बांग्लादेश: ईद के जश्न में जहरीली शराब पीने से 16 की मौत, 2 महिलाएं भी शामिल

बांग्लादेश: ईद के जश्न में जहरीली शराब पीने से 16 की मौत, 2 महिलाएं भी शामिल
बांग्लादेश में जहरीली शराब पीने से 16 की मौत

ईद (Eid) के जश्न के दौरान जहरीली शराब (Toxic liquor) पीने से 16 लोगों की मौत हो गयी है जबकि दर्जनों लोग बीमार पड़ गए हैं. बीमार लोगों का अस्पताल में इलाज चल रहा है जिनमें से कई की हालत अभी भी गंभीर बताई जा रही है.

  • Share this:
ढाका. उत्तर-पश्चिमी बांग्लादेश (Bangladesh) में ईद (Eid) के जश्न के दौरान जहरीली शराब (Toxic liquor) पीने से 16 लोगों की मौत हो गयी है जबकि दर्जनों लोग बीमार पड़ गए हैं. बीमार लोगों का अस्पताल में इलाज चल रहा है जिनमें से कई की हालत अभी भी गंभीर बताई जा रही है. जहरीली शराब पीने की घटना आस-पास के ही दो गांवों दिनाजपुर और रंगपुर में पेश आई. ऐसा माना जा रहा है कि दोनों जगहों के लोगों ने एक ही जगह से शराब खरीदी थी.

ढाका ट्रिब्यून के मुताबिक एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने बताया, 'मिलावटी शराब पीने से अब तक 16 लोगों की मौत हो चुकी है. इनमें से कुछ लोगों की अपने घरों पर ही मौत हो गई जबकि कुछ ने अस्पताल ले जाने के दौरान दम तोड़ दिया. अधिकारियों ने उन जगहों का पता लगाने के लिए जांच का आदेश दिया है, जहां अवैध तरीके से शराब बनायी जाती है.' मरने वालों में मुस्लिम और हिंदू दोनों ही शामिल हैं.

ईद के जश्न में हुआ हादसा
मिली जानकारी के मुताबिक दोनों ही जगहों पर ईद के दिन जश्न का आयोजन हुआ था जहां शराब भी परोसी जा रही थी. दिनाजपुर में शराब पीकर मरने वालों में अब्दुल मतीन, अजीजुल इस्लाम, अमृतो रॉय और सोहेल राना समेत 10 लोग शामिल हैं. उधर रंगपुर में भी 6 लोगों की मौत हुई है. बीमारों को बीरमपुर के अस्पताल में भर्ती कराया गया है. हेल्थ ऑफिसर सुलेमान उस्मान ने बताया कि मारे गए ज्यादातर लोग मजदूर थे और ईद के दिन देसी शराब का सेवन कर रहे थे.
महिलाएं भी शामिल


ढाका ट्रिब्यून के मुताबिक जहरीली शराब से मरने वालों में कम से कम दो महिलाऐं भी शामिल हैं. रंगपुर निवासी शफीकुल इस्लाम और उनकी पत्नी मंजूरा के आलावा एक और महिला की भी मौत हुई है जिसकी पहचान अभी नहीं बताई गयी है. इस मामले में स्थानीय शराब विक्रेता अब्दुल मन्नान को गिरफ्तार किया गया है.

 

ये भी पढ़ें:

क्या वाकई भारत में ज्यादातर कोरोना रोगी हो रहे हैं ठीक और दुनिया में सबसे कम है मृत्यु दर

क्यों डब्ल्यूएचओ ने भारत की दवा हाइड्रॉक्सीक्लोरोक्वीन का ट्रायल तक नहीं किया?

जम्मू-कश्मीर में बदले डोमिसाइल रूल्‍स से कश्‍मीरी पंडितों और पाकिस्‍तानी शरणार्थियों को कैसे होगा फायदा

जानें क्या है चीन का मार्स मिशन तियानवेन-1, कितने दिन में पहुंचेगा लाल ग्रह
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading