मालदीव: चुनाव परिणामों को यामीन की चुनौती के बाद डरकर श्रीलंका भागे 4 चुनाव अधिकारी

संवैधानिक रूप से यामीन 17 नवंबर तक पद पर बने रह सकते हैं, उसी दिन उन्हें सोलिह को सत्ता सौंपनी है. बशर्ते कि अदालत की ओर से अंतिम समय में इसमें कोई दखल नहीं हो.

News18Hindi
Updated: October 13, 2018, 3:45 PM IST
मालदीव: चुनाव परिणामों को यामीन की चुनौती के बाद डरकर श्रीलंका भागे 4 चुनाव अधिकारी
अब्दुल्ला यामीन (File Photo)
News18Hindi
Updated: October 13, 2018, 3:45 PM IST
मालदीव में चुनाव कराने वाले इलेक्शन पैनल के चार सदस्यों के देश छोड़कर भागने की खबर है. शनिवार को दो अधिकारियों ने बताया कि धमकी और डराने के बाद चुनाव अधिकारी देश छोड़ने के लिए मजबूर हुए. यह खबर मालदीव की सर्वोच्च अदालत द्वारा अब्दुल्ला यामीन की याचिका पर सुनवाई से ठीक एक दिन पहले आई है. अब्दुल्ला यामीन ने चुनाव में हार को सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दी है जिसपर रविवार को सुनवाई होगी.

मालदीव में पिछले साल फरवरी से राजनीतिक उथल-पुथल चल रही है. पिछले साल फरवरी में यामीन ने आपातकाल की घोषणा की थी. इसके बाद पिछले महीने संपन्न हुए चुनाव में उन्हें हार का सामना करना पड़ा था. मालदीव में विपक्ष की कोशिश 17 नवंबर से पहले सत्ता हस्तांतरण की है.

समाचार एजेंसी रॉयटर्स के अनुसार मालदीव के दो अधिकारियों ने नाम न छापने की शर्त पर कहा कि इलेक्शन पैनल के चार अधिकारी देश छोड़ चुके हैं, जिनमें से तीन श्रीलंका में है. उनमें से एक ने अपनी पहचान बताए बिना कहा कि जीवन पर खतरे की वजह से उन्होंने देश छोड़ा है.

हालांकि यामीन की पार्टी ने खतरे के आरोपों को नकारते हुए कहा कि चुनाव अधिकारी इसलिए भागे क्योंकि मतदान के बारे में एक ऑडियो रिकॉर्डिंग के लीक होने से लोगों में आक्रोश बढ़ गया.

बता दें कि बुधवार को अब्दुल्ला यामीन की पार्टी प्रोग्रेसिव पार्टी ऑफ मादीव्ज (पीपीएम) ने कोर्ट में याचिका दायर कर राष्ट्रपति चुनाव में धांधली का आरोप लगाया था. बता दें कि संवैधानिक रूप से यामीन 17 नवंबर तक पद पर बने रह सकते हैं, उसी दिन उन्हें सोलिह को सत्ता सौंपनी है. बशर्ते कि अदालत की ओर से अंतिम समय में इसमें कोई दखल नहीं हो.

ये भी पढ़ें: मालदीव के नए राष्ट्रपति के शपथ ग्रहण समारोह के लिए PM मोदी को बुलावा
Loading...

और भी देखें

Updated: October 22, 2018 11:04 AM ISTH1B वीज़ा के नए नियम छीन सकते हैं अमेरिका में भारतीयों की नौकरी
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर