नेपाल में तबाही का मंजर, भूस्खलन में नौ लोगों की मौत, 40 लापता

नेपाल में तबाही का मंजर, भूस्खलन में नौ लोगों की मौत, 40 लापता
फाइल इमेज.

नेपाल (Nepal) में महज आठ घंटों के दरम्यान दो जगहों पर हुए भूस्खलन (Landslide) में मलबे के नीचे दबने से नौ लोगों की मौत हो गई जबकि 40 से अधिक लोग घायल हो गए. दोनों ही जगह बचाव और राहत कार्य जारी हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 14, 2020, 8:59 PM IST
  • Share this:
काठमांडू. नेपाल के सिंधुपालचोक जिले में शुक्रवार को भूस्खलन से लगभग 40 लोग लापता हो गए और कई मकान नष्ट हो गए. वहीं 9 लोगों की मौत हो गई है. समाचार पत्र 'हिमालयन टाइम्स' की खबर के अनुसार, भूस्खलन सुबह छह बजे लामा टोल के ऊपर से हुआ. सुरक्षाकर्मियों ने राहत एवं बचाव अभियान चलाया. नेपाल के प्रतिनिधि सभा के अध्यक्ष अग्नि प्रसाद सपकोटा ने मौके पर पहुंचकर नुकसान और राहत कार्यों का जायजा लिया. सपकोटा के प्रेस समन्वयक श्रीधर नुपाने ने बताया कि इस घटना में 30 से अधिक मकान मलबे में दब गये और 37 लोग लापता है.

भूस्खलन की पहली घटना कालिकोट महावाई गाऊ पालिका वार्ड नंबर तीन नाकू गांव में बृहस्पतिवार रात हुई. रात में हुई भारी बारिश के बाद हुए भूस्खलन में मलबे के नीचे दबने से यहां छह लोगों की मौत हो गई. मृतकों में एक ही परिवार के चार बच्चे हैं. मृतकों में राज बहादुर बिस्टा के परिवार में पुत्र पुष्पा (13),  प्रवीण (11), बेटी सविना 18) और आशा (15) शामिल हैं. पड़ोस में ही रहने वाले राजबहादुर बिस्सा के भाई दिल बहादुर बिस्सा (19) और रेशमा बिस्सा की दस वर्षीय बेटी शांति की भी मौत का कारण भूस्खलन बना. स्थानीय चित्रा सिंह ने बताया कि नाकू गांव में भूस्खलन के कारण 35 घरों को नुकसान हुआ है. दूसरी घटना नेपाल के सिंधुपालचौक जिले की जुगल ग्राम नगरपालिका वार्ड नंबर दो में बृहस्पतिवार सुबह हुई. यहां हुए भूस्खलन में 38 लोग लापता हो गए जबकि तीन लोगों की मौत हो गई. राहत और बचाव कार्य के दौरान तीनों लोगों के शव बरामद कर लिए गए. ग्राम नगर पालिका उपाध्यक्ष सरजाना तमांग ने जानकारी दी कि भूस्खलन का मलबा 37 घरों में भर जाने से कम से कम 38 लोग दब गए.

ये भी पढ़ें: अमेरिका से डरा चीन, सेना को दे दिया गोली ना चलाने का आदेश



बचाव अभियान जारी
भूस्खलन के मलबे में दबे हुए लोगों की तलाश और बचाव अभियान चल रहा है. मलबे में तीन लोगों के शव भी बरामद हो चुके हैं. बचाव कार्य के दौरान पांच लोगों को मलबे से बाहर निकाला गया. हालत नाजुक होने के कारण उन्हें तुरंत चौतरा स्थित अस्पताल ले जाया गया. जानकारी होने पर स्पीकर अग्नि प्रसाद सपकोटा भूस्खलन स्थल लिदी पहुंचे और वहां की स्थिति की जानकारी ली. जुगल गांव पालिका के वार्ड नंबर दो के ग्राम प्रधान प्रताप लामा अध्यक्ष ने बताया कि उन्हें स्थानीय लोगों के जरिए भूस्खलन के कारण हुए बड़े मानवीय नुकसान की जानकारी मिली, राहत कार्य जारी है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज