यहां 31 लोगों की हत्या के बाद बदले की कार्रवाई में 9 सैनिकों का मर्डर

यहां 31 लोगों की हत्या के बाद बदले की कार्रवाई में 9 सैनिकों का मर्डर
माली में 31 लोगों की हत्या के बाद बदले की कार्रवाई 9 सैनिकों को मार डाला

माली के कई गांवों पर अज्ञात हथियारबंद (Gunmen) लोगों ने इस सप्ताह एक साथ हमले किये और 31 नागरिकों (Thirty One Civilian Killed) की हत्या कर दी. हमलावरों ने इस हमले का जवाब देने वाले नौ सैनिकों को भी मार (Nine Soldiers Killed) डाला.

  • Share this:
बमाको. माली के कई गांवों पर अज्ञात हथियारबंद (Gunmen) लोगों ने इस सप्ताह एक साथ हमले किये और 31 नागरिकों (Thirty One Civilian Killed) की हत्या कर दी. हमलावरों ने इस हमले का जवाब देने वाले नौ सैनिकों को भी मार (Nine Soldiers Killed) डाला. देश में लगातार बढ़ रही हिंसा के कारण हो रही बर्बादी के बीच यह घटना सामने आई है. वर्ष 2012 में विशाल पश्चिमी उत्तर अफ़्रीकी देश में पैदा हुए इस्लामी विद्रोह के कारण इस तरह की घटनाएं घट रही हैं और इसमें जातीय तनाव भी आग में घी का काम कर रहा है.

फुलानी और डोगन समुदायों के बीच बढ़ा संघर्ष

हाल ही में फुलानी और डोगन समुदायों के बीच संघर्ष बढ़ा है. आरंभ में इन्होंने समुदायों की रक्षा के लिए रक्षक सेना गठित की थी जो अब हिंसक हमलों को अंजाम दे रही है. फुलानी पेशे से खानाबदोश चरवाहे और डोगन पारंपरिक शिकारी रहे हैं. बुधवार को पिकअप ट्रकों में यात्रा कर रहे कुछ सशस्त्र वर्दीधारी पुरुषों ने चार डॉगन गांवों पर हमला किया जिसमें महिलाओं, बच्चों और बुजुर्गों सहित कम से कम 31 लोग मारे गए जबकि कुछ लोग लापता भी बताये जा रहे हैं.



हमलावरों ने झोपड़ियां और फसलें जला दी
इस हमले में झोपड़ियों और फसलों को आग लगा दी गई और मवेशियों को भी जला दिया गया है. हमले का शिकार होने वाले गाँवों में से एक गाँव गौसरी के एक बुजुर्ग यूसुफ़ टियासोग ने बताया कि 3 बजे से लेकर 9 बजे तक कोई भी हमारे बचाव के लिए नहीं आया. सेना की एक इकाई को इस इलाके में मदद के लिए भेज दिया गया है और उन्होंने बुधवार को 31 शवों को दफनाने में मदद भी की.

ये भी पढ़ें: जानिए क्यों, WHO ने हाइड्रोक्सीक्लोरोक्वीन समेत इन दवाओं के परीक्षण पर लगाया रोक

पाकिस्तान के पीएम इमरान ने कहा, हर कीमत पर बनाएंगे चीन-पाकिस्तान आर्थिक गलियारा

सेना का कहना है कि फिलहाल किसी भी समूह पर इस हमले का आरोप सिद्ध नहीं हुआ है इसलिए किसी को दोषी नहीं ठहराया जा सकता. पिछले साल भी इसी तरह के हमले में 160 लोगों की हत्या कर दी गई थी.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading