रूस HIV की चपेट में, 28000 लोग एड्स से पीड़ित

रूस HIV की चपेट में, 28000 लोग एड्स से पीड़ित
रूस में एचआईवी के प्रसार को रोकने के तमाम सरकारी प्रयास बेमानी साबित हो रहे हैं। पिछले ही साल देश में एचआईवी के 69,000 नए मामले सामने आए, जबकि 2011 में यह संख्या 62,000 थी।

रूस में एचआईवी के प्रसार को रोकने के तमाम सरकारी प्रयास बेमानी साबित हो रहे हैं। पिछले ही साल देश में एचआईवी के 69,000 नए मामले सामने आए, जबकि 2011 में यह संख्या 62,000 थी।

  • News18India
  • Last Updated: March 26, 2013, 11:52 AM IST
  • Share this:
मास्को। रूस में एचआईवी के प्रसार को रोकने के तमाम सरकारी प्रयास बेमानी साबित हो रहे हैं। पिछले ही साल देश में एचआईवी के 69,000 नए मामले सामने आए, जबकि 2011 में यह संख्या 62,000 थी। रूस के शीर्ष स्वास्थ्य अधिकारी जेनादी ओनिशचेंको ने मास्को में आयोजित एक वैज्ञानिक सम्मेलन में यह बात कही। उन्होंने कहा कि वर्ष 1987 में पहली बार एचआईवी का मामला आधिकारिक तौर पर सामने आया था। तब से लेकर अब तक 7.2 लाख लोगों में एचआईवी मिल चुका है।

ओनिशचेंको ने कहा कि एचआईवी के उक्त मामलों में से 6,300 से अधिक पीड़ितों की उम्र 14 साल से कम रही। सोवियत संघ के विघटन के बाद से ही रूस एचआईवी की महामारी से जूझ रहा है। ओनिशचेंको ने कहा कि यहां इस बीमारी की एक बड़ी वजह संक्रमित इंजेक्शन का इस्तेमाल है, जिससे 56 प्रतिशत संक्रमण होते हैं। ये इंजेक्शन अधिकतर नशीले पदार्थो के लिए इस्तेमाल किए जाते हैं।

एचआईवी के प्रसार की एक अन्य बड़ी वजह यौन संबंध भी है, जिससे करीब 40 प्रतिशत लोग संक्रमित होते हैं। पिछले तीन वर्षो में इसमें 4.5 प्रतिशत की वृद्धि हुई है। संयुक्त राष्ट्र के आंकड़ों के अनुसार दुनियाभर में करीब 3.42 करोड़ लोग एचआईवी-पॉजीटिव हैं। वर्ष 2011 में करीब 17 लाख लोगों की मौत एड्स संबंधी बीमारियों से हो चुकी है।

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज