लाइव टीवी

ज्यादा नमक से जाती हैं हर साल 16 लाख जानें

आईएएनएस
Updated: August 14, 2014, 10:58 AM IST
ज्यादा नमक से जाती हैं हर साल 16 लाख जानें
हर साल हृदयरोगों से संबंधित 16 लाख लोगों की मौत विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) द्वारा निर्धारित मात्रा से अधिक मात्रा में सोडियम का सेवन करने से होती है।

हर साल हृदयरोगों से संबंधित 16 लाख लोगों की मौत विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) द्वारा निर्धारित मात्रा से अधिक मात्रा में सोडियम का सेवन करने से होती है।

  • Share this:
वाशिंगटन। लगभग 187 देशों पर किए गए एक वैश्विक विश्लेषण में शोधकर्ताओं ने पाया कि हर साल हृदयरोगों से संबंधित 16 लाख लोगों की मौत विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) द्वारा निर्धारित मात्रा से अधिक मात्रा में सोडियम का सेवन करने से होती है।

डब्ल्यूएचओ ने प्रतिदिन दो ग्राम सोडियम सेवन की मात्रा निर्धारित की है। टुफ्ट्स यूनिवर्सिटी में फ्राइडमैन स्कूल ऑफ न्यूट्रीशन साइंस एंड पॉलिसी के संकायाध्यक्ष डेरियुश मोजफ्फेरियन ने बताया कि वैश्विक स्तर पर हुई इन 16.5 लाख मौतों में हर 10 में लगभग एक मौत हृदय संबंधी बीमारी से हुई।

शोधकर्ताओं ने पाया कि साल 2010 में सोडियम के सेवन का औसत स्तर 3.95 ग्राम प्रतिदिन था, जो कि डब्ल्यूएचओ द्वारा निर्धारित 2.0 ग्राम से लगभग दोगुना है। उप-सहारा अफ्रीका में 2.18 ग्राम प्रतिदिन से लेकर मध्य एशिया में 5.51 ग्राम प्रतिदिन तक, दुनिया के साभी क्षेत्रों में निर्धारित स्तर से ज्यादा मात्रा में सोडियम का सेवन हो रहा है।

शोधकर्ताओं ने विश्व की तीन चौथाई वयस्क जनसंख्या का प्रतिनिधित्व करने वाले देशों में सोडियम सेवन संबंधी 205 सर्वेक्षणों के मौजूदा आंकड़ों का विश्लेषण किया। कैंब्रिज विश्वविद्यालय के जॉन पावेल्स ने बताया कि हमने पाया कि पांच वैश्विक मौतों में से चार मौतों का संबंध सोडियम के अधिक मात्रा में सेवन करने से था और ये मौतें मध्यम एवं कम आय वाले देशों में हुईं।

शोधकर्ताओं ने यह भी पाया कि सोडियम के सेवन से सभी वयस्कों का रक्तचाप कम हुआ। इसने बुजुर्ग व्यक्तियों, अश्वेतों और पहले से उच्च रक्तचाप के मरीजों को बड़े स्तर पर प्रभावित किया। मोजफ्फरियन ने बाताया कि ये नए परिणाम दुनियाभर में सोडियम का सेवन कम करने के लिए मजबूत नीतियों की जरूरत दर्शाते हैं। ये परिणाम 'न्यू इंग्लैंड जर्नल ऑफ मेडिसिन' में प्रकाशित हुए।

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए दुनिया से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: August 14, 2014, 10:58 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...