लाइव टीवी

धरती से 26 करोड़ साल पहले भी बड़े पैमाने पर विलुप्त हुए थे जीव: अध्ययन

भाषा
Updated: September 17, 2019, 11:46 AM IST
धरती से 26 करोड़ साल पहले भी बड़े पैमाने पर विलुप्त हुए थे जीव: अध्ययन
पृथ्वी से बड़े पैमाने पर जीवों के विलुप्त होने की घटनाओं से जुड़े एक नए अध्ययन में दावा किया गया है कि 26 करोड़ साल पहले भी ऐसी ही एक घटना हुई थी.

पृथ्वी से बड़े पैमाने पर जीवों के विलुप्त होने की घटनाओं से जुड़े एक नए अध्ययन में दावा किया गया है कि 26 करोड़ साल पहले भी ऐसी ही एक घटना हुई थी.

  • भाषा
  • Last Updated: September 17, 2019, 11:46 AM IST
  • Share this:
न्यूयॉर्क. पृथ्वी के इतने लंबे जीवन काल में समय-समय पर करोड़ों जीवों की प्रजातियों ने जन्म लिया है. उनमें से कुछ प्रजातियां आज भी जीवित हैं, जबकि अनेकोंं ऐसी भी हैं जो वर्तमान समय में विलुप्त हो चुकी है. पृथ्वी से बड़े पैमाने पर जीवों के विलुप्त होने की घटनाओं से जुड़े एक नए अध्ययन में दावा किया गया है कि 26 करोड़ साल पहले भी ऐसी ही एक घटना हुई थी.

इस अध्ययन के प्रकाशन से पहले तक ऐसा माना जाता था कि पृथ्वी पर जीवन की उत्पत्ति के बाद सिर्फ पांच बार ऐसा हुआ है जब बड़े पैमाने पर जीवों की प्रजातियों का अस्तित्व खत्म हो गया है. अमेरिका के न्यूयॉर्क विश्वविद्यालय के प्रोफेसर माइक रैम्पिनो ने कहा कि बड़े पैमाने पर प्रजातियों के विलुप्त होने की घटनाओं के कारणों का पता लगाने के लिए यह जरूरी है कि हम उनकी संख्या और वक्त को जानें.

उन्होंने कहा कि बड़े पैमाने पर प्रजातियों के विलुप्त होने की सभी छह बड़ी घटनाएं पर्यावरण के भारी उतार-चढ़ाव से जड़ी हुई हैं. खास तौर से बड़े पैमाने पर हुए लावा उद्गार से. वैज्ञानिकों ने पहले तय किया था कि पृथ्वी पर जीवन की उत्पत्ति के बाद पांच बार ऐसा हुआ है जब बड़े पैमाने पर प्रजातियों का अस्तित्व समाप्त हुआ है और भूवैज्ञानिक काल का अंत हुआ है.

हमारी पृथ्वी साढे़ चार अरब साल पुरानी है. पृथ्वी के इतने लंबे जीवन काल में समय-समय पर करोड़ों जीवों की प्रजातियों ने जन्म लिया है उनमें से कुछ प्रजातियां आज भी जीवित हैं जबकि अनेको ऐसी भी हैं जो वर्तमान समय में विलुप्त हो चुकी है.

ओर्डोविसियन काल का अंत 44.3 करोड़ साल पहले हुआ, ऐसे ही डेवोनियन काल का अंत 37.2 करोड़ साल पहले, परमियन काल का अंत 25.2 करोड़ साल पहले, ट्रियासिक काल का अंत 20.1 करोड़ साल पहले और क्रेटासियस काल का अंत 6.6 करोड़ साल पहले हुआ.

कई अनुसंधानकर्ताओं ने वर्तमान में तेजी से विलुप्त हो रही प्रजातियों को लेकर भी चिंता जतायी है. उनकी आशंका है कि यह बड़े पैमाने पर प्रजातियों के विलुप्त होने का सातवां घटनाक्रम हो सकता है. यह अध्ययन हिस्टोरिकल बायोलॉजी नामक पत्रिका में प्रकाशित हुआ है.

ये भी पढ़ें: नींद में अपनी सगाई की अंगूठी निगल गई महिला, X-Ray देखकर डॉक्टर भी रह गए हैरान

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए दुनिया से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: September 17, 2019, 11:35 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...