लाइव टीवी

चीन में बढ़ा SARS वायरस का प्रकोप, भारत के बाद अमेरिका भी सतर्क

भाषा
Updated: January 21, 2020, 11:01 AM IST
चीन में बढ़ा SARS वायरस का प्रकोप, भारत के बाद अमेरिका भी सतर्क
चीन में फैला सार्स वायरस

चीन में 24 जनवरी से नए साल का उत्सव शुरू हो रहा है. इस दौरान लाखों लोग देश के भीतर और दूसरे देशों की यात्रा करते हैं. ऐसे में सार्स वायरस (SARS virus) के संक्रमण को लेकर लोगों की चिंता बढ़ गई है.

  • Share this:
बीजिंग. चीन में एक बार फिर से सीवियर एक्यूट रेस्पिरेटरी सिंड्रोम यानी सार्स वायरस (SARS virus) का प्रकोप है. इस बीमारी से अब तक 4 लोगों की मौत की पुष्टि हुई है. ऐसे में राष्ट्रपति शी जिनपिंग (Xi Jinping) की चिंताए बढ़ गई हैं. जिनपिंग ने इस वायरस को काबू में करने के लिए सभी जरूरी उपाय करने का आदेश दिया है.

चीन की राजधानी बीजिंग समेत कई शहरों में फैले इस वायरस के संक्रमण से 220 से अधिक लोग प्रभावित हैं. विशेषज्ञों का कहना है कि ये वायरस संक्रामक है और तेजी से फैल सकता है. चीन में फैल रहे इस वायरल न्यूमोनिया के बाद जहां भारत ने अलर्ट जारी कर दिया है. वहीं, इससे डरे अमेरिका ने वुहान से आने वाले यात्रियों की एयरपोर्ट पर स्क्रीनिंग शुरू कर दी गई है. एयरपोर्ट पर चेकिंग के लिए खास तौर पर अधिकारी लगाए गए हैं.

संक्रामक रोगों पर चीन के एक शीर्ष विशेषज्ञ ने सार्स जैसे वायरस के मनुष्यों के बीच संक्रमण की पुष्टि की है जो देशभर में फैल चुका है और तीन अन्य एशियाई देशों में भी पहुंच चुका है. चीनी अधिकारियों ने कहा कि वुहान शहर में कोरोनोवायरस संक्रमण के चलते इस हफ्ते के अंत में चौथी मौत हुई.

बता दें कि चीन में 24 जनवरी से नए साल का उत्सव शुरू हो रहा है. इस दौरान लाखों लोग देश के भीतर और दूसरे देशों की यात्रा करते हैं. ऐसे में सार्स वायरस (SARS virus) के संक्रमण को लेकर लोगों की चिंता बढ़ गई है.

क्या है सार्स?
डब्ल्यूएचओ के मुताबिक, सार्स सांस की एक बीमारी है, जो कोरोना वायरस से होती है. ये वायरस सी-फूड से जुड़ा है. कोरोना वायरस विषाणुओं के परिवार का है. यह वायरस ऊंट, बिल्ली या चमगादड़ सहित कई पशुओं में भी प्रवेश कर रहा है.

ये है लक्षणकोरोना वायरस के मरीजों में आमतौर पर जुखाम, खांसी, गले में दर्द, सांस लेने में दिक्कत, बुखार जैसे शुरुआती लक्षण देखे जाते हैं. इसके बाद ये लक्षण न्यूमोनिया में बदल जाते हैं और किडनी को नुकसान पहुंचाते हैं. अभी तक इस वायरस से निजात पाने के लिए कोई वैक्सीन नहीं बनी है.

वुहान में आया था पहला मामला
इस वायरस का सबसे पहला मामला चीन के चर्चित शहर वुहान में सामने आया और एक हफ्ते के अंदर 136 मामले देखे गये जो अभी बढ़कर 220 हो गए हैं.

 

ये भी पढ़ें : 3 देशों तक पहुंची चीन की ये रहस्यमयी बीमारी, अब तक 3 की मौत

भारतीय शिक्षिका चीन में हुई कोरोना वायरस से संक्रमित, किसी विदेशी के साथ पहला मामला

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए दुनिया से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 21, 2020, 7:55 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर