जुर्माने से अंजान राजस्थान के 30 श्रमिक फंसे UAE में, कंपनी ने वापस जाने को कहा

जुर्माने से अंजान राजस्थान के 30 श्रमिक फंसे UAE में, कंपनी ने वापस जाने को कहा
प्रतीकात्मक तस्वीर.

एक श्रमिक ने बताया कि कंपनी ने हमारा टिकट (Ticket) बुक कराया था. लेकिन हम उड़ान नहीं भर सके. कंपनी ने अब वापस कमरे पर जाने के लिये कहा है.

  • Share this:
दुबई. संयुक्त अरब अमीरात में वीजा (Visa) समाप्त हो जाने के बाद रह रहे 30 भारतीय श्रमिकों को जुर्माना अदा नहीं करने के कारण भारत जाने वाले विमान में सवार होने से रोक दिया गया है. मीडिया में शुक्रवार को आई खबरों में इसकी जानकारी दी गई है. 'गल्फ न्यूज' की खबर के अनुसार राजस्थान (Rajasthan) के रहने वाले 40 श्रमिकों को 17 जुलाई को चार्टर्ड विमान में सवार होकर जयपुर जाना था. ये सभी श्रमिक निर्माण क्षेत्र में काम करते थे. खबर में कहा गया है कि उनमें से सिर्फ 10 ही आव्रजन जांच पूरा कर सके जबकि बाकी पर जुर्माना बकाया था.

एक श्रमिक ने समाचार पत्र को बताया, 'हममे से कुछ वीजिट वीजा पर यहां आये थे जबकि कुछ अन्य आवासीय वीजा पर जो पहले ही समाप्त हो चुका है. हमें यह पता नहीं था कि हमें जुर्माना देना होगा. कुछ लोगों को दस हजार से 11 हजार दिरहम (2,03,700 — 2,24,000 रुपये) का जुर्माना लगाया गया जबकि कुछ को बहुत कम जुर्माना लगाया गया है. उसके अनुसार फंसे हुए मजदूरों ने हवाई अड्डे पर रहने का फैसला किया क्योंकि पिछले कुछ महीनों से उनकी आय शून्य थी. एक अन्य श्रमिक ने बताया, 'कंपनी ने हमारा टिकट बुक कराया था. लेकिन हम उड़ान नहीं भर सके. कंपनी ने अब वापस कमरे पर जाने के लिये कहा है. हमारे पास खाली कमरे में जाने का कोई मतलब ही नहीं है जहां हमने महीनों बिना वेतन के व्यतीत किये हैं. हमने पड़ोस में रहने वाले श्रमिकों को अपना सारा समान दे दिया है.

ये भी पढ़ें: खुद को बाइडेन से बेहतर बताने के लिए ट्रंप का दावा, कहा- मेरी याददाश्त तेज है



'चार दिन हवाई अड्डे पर रहे श्रमिक
खबर के अनुसार श्रमिकों ने चार दिन हवाई अड्डे पर बिताये. इसके बाद दुबई स्थित भारतीय महावाणिज्य दूतावास उनकी मदद के लिये आगे आया. श्रमिकों को कंपनी की ओर से दिये गये घर में भेज दिया गया है. बाद में उन्हें बिस्तर एवं रसोई घर का सामना मुहैया कराया गया. इस बीच कंपनी ने उनके लिये 27 जुलाई का टिकट बुक कराया है हालांकि, उनका जुर्माने का विवाद अब तक सुलझा नहीं है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज