अपना शहर चुनें

States

अफगानिस्‍तान में हाई प्रोफाइल लोगों पर हमलों का दौर जारी, अब 2 महिला जजों की हत्‍या

अफगानिस्‍तान में महिला जजों पर हमला. (Pic- AP)
अफगानिस्‍तान में महिला जजों पर हमला. (Pic- AP)

काबुल (Kabul) में दोनों महिला जजों पर यह जानलेवा हमला उस वक्त हुआ, जब वे दोनों कोर्ट के वाहन से अपने कार्यालय जा रही थीं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: January 18, 2021, 9:20 AM IST
  • Share this:
काबुल. अफगानिस्तान (Afghanistan) में सरकार और तालिबान (Taliban) के बीच हुई वार्ता के बावजूद वहां लगातार हिंसा हो रही है. आतंकी संगठन अब हाई प्रोफाइल लोगों को निशाना बना रहे हैं. रविवार को अफगानिस्‍तान की राजधानी काबुल में भी ऐसी ही एक घटना देखने को मिली. रविवार सुबह एक हमलावर ने सड़क पर दो महिला जजों की गोली मार कर हत्या कर दी. हमलावर ने दोनों महिला जजों पर ताबड़तोड़ गोलियां बरसाईं.

बता दें कि हाल ही में अमेरिकी रक्षा मंत्रालय पेंटागन (Pentagon) ने अफगानिस्तान में अमेरिकी सैनिकों की संख्या घटाकर 2500 करने की घोषणा की है. ऐसे में यह हमला होना चिंता का विषय माना जा रहा है. दो दशक में अमेरिकी सेना की अफगानिस्तान की जमीन पर यह सबसे कम संख्या होगी. घटना के संबंध में सुप्रीम कोर्ट की प्रवक्ता अहमद फहीम कावीम ने जानकारी दी है कि दोनों महिला जजों पर यह जानलेवा हमला उस वक्त हुआ, जब वे दोनों कोर्ट के वाहन से अपने कार्यालय जा रही थीं.

प्रवक्‍ता के अनुसार इस जानलेवा हमले में दो महिला जजों को खो दिया गया. गाड़ी का ड्राइवर भी घटना में घायल हुआ है. अफगानिस्तान की शीर्ष अदालत में करीब 200 महिला जज काम कर रही हैं. काबुल पुलिस ने भी इस हमले की पुष्टि की है.

वहीं अफगानिस्तान के सुप्रीम कोर्ट पर भी इससे पहले 2017 में आत्मघाती हमला हो चुका है. उस समय कोर्ट परिसर में आत्मघाती हमलावर ने खुद को बम से उड़ा लिया था. उस हमले में करीब 20 लोगों की मौत हुई थी. साथ ही 41 लोग घायल हुए थे. अफगानिस्‍तान सरकार ने ऐसे टारगेटेड हमलों के पीछे तालिबान का हाथ बताया है. वहीं आतंकी संगठन लगातार इससे इनकार करता रहा है. ऐसी कई हत्याओं की जिम्मेदारी तालिबान के प्रतिद्वंद्वी संगठन इस्लामिक स्टेट ने ली है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज