Home /News /world /

UNHRC में बलूचिस्‍तान: आतंकियों को पालता है पाकिस्‍तान, दुनिया के लिए बना सबसे बड़ा खतरा

UNHRC में बलूचिस्‍तान: आतंकियों को पालता है पाकिस्‍तान, दुनिया के लिए बना सबसे बड़ा खतरा

समाद बलोच ने कहा, पाकिस्‍तान न सिर्फ बलूचिस्‍तान में जनसंहार कर रहा है, बल्कि हमारे दूसरे सिंधी और पश्‍तून भाइयों की हत्‍या में भी शामिल है.

समाद बलोच ने कहा, पाकिस्‍तान न सिर्फ बलूचिस्‍तान में जनसंहार कर रहा है, बल्कि हमारे दूसरे सिंधी और पश्‍तून भाइयों की हत्‍या में भी शामिल है.

जिनेवा में चल रही संयुक्‍त राष्‍ट्र मानवाधिकार परिषद (UNHRC) की बैठक में भी बलूचिस्तान (Balochistan) आजादी का मुद्दा गरमाता जा रहा है. जिनेवा में बलोच मानवाधिकार परिषद (BHRC) के महासचिव समाद बलोच (Samad Bloch) ने कहा कि पाकिस्‍तान (Pakistan) पूरी दुनिया के लिए खतरा बन चुका है.

अधिक पढ़ें ...
  • News18Hindi
  • Last Updated :
    जिनेवा. बलूचिस्तान (Balochista) में अक्‍सर पाकिस्तान (Pakistan) से आजादी के नारे लगाए जाते हैं. लोग सड़कों पर उतरकर पाकिस्‍तान के खिलाफ विरोध-प्रदर्शन करते हैं. बलू‍चिस्‍तान के लोग कई दशक से पाकिस्‍तान से आजादी के लिए लड़ रहे हैं. अब जिनेवा में चल रही संयुक्‍त राष्‍ट्र मानवाधिकार परिषद (UNHRC) की बैठक में भी बलूचिस्तान की आजादी का मुद्दा गरमाता जा रहा है. जिनेवा में बलोच मानवाधिकार परिषद (BHRC) के महासचिव समाद बलोच (Samad Bloch) ने कहा कि पाकिस्‍तान पूरी दुनिया के लिए खतरा बन चुका है. वहीं, अपने पड़ोसियों के लिए यह देश सबसे बड़ा खतरा बन गया है. वहीं, पाकिस्‍तान में अल्‍पसंख्‍यकों के साथ हर दिन अन्‍याय होता है.

    'सिंधी और पश्‍तूनों की हत्‍या में भी शामिल है पाकिस्‍तान'
    समाद बलोच ने कहा कि पाकिस्‍तान आतंकवाद को पैदा करता है और उन्‍हें पालता है. पाकिस्‍तान न सिर्फ बलूचिस्‍तान में जनसंहार कर रहा है, बल्कि हमारे दूसरे सिंधी और पश्‍तून भाइयों की हत्‍या में भी शामिल है. पाकिस्‍तान में न तो कानून है और न ही लोगों को न्‍याय मिलता है. ऐसे में यह देश पूरी दुनिया के लिए बड़ा खतरा बन गया है. समाद ने आरोप लगाया कि पाकिस्‍तान विदेश और अंतरराष्‍ट्रीय संगठनों से आतंकवाद (Terrorism) के खिलाफ लड़ने के लिए मिलने वाले फंड का इस्‍तेमाल मदरसा बनाने, आत्‍मघाती हमलावर तैयार करने और आतंकी गतिविधियों को चलाने में करता है. पाकिस्‍तान की सरकारों में बैठे लोग अपने बच्‍चों को बेहतर शिक्षा के लिए पश्चिमी देशों में भेजते हैं, जबकि हमारे बच्‍चों को मदरसों में पढ़ने के लिए प्रोत्‍साहित करते हैं ताकि आतंकवाद को बढ़ाने का उनका मकसद पूरा हो सके.

    आतंकियों पर कार्रवाई को लेकर पूरी दुनिया से बोला जा रहा झूठ
    समाद ने कहा कि पाकिस्‍तान में किसी आतंकवादी या आतंकी संगठन पर कोई ठोस कार्रवाई नहीं की जा रही है. पाकिस्‍तान की मीडिया, नेता और सेना दुनिया से झूठ बोल रहे हैं. पाकिस्‍तान की अर्थव्‍यवस्‍था (Economy) चौपट हो चुकी है. इसलिए अंतरराष्‍ट्रीय मुद्रा कोष (IMF) और विश्‍व बैंक (World Bank) जैसे अंतरराष्‍ट्रीय कर्जदाताओं ने उससे हाथ खींच लिए हैं. कश्‍मीर में मानवाधिकारों की वकालत करने वाला पाकिस्‍तान बलूचिस्‍तान में मानवाधिकारों का हनन करते हुए अल्‍पसंख्‍यकों का जनसंहार (Genocide) कर रहा है. उसकी सेना बलूचिस्तान में जुल्म करने का हर रिकॉर्ड तोड़ रही है. यह देश आतंकियों के लिए दुनिया की सबसे सुरक्षित पनाहगाह बन चुका है.

    पाकिस्‍तान ने बलूचिस्‍तान के संसाधनों को सिर्फ लूटा है
    बलोच मानवाधिकार परिषद के महासचिव ने कहा कि आजादी के सात दशक बाद भी पाकिस्‍तान के सबसे बड़े प्रांत बलूचिस्तान को सबसे तनावग्रस्त इलाका माना जाता है. आर्थिक और सामाजिक स्‍तर पर बलूचिस्तान पाकिस्तान के सबसे पिछड़े राज्यों में गिना जाता है. हमने बहुत कुछ झेला है. हमारे सामाजिक-सांस्कृतिक, आर्थिक अधिकारों को नकार दिया गया है. बलूचिस्तान को सिर्फ लूटा गया है. पाकिस्तान ने हमारे संसाधनों को लूटा है. बता दें कि जब पाकिस्‍तान के विदेश मंत्री कश्‍मीर मुद्दे पर यूएनएचआरसी के सत्र को संबोधित कर रहे थे, तब पाक में मानवाधिकार की खराब स्थिति के खिलाफ यूएन मुख्यालय के बाहर विरोध प्रदर्शन किया जा रहा था.



    ये भी पढ़ें: 

    कश्‍मीर पर पाकिस्‍तान ने मानी हार, गृह मंत्री ने कहा - दुनिया को साथ नहीं ला पाई इमरान सरकार

    अमेरिका में बड़े ड्रग रैकेट का भंडाफोड, दाऊद इब्राहिम और बॉलीवुड से जुड़े तार

    Tags: Balochistan, Jammu and kashmir, Pakistan, Terrorism, UNHRC

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर