'सिंगापुर के 44 प्रतिशत लोगों को नहीं पसंद सोशल डिस्टेंसिंग और मास्क पहनना'

'सिंगापुर के 44 प्रतिशत लोगों को नहीं पसंद सोशल डिस्टेंसिंग और मास्क पहनना'
कॉन्सेप्ट इमेज.

सिंगापुर (Singapore) में एक सर्वेक्षण में पाया गया है कि वहां की 44 प्रतिशत आबादी कोरोना से बचने के उपायों से उब चुकी है. इनमें से 27 प्रतिशत लोगों ने मास्क (Mask) पहनने को लेकर निराशा जताई.

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 16, 2020, 5:28 PM IST
  • Share this:
सिंगापुर. सिंगापुर (Singapore) की 44 प्रतिशत आबादी कोरोना वायरस (Coronavirus) के संक्रमण से बचने के लिए मास्क पहनने सहित अपनाए जा रहे अन्य कड़े चिकित्सा उपायों से उब चुकी है क्योंकि उनका मनना है कि उम्मीद से कहीं लंबे समय तक महामारी खिंच गई है. यह खुलासा 'संडे टाइम्स' के एक सर्वेक्षण में हुआ. ऑनलाइन बजार अनुसंधान करने वाली कंपनी ने ये नतीजे 16 साल से अधिक उम्र के करीब एक हजार लोगों पर किए गए ऑनलाइन सर्वेक्षण के आधार पर निकाले हैं. सर्वेक्षण में शामिल होने वाले 44 प्रतिशत प्रतिभागियों ने कहा कि वे कोविड-19 से बचने के लिए अपनाए जा रहे स्वास्थ्य उपायों से उब चुके हैं. सर्वेक्षण में शामिल 27 प्रतिशत लोगों ने कहा कि वायरस से बचने के लिए मास्क पहना सबसे निराशाजनक लगता है.

सर्वेक्षण में शामिल पांच में से एक व्यक्ति ने कहा कि ऐप के आधार पर सार्वजनिक स्थानों पर सुरक्षित प्रवेश एवं निकासी से परेशानी होती है. वहीं, 14 प्रतिशत लोग एक स्थान पर दोस्तों और परिवार के सदस्यों के साथ जमा होने पर लगाई गई सीमा से नाखुश हैं. सर्वेक्षण के मुताबिक लोग विदेश नहीं जा पाने, कार्यक्रमों के रद्द या स्थगित होने, सार्वजनिक स्थलों पर जाने को लेकर लगाई गई पाबंदी से भी नाखुश हैं. उदाहरण के लिए लोग दस किलोमीटर के दायरे में मौजूद स्टेडियम, तरण-ताल और जिम में ही जा सकते हैं. सर्वेक्षण में शामिल दस लोगों में से चार ने कहा कि नियम कड़े लेकिन तार्किक हैं जबकि पांच प्रतिशत लोगों का कहना है कि नियम जरूरत से अधिक सख्त हैं. सर्वेक्षण के नतीजों पर विशेषज्ञों का कहना है कि कोरोना वायरस को लेकर उबन प्राकृतिक है.

हमेशा मास्क पहने रहना सामान्य व्यवहार नहीं
सिंगापुर राष्टीय विश्वविद्यालय से सबद्ध सॉ स्वी हॉक स्कूल ऑफ पब्लिक हेल्थ के प्रोफेसर टियो यिक यिंग ने कहा, 'घर से बाहर जाते वक्त हमेशा मास्क पहने रहना सामान्य व्यवहार नहीं है.' उन्होंने कहा कि हालांकि, विशेषज्ञ इस बात पर सहमत हैं कि प्रशासन को यह सुनश्चित करना चाहिए कि कोविड-19 के खिलाफ सामूहिक लड़ाई कमजोर नहीं पड़े. हालांकि, बोझिलपन के बावजूद अधिकतर लोगों ने कहा कि वे इन नियमों के पीछे के कारण को समझते हैं. सर्वेक्षण में शामिल 76 प्रतिशत लोगों ने कहा कि वे सही तरीके से मास्क पहनते हैं जबकि 20 प्रतिशत ने कहा कि वे अधिकतर समय मास्क पहने रहते हैं.
ये भी पढ़ें: भारत और नेपाल के रिश्ते फिर से हुए मजबूत, इस मेगा प्रोजेक्ट के निर्माण में आई तेजी...



सामाजिक दूरी का पालन
सर्वेक्षण में शामिल 43 प्रतिशत लोगों ने कहा कि आसपास अधिकारियों के नहीं होने पर भी वे सामाजिक दूरी का अनुपालन करते हैं. वहीं अन्य 43 प्रतिशत ने कहा कि वे अधिकतर समय इस नियम का पालन करते हैं, जबकि 10 प्रतिशित ने कहा कि वे समय-समय पर इसका अनुपालन करते हैं. सर्वेक्षण में खुलासा हुआ कि 35 साल से अधिक उम्र के लोगों के मुकाबले युवा अधिक बाहर जाकर लोगों से मिल- जुल रहे हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज