• Home
  • »
  • News
  • »
  • world
  • »
  • तुर्की के हमले में मारे गए कम से कम 50 पाकिस्तानी लड़ाके

तुर्की के हमले में मारे गए कम से कम 50 पाकिस्तानी लड़ाके

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक इस वक्त सीरिया में करीब 800 पाकिस्तानी लड़ाके जंग के मैदान में है.

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक इस वक्त सीरिया में करीब 800 पाकिस्तानी लड़ाके जंग के मैदान में है.

अरब न्यूज़ के मुताबिक लड़ाई में 50 से ज़्यादा पाकिस्तानी लड़ाके (Pakistani Fighters) मारे गए हैं. हालांकि पाकिस्तान की तरफ से किसी सरकारी सूत्र ने इन मौतों की पुष्टि नहीं की है.

  • Share this:
    इदलिब. सीरिया (Syria) में इन दिनों बशर अल असद सरकार और उनके विरोधी धड़ों के बीच जंग जोरदार चल रही है. खबर है कि इसी दौरान वहां तुर्की (Turkey) के हमले में पाकिस्तान के भी 50 लड़ाकों की मौत हो गई है. ये सारे लड़ाके सीरियाई सरकार की तरफ से जंग लड़ रहे थे. बता दें कि पिछले महीने तुर्की ने सीरियाई सरकार से लड़ने के लिए हज़ारों सैनिक वहां भेजे हैं.

    शिया समर्थक हैं पाकिस्तानी लड़ाके
    अरब न्यूज़ के मुताबिक, इस लड़ाई में 50 से ज़्यादा पाकिस्तानी लड़ाके मारे गए हैं. हालांकि पाकिस्तान की तरफ से किसी सरकारी सूत्र ने इन मौतों की पुष्टि नहीं की है. कहा जा रहा है कि मारे गए पाकिस्तानी लड़ाके लीवा ज़ैनबियून संगठन के थे. इस संगठन में पाकिस्तान के सारे शिया समर्थक हैं. कहा जा रहा है कि इस संगठन को ईरान के रेवूल्युशनरी गार्ड ने खड़ा किया है और यहीं से इन्हें ट्रेनिंग भी मिलती है. इस संगठन का मकसद है ईरान और सीरिया में शिया समुदाय की रक्षा करना. मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक इस वक्त सीरिया में करीब 800 पाकिस्तानी लड़ाके जंग के मैदान में है.

    इदलिब की लड़ाई
    बता दें कि साल 2015 से सीरिया के इदलिब शहर पर कई संगठनों का कब्ज़ा है, जिसमें अल कायदा और हयात तहरीर अल-शामिल है. संयुक्त राष्ट्र की रिपोर्ट के मुताबिक इदलिब में इन दो संगठनों के करीब 12-15 हज़ार लड़ाके हैं. इसके अलावा इस्लामिक स्टेट (IS) के भी सैकड़ों आतंकी सरकार के खिलाफ जंग कर रहे हैं. इदलिब में संघर्ष के बाद लाखों लोग अपने घरों को छोड़ चुके हैं. इस दौरान तुर्की के कई सैनिक भी मारे गए हैं.

    संघर्ष विराम मानने से इनकार
    इस बीच अमेरिका ने सीरिया में संघर्षविराम को लेकर रूस और तुर्की के बीच हुए समझौते का समर्थन करने वाले संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के बयान को स्वीकार करने से इनकार कर दिया है. राजनयिकों ने बंद कमरे में हुई बैठक के बाद यह जानकारी दी. राजनयिकों के अनुसार संयुक्त राष्ट्र में रूस के राजदूत वैसिली नेबेन्जिया ने सुरक्षा परिषद के 14 अन्य सदस्य देशों से संयुक्त बयान का समर्थन करने का आग्रह किया था, जिसे अमेरिका ने 'असामयिक' करार देते हुए शुक्रवार को इसे खारिज कर दिया.

    ये भी पढ़ें- मोदी ने ऑस्‍ट्रेलिया के PM से कहा- T20 फाइनल में नीले रंग में रंगेगा MCG

    होली से पहले रेल यात्रियों को बड़ा झटका, कैंसिल की गई 358 ट्रेनें

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज