20 वर्ष का क्लेन मां-बाप से मिलने के लिए 5 देशों की सीमाएं पार कर ब्रिटेन से पहुंचे यूनान

20 वर्ष का क्लेन मां-बाप से मिलने के लिए 5 देशों की सीमाएं पार कर ब्रिटेन से पहुंचे यूनान
20 वर्षीय क्लेन पापादिमित्रियो ने 2000 किलोमीटर साइकिल से यात्रा की

यूनान से स्कॉटलैंड पढ़ने गए 20 साल के एक छात्र क्लेन पापादिमित्रियो (Kleon Papadimitriou) को घर की इतनी याद आई कि उसने लॉकडाउन और कोरोना वायरस महामारी के बीच साइकिल उठाई और 2000 किलोमीटर की यात्रा कर डाली.

  • Share this:
लंदन. कोरोना वायरस महामारी (Coronavirus Pandemic) और लॉकडाउन (Lockdown)  के दौरान घर लौटने की अनगिनत कहानियां इतिहास में दर्ज हो गई हैं. इनमें से एक कहानी यूनान से स्कॉटलैंड पढ़ने गए एक छात्र क्लेन पापादिमित्रियो (Kleon Papadimitriou) की भी शामिल हो गई. 20 साल के इस छात्र को घर की इतनी याद आई कि उसने लॉकडाउन और कोरोना वायरस महामारी के बीच अपनी साइकिल उठाई और 2000 किलोमीटर की यात्रा कर डाली. पापादिमित्रियो ने स्कॉटलैंड से यूनान पहुंचने के बीच 48 दिनों तक साइकिल चलाई. घर पहुंचकर जब उसने दस्तक दी और मां-बाप से मुलाकात हुई तो सब एक-दूसरे से गले लिपटकर काफी देर तक गले मिलकर रोते रहे.

इंजीनियरिंग का स्टूडेंट है क्लेन

क्लेन स्कॉटलैंड के एबरडीन यूनिवर्सिटी में इंजीनियरिंग की पढ़ाई कर रहा है. वह इलेक्ट्रिकल और इलेक्ट्रॉनिक विंग में अपनी पढ़ाई कर रहा है. लॉकडाउन के चलते स्कॉटलैंड में स्कूल, कॉलेज और यूनिवर्सिटी कई महीनों से बंद है. इन हालात में क्लेन को लगा कि वह अपने घर यूनान वापिस लौटकर अपने मां-पिता के साथ कुछ समय व्यतीत करें. इसके बाद वे साइकिल से अपने घर जाने के लिए निकल पड़े. हालांकि उसे कुछ घंटों की साइकिल यात्रा के बाद थकान होने लगी तो उसे अपने फैसले पर पछतावा होने लगा.



इन सवालों के बीच रात बिताने का मिला ठिकाना
उन्हें रात कहां बिताएंगे. क्या खाएंगे, क्या पिएंगे और कब घर पहुंचेंगे आदि सवालों के बारे में सोच-सोचकर रोना आ रहा था. इस बीच उसे एक पिज्जा डिलीवरी ब्वॉय मिला और उसने उसे रात में रूकने का ठिकाना बताया. वहां पहुंचकर क्लेन ने अपने मां-पिता को फोन ​करके बताया कि वह कहां पहुंच गया है और वह घर आ रहा है.

पहले दिन की यात्रा के बाद रो पड़े थे क्लेन

क्लेन ने बताया कि यात्रा का पहला दिन बहुत मुश्किलों भरा नजर आया. सबसे अधिक समस्या खराब मौसम और खड़ी चढ़ाई के कारण देखने को मिली. उन्होंने एक दिन में लगभग लगभग 125 मील की दूरी तय की. लेकिन उन्होंने जल्द ही महसूस किया कि इस तरह के लक्ष्य से वो जल्द अपने घर पहुंच पाएंगे, उससे पहले उन्होंने एक दिन में लगभग 75 मील की दूरी तय की थी.

कई दिनों की यात्रा के बाद मित्र के घर किया स्नान

क्लेन लीड्स में एक दोस्त के घर पहुंचे, वहां वह दो दिनों तक रहा. उन्होंने स्कॉटलैंड छोड़ने के बाद से अपने मित्र के यहां पहला स्नान भी किया. यहां से निकलने के बाद उसका अगला मुकाम ब्रिटेन से नीदरलैंड का सफर तय करना था. इस सफर का कुछ हिस्सा उसने नौका पर साइकिल रखकर पूरी की. इसके बाद वह जर्मनी के एक शिविर में पहुंचा. यहां उसके दोस्तों के दोस्त ने रूकने की गुजारिश की. हालांकि किसी ने कोरोनावायरस की वजह से उसे अपने घर में रुकने को नहीं कहा. ऐसे में उसे सड़क या फिर पार्क में टेंट लगाकर रात गुजारनी पड़ी.

ये भी पढ़ें: चीन की अर्थव्यवस्था में आई तेजी पर खर्च करने में अभी भी संकोच कर रहे हैं लोग

चीन के बदले सुर! अमेरिकी विदेशमंत्री पॉम्पिओ से कहा- यहां आएं आपका स्वागत है

क्लेन ने 25 जून को एबरडीन छोड़ा था. 46 दिन की यात्रा के बाद वह ग्रीस पहुंचा. यहां उनके माता-पिता ने उनसे पैट्रास में मुलाकात की. इसके बाद उसका कोरोनोवायरस परीक्षण किया गया, इसकी रिपोर्ट निगेटिव आई. 27 जून को वे एथेंस अपने घर पहुंचे और राहत की सांस ली और कहा- मेरा मनोबल बहुत ऊंचा उठ गया है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading