Home /News /world /

80 cases of monkeypox virus 80 confirmed in 11 countries who says efforts are on to find out the cause of infection

11 देशों में 'मंकीपॉक्स' के 80 मामलों की पुष्टि, WHO ने कहा- संक्रमण के कारणों का पता लगाने की कोशिश जारी

विश्व स्वास्थ्य संगठन ने कहा- और बढ़ सकते हैं मंकीपॉक्स के मामले (फाइल फोटो)

विश्व स्वास्थ्य संगठन ने कहा- और बढ़ सकते हैं मंकीपॉक्स के मामले (फाइल फोटो)

Monkeypox Virus Cases: दुनिया के कुछ देशों में मंकीपॉक्स वायरस के बढ़ते मामलों ने चिंता बढ़ा दी है. विश्व स्वास्थ्य संगठन ने 11 देशों में इस वायरस के 80 मामलों की पुष्टि की है. इस संक्रमण की उत्पत्ति का कारण और इससे जुड़े प्रभाव को बेहतर तरीक से जानने के लिए वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गेनइजेशन काम कर रहा है.

अधिक पढ़ें ...

जिनेवा: कोरोना वायरस के बाद अब मंकीपॉक्स वायरस (Monkeypox Virus) के बढ़ते मामलों ने चिंता बढ़ा दी है. विश्व स्वास्थ्य संगठन ने इस बात की पुष्टि की है कि 11 देशों में इस वायरस के 80 केस मिले हैं. इस संक्रमण की उत्पत्ति का कारण और इससे जुड़े प्रभाव को बेहतर तरीक से जानने के लिए वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गेनइजेशन काम कर रहा है.

विश्व स्वास्थ्य संगठन ने शुक्रवार को जारी एक बयान में कहा कि, पशुओं की कुछ आबादी में यह वायरस एक स्थानिक बीमारी है और कभी-कभी यह स्थानीय लोगों और यात्रियों को अपना शिकार बनाती है.

डब्ल्यूएचओ और उसके सहयोगियों ने कहा कि, हम मंकीपॉक्स के ट्रांसमिशन और प्रभाव क्षेत्र के बारे में अधिक जानकारी हासिल करने के लिए काम कर रहे हैं. कुछ देशों की पशु आबादी में यह वायरस एक स्थानिक बीमारी है. हाल ही में 11 देशों में इसके असामान्य मामले सामने आए हैं और ये सभी मामले गैर स्थानिक बीमारी वाले देशों में सामने आए हैं.

विश्व स्वास्थ्य संगठन ने बताया कि, अब तक करीब 80 मामलों की पुष्टि हो चुकी है और 50 पेंडिंग केस की जांच जारी है. इसके अलावा सर्विलांस बढ़ाने पर ये मामले बढ़ सकते हैं.

क्या कोरोनावायरस से भी खतरनाक है मंकीपॉक्स वायरस? इस तरह फैलती है ये बीमारी, जानें लक्षण

भारत में भी केंद्र सरकार मंकीपॉक्स वायरस को लेकर अलर्ट हो गई है. समाचार एजेंसी एएनआई ने सूत्रों के हवाले से कहा कि, केंद्र ने एनसीडीसी और आईसीएमआर को विदेश में मंकीपॉक्स की स्थिति पर कड़ी नजर रखने और प्रभावित देशों से आने वाले संदिग्ध बीमार यात्रियों के नमूने को आगे की जांच के लिए पुणे स्थित एनआईवी भेजने का निर्देश दिया है.

मंकीपॉक्स मानव चेचक के समान एक दुर्लभ वायरल संक्रमण है. यह पहली बार 1958 में शोध के लिए रखे गए बंदरों में पाया गया था. मंकीपॉक्स से संक्रमण का पहला मामला 1970 में दर्ज हुआ था. यह रोग मुख्य रूप से मध्य और पश्चिम अफ्रीका के उष्णकटिबंधीय वर्षावन क्षेत्रों में होता है और कभी-कभी अन्य क्षेत्रों में पहुंच जाता है.

विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) के अनुसार, मंकीपॉक्स आमतौर पर बुखार, दाने और गांठ के जरिये उभरता है और इससे कई प्रकार की चिकित्सा जटिलताएं पैदा हो सकती हैं. रोग के लक्षण आमतौर पर दो से चार सप्ताह तक दिखते हैं, जो अपने आप दूर होते चले जाते हैं.

Tags: Coronavirus, WHO

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर