पाकिस्तान में 900 बच्चें HIV पीड़ित मिले, झोलाछाप डाक्टर कि है करतूत

पाकिस्तान में 900 बच्चें HIV पीड़ित मिले, झोलाछाप डाक्टर कि है करतूत
पाकिस्तान में 1100 लोग एचआईवी पॉजिटिव पाए गए

इतने ज्यादा लोगों के एक साथ एचआईवी पीड़ित (HIV Positive) होने से पाकिस्तान सरकार में हड़कम मच गया है. इसके पीछे एक झोलाछाप डॉक्टर का हाथ बताया जा रहा है. इस डॉक्टर ने बिना सोचे समझे कई जिंदगियों के साथ खिलवाड़ किया.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 31, 2019, 12:36 PM IST
  • Share this:
पाकिस्तान. पाकिस्तान (Pakistan) के रतोडेरा शहर में 1100 लोग एचआईवी (HIV) पॉजिटिव पाए गए जिनमें 900 बच्चें शामिल हैं. पाकिस्तान के सिंध प्रांत के लरकाना ज़िले के राटोडेरो में अप्रैल में इस संक्रमण का पता लगा था. तब से अब तक करीब 1100 लोग एचआईवी पॉजिटिव पाए गए हैं. इतने ज्यादा लोगों के एक साथ एचआईवी पीड़ित (HIV Positive) होने से पाकिस्तान सरकार में हड़कम मच गया है. इसके पीछे एक झोलाछाप डॉक्टर का हाथ बताया जा रहा है. इस डॉक्टर ने बिना सोंंचे समझे कई जिंदगियों के साथ खिलवाड़ किया.

इस तरह से हुए लोग HIV संक्रमण का शिकार
पाकिस्तान का झोलाछाप डॉक्टर मुजफ्फर घंघरू एक ही सीरिंज से लोगों को इंजेक्शन लगाता था. मरीजों ने बताया कि आरोपी डॉक्टर सीरिंज को बदलता नहीं था और एक ही सुई को बच्चों को लगा देता था. जिससे एक के बाद एक लोग एचआईवी संक्रमित होते चले गए. बच्चों के परिजनों ने बताया कि उन्हें पता था कि डॉक्टर एक ही सीरिंज को बार-बार इस्तेमाल कर रहा है, उनके टोकने पर डॉक्टर ने उन्हें डांटते हुए कहा कि वो लोग गरीब हैं और नई सीरिंज का खर्चा नहीं उठा पाएंगे. इस डॉक्टर ने यह भी कहा कि अगर वे उससे इलाज नहीं करवाना चाहते, तो कहीं और जा सकते हैं. पीड़ित बच्चों के पिता ने बताया कि इनके 6 बच्चों का इलाज इसी डॉक्टर ने किया था.

संक्रमण फैलने का हो सकता है कोई और भी कारण
इतनी तेजी से संक्रमण फैलने का कारण कुछ और भी हो सकता है. लेकिन संक्रमित लोगों में से ज्यादातर लोग उस के ही मरीज हैं. जांच अधिकारियों का कहना है कि एचआईवी मिलने के पीछे के कारणों का पता लगाया जा रहा है. जांच अधिकारियों ने बताया कि यहां नाई भी एक ही रेजर कई बार उपयोग करता है. इसी तरह का काम डेंटिस्ट भी करता है.



बढ़ सकती है ये संख्या
आम लोगों के बीच एचआईवी को लेकर जागरूकता नही है. पाकिस्तान के राटोडेरो में लगभग दो लाख लोग रहते हैं लेकिन इनमें से एक तिहाई से भी कम की एचआईवी जांच नहीं हुई है इसलिए ऐसा माना जा रहा है कि एचआईवी संक्रमित लोगों की संख्या इससे भी अधिक हो सकती है. एचआईवी पीड़ित बच्चों की उम्र 12 साल से कम है.

कई संगठन आये मदद के लिए
कई अंतर्राष्ट्रीय स्वास्थ्यकर्मी रतोडेरा इलाके में मरीजों की एचआईवी जांच और उनके इलाज के लिए पहुंच रहे हैं. ताकि लोगों में एचआईवी को लेकर किसी तरह की अफवाह न फैले. विश्व स्वास्थ्य संगठन ने बड़ी संख्या में एचआईवी जांच किट मुहैया कराई हैं.

पाकिस्तान सरकार ने उठाया ये कदम
तेजी से वायरस न फैले इसलिए पाकिस्तान सरकार ने कथित तौर पर उन क्लीनिकों, ब्लड बैंकों और डॉक्टरों की दुकानों को बंद कर दिया है, जिनका पंजीकरण नहीं हुआ है.

ये भी पढ़ें : कराची-रावलपिंडी एक्सप्रेस में लगी भीषण आग, 65 यात्रियों की मौत, 3 बोगियां खाक
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading