• Home
  • »
  • News
  • »
  • world
  • »
  • 160 INDIAN JEWS ARRIVED IN ISRAEL MANY LEFT BEHIND DUE TO BEING FOUND INFECTED

160 भारतीय यहूदी पहुंचे इजराइल, संक्रमित पाये जाने के कारण कई छूट गये पीछे

हारेज ऑनलाइन ने पहले खबर दी थी कि स्वास्थ्य मंत्रालय कोविड-19 की उच्च संक्रमण दर के चलते पूरे समूह के प्रवेश को रोकने पर विचार कर रहा था

गैर सरकारी संगठन शावी इस्राइल गुम हो रही इस प्रजाति के यहूदियों, जो इस्राइल आने को उत्सुक हैं, को वापस लाने की मुहिम चला रहा है और उसने इस्राइल में रह रहे नी मेनाशे समुदाय के अधिकतर सदस्यों के अलियाह (आव्रजन) से समन्वय किया.

  • Share this:
    यरुशलम. पूर्वोत्तर भारत में बीनेई मेनाशे समुदाय से 160 यहूदी सोमवार को इस्राइल पहुंचे जबकि 38 सदस्यों के कोविड-19 संक्रमित पाये जाने के कारण 115 अन्य भारत में रह गये. यहां प्रशासन ने यह जानकारी दी. भारत से कुल 275 यहूदियों को सोमवार को इस्राइल की यात्रा पर जाना था.

    गैर सरकारी संगठन शावी इस्राइल गुम हो रही इस प्रजाति के यहूदियों, जो इस्राइल आने को उत्सुक हैं, को वापस लाने की मुहिम चला रहा है और उसने इस्राइल में रह रहे नी मेनाशे समुदाय के अधिकतर सदस्यों के अलियाह (आव्रजन) से समन्वय किया. विमान सोमवार को बेन गुरियोन हवाई अड्डे पर पहुंचा.  पूर्वोत्तर राज्यों– मणिपुर और मिजोरम के बीनेई मेनाशे समुदाय के एक सदस्य ने कहा, ‘‘जो 38 लोग संक्रमित पाये गये, उनके परिवार के सदस्य भी उनके साथ ही रह गये और जब वे संक्रमणमुक्त हो जाएंगे और पृथक-वास पूरा कर रहेगे , तब सभी आयेंगे.’’

    ये भी पढ़ेंः- महाराष्ट्र में घटकर 15 हजार पर आए कोरोना संक्रमण के मामले, मौत के आंकड़ों का ग्राफ भी गिरा

    उसने कहा, ‘‘ आव्रजकों के नये जत्थे को प्रारंभ में एक समावेशन केंद्र में रखा जाएगा जहां उन्हें हीब्रू सिखाया जाएगा और अन्य संबंधित बातें सिखायी जाएंगी और फिर वे इस्राइल के पूर्वी हिस्से में बसेंगे.’’

    पूरे समूह के प्रवेश को रोकने पर किया जा रहा था विचार
    हारेज ऑनलाइन ने पहले खबर दी थी कि स्वास्थ्य मंत्रालय कोविड-19 की उच्च संक्रमण दर के चलते पूरे समूह के प्रवेश को रोकने पर विचार कर रहा था लेकिन आव्रजन एवं समावेश मंत्रालय एवं यहूदी एजेंसी के दबाव में उन लोगों को विमान में सवार होने की इजाजत दी जो संक्रमणमुक्त पाये गये.

    आव्रजन एवं समावेशन मंत्रालय के अनुसार इस समुदाय के आव्रजकों के इस नवीनतम जत्थे के बाद उनकी संख्या बढ़कर 2500 से अधिक हो जाएगी.