी इलाके में गश्ती कर रहे थे। उन्होंने बैंक का दरवाजा टूटा देखा। बैंक के अंदर उन्होंने चार लुटेरों को देखा, जिनकी उम्र 20 वर्ष से 29 वर्ष के बीच थी। वे खजाने की चाबी मांग रहे थे, जिसमें करोड़ों डॉलर संग्रहीत होने का अनुमान है। लुटेरों ने तीन भारतीय कर्मचारियों- संदीप सिनत, महादेव मीदा और रंजीत कुमार- को बांध दिया था। उन्होंने दो सुरक्षा गार्डों को भी बांध दिया था। पुलिसकर्मियों ने लुटेरों को तत्काल गिरफ्तार कर लिया।

देश के सुरक्षा मंत्री ब्रिगेडियर जॉन सैंडी और रक्षा कर्मियों के अध्यक्ष केनरिक महाराज और यहां तैनात भारतीय उच्चायुक्त मलय मिश्रा जैसे वरिष्ठ अधिकारियों ने घटना के बाद बैंक का दौरा किया। बैंक ऑफ बड़ौदा ने शहर में अपनी पहली शाखा 2007 में खोली थी।

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए दुनिया से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: June 11, 2012, 2:43 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर