अपना शहर चुनें

States

अफगानिस्तान: पत्रकारों पर हमलों से भारत चिंतित, कहा- हम नागरिकों के साथ हैं

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और 
अफगानिस्तान के राष्ट्रपति अशरफ गनी (फाइल फोटो- News18 English)
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और अफगानिस्तान के राष्ट्रपति अशरफ गनी (फाइल फोटो- News18 English)

राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल (Ajit Doval) की दो दिन की अफगानिस्तान (Afghanistan) यात्रा पर प्रवक्ता अनुराग श्रीवास्तव ने कहा कि दोनों पक्षों की मुलाकात में द्विपक्षीय संबंधों और अफगान सुरक्षा प्रक्रिया को ध्यान में रखा गया था.

  • News18Hindi
  • Last Updated: January 15, 2021, 7:30 PM IST
  • Share this:
काबुल. अफगानिस्तान में पत्रकारों की हत्या (Journalists Murdered) का मामला गरमाया हुआ है. इस बीच भारत ने भी पड़ोसी देश में जारी हिंसा की निंदा की है. गुरुवार को भारत (India) ने हत्याओं को लेकर चिंता जाहिर की है. भारत ने इन घटनाओं को अभिव्यक्ति की आजादी को दबाने वाला बताया है. कुछ दिनों पहले राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल भी अफगानिस्तान पहुंचे थे. यहां उन्होंने राष्ट्रपति अशरफ गनी समेत कई नेताओं से मुलाकात की थी.

भारत ने गुरुवार को कहा कि इन घटनाओं को अभिव्यक्ति की आजादी और शांति से जुड़े गंभीर मुद्दों को लक्ष्य बनाकर किया जा रहा है. भारत ने अफगानिस्तान में तत्काल और व्यापक रूप से संघर्ष विराम को लागू करने की बात कही है. ताकि, शांति की प्रक्रिया के लिए माहौल तैयार किया जा सके. वहीं, विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अनुराग श्रीवास्तव ने कहा कि भारत अफगानिस्तान के लोगों के साथ खड़ा है. उन्होंने कहा कि ये हमले शांति प्रक्रिया के विरुद्ध हैं और इन्हें तुरंत रोका जाना चाहिए.





यह भी पढ़ें: अफगानिस्तान: एयरस्ट्राइक में मारे गए 14 आतंकवादी, 18 नागरिक भी हुए हताहत
वहीं, राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल की दो दिन की अफगानिस्तान यात्रा पर श्रीवास्तव ने कहा कि दोनों पक्षों की मुलाकात में द्विपक्षीय संबंधों और अफगान सुरक्षा प्रक्रिया को ध्यान में रखा गया था. इस यात्रा के दौरान डोभाल ने राष्ट्रपति गनी से बात की. वहीं, अफगानिस्तान के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार हमदुल्लाह मोहिब, विदेश मंत्री मोहम्मद हनीफ अतमर और पूर्व राष्ट्रपति हामिद करजई से चर्चा की.



प्रवक्ता ने कहा 'बीते कुछ हफ्तों में हमें पत्रकारों और सिविल सोसाइटी के कार्यकर्ताओं पर हमले की जानकारियां मिली हैं. पत्रकारों और सिविल सोसाइटी के एक्टिविस्ट्स पर हमला किया जाना अभिव्यक्ति की आजादी और शांति से जुड़े मुद्दों पर जारी बातचीत को दबाना है.' उन्होंने कहा कि अफगानिस्तान के लोग लंबे समय से शांतिपूर्ण भविष्य के लिए तरस रहे हैं. श्रीवास्तव ने कहा कि भारत उनके साथ है. डोभाल बीते बुधवार को अफगानिस्तान पहुंचे थे.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज