यमन के हुदयदाह में संघर्ष में 150 लोगों की मौत

सऊदी अरब की अगुवाई वाले गठबंधन के सहयोग से सरकार समर्थक लड़ाके शहर से ईरान समर्थित हूती विद्रोहियों को खदेड़ने के लिए संघर्ष कर रहे हैं.

भाषा
Updated: November 13, 2018, 11:17 AM IST
यमन के हुदयदाह में संघर्ष में 150 लोगों की मौत
प्रतीकात्मक फोटो
भाषा
Updated: November 13, 2018, 11:17 AM IST
यमन के मुख्य बंदरगाह नगर हुदयदाह में पिछले 24 घंटों में संघर्ष के दौरान कम से कम 150 लोगों की मौत हो गई है. डॉक्टरों ने मंगलवार को यह जानकारी दी. इस बीच ब्रिटेन के शीर्ष राजनयिक ने संघर्षविराम के अंतरराष्ट्रीय आह्वान को बल देने के लिए खाड़ी देश का दौरा किया.

सऊदी अरब की अगुवाई वाले गठबंधन के सहयोग से सरकार समर्थक लड़ाके शहर से ईरान समर्थित हूती विद्रोहियों को खदेड़ने के लिए संघर्ष कर रहे हैं. लाल सागर के किनारे पर स्थित यह देश सामरिक तौर पर काफी महत्त्वपूर्ण है. इस शहर की गोदी (डॉक) भुखमरी की कगार पर खड़े करीब एक करोड़ 40 लाख यमन वासियों की जीवन रेखा है.

संघर्षविराम की संभावना पर पूछे जाने पर सऊदी अरब की अगुवाई वाले गठबंधन के एक प्रवक्ता ने रियाद में संवाददाताओं से कहा कि अभियान अब भी जारी है. साथ ही उन्होंने कहा कि इसका मकसद विद्रोहियों को बातचीत के लिए तैयार  करना है.



हुदयदाह में रहने वाले एक व्यक्ति ने सोमवार शाम तक शहर के आस-पास जारी संघर्ष के कम होने की बात कही थी लेकिन संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुटारेस ने चेताया है कि अगर बंदरगाह नष्ट होता है तो उम्मीद है कि आपात स्थिति पैदा हो जाएगी. उन्होंने कहा, “यह लड़ाई रुकनी ही चाहिए, एक राजनीतिक चर्चा शुरू होनी चाहिए और अगले साल बेहद बुरी स्थिति से बचने के लिए हमें बड़े पैमाने पर मानवीय सहायता पहुंचाने के लिए तैयार रहना चाहिए.”

सरकार समर्थक गठबंधन के एक सैन्य सूत्र ने बताया कि विद्रोहियों ने बंदरगाह की ओर बढ़ने के मकसद से बड़े पैमाने पर हमला करने की योजना बनाई थी. यह बंदरगाह 2014 से विद्रोहियों के नियंत्रण में है.
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर