क्या 1500 तालिबान लड़ाकों की रिहाई से सुधरेंगे अफगानिस्तान के हालात

क्या 1500 तालिबान लड़ाकों की रिहाई से सुधरेंगे अफगानिस्तान के हालात
ईद के मौके पर तालिबान ने 3 दिन के सीजफायर का ऐलान किया है.

अफगानिस्तान के राष्ट्रपति अशरफ गनी के ऑफिस की तरफ से कहा गया है कि तालिबान कैदियों की रिहाई अगले चार दिनों में शुरू हो जाएगी.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 11, 2020, 11:48 AM IST
  • Share this:
अफगानिस्तान (Afghanistan) 1500 तालिबान कैदियों (Taliban Prisoners) को रिहा करने वाला है. अफगानिस्तान के राष्ट्रपति अशरफ गनी (Ashraf Ghani) ने इस बारे में आदेश जारी किया है. अफगानिस्तान की सरकार तालिबान के कैदियों को शांति समझौते के तहत रिहा कर रही है. अमेरिका और तालिबान के बीच हुए शांति समझौते का संयुक्त राष्ट्र संघ ने भी समर्थन दिया है. इस समझौते के बाद अफगानिस्तान में चल रही 18 साल से जंग खत्म होने की बात कही जा रही है. हालांकि शांति समझौते के बाद भी तालिबान की तरफ से कुछ हमले हुए हैं.

अब रॉयटर के हवाले से कहा जा रहा है कि अफगानिस्तान 1500 तालिबान कैदियों को रिहा करने जा रहा है. इस बारे में राष्ट्रपति अशरफ गनी ने आदेश जारी कर दिया है. आदेश की प्रति पर राष्ट्रपति अशरफ गनी के हस्ताक्षर हैं. राष्ट्रपति ने आदेश पत्र में लिखा है कि इन कैदियों से ये गारंटी ली जाएगी कि वो दोबारा जंग के मैदान में नहीं कूदेंगे. ये तालिबान के लड़ाकों से सरकार के शांति समझौतों के बाद सबसे बड़ी पहल है.

तालिबान के साथ शांति समझौते के बाद सरकार ने उठाया कदम
अमेरिका के शांति समझौते का यूएन सिक्योरिटी काउंसिल के 15 सदस्य देशों ने समर्थन किया है. हालांकि शांति समझौते के बाद भी हमले करने के लिए अमेरिका ने तालिबान को चेतावनी जारी की है. अमेरिका की तरफ से कहा गया है कि तालिबान के हमले शांति समझौते के लिए ठीक नहीं है. इससे शांति का रास्ता मुश्किल में पड़ेगा.
पिछले महीने अमेरिका और तालिबान ने शांति समझौते पर हस्ताक्षर किए थे. इस समझौते के मुताबिक अमेरिका ने अफगानिस्तान की धरती से अमेरिकी सैनिकों की वापसी का वायदा किया है. अमेरिकी की तरफ से कहा गया है कि अगर तालिबान शांति समझौते पर कायम रहता है तो वो सैनिकों को फेज वाइज़ अफगानिस्तान की धरती से वापस बुला लेगा. शांति समझौते में तालिबान के लड़ाकों से अफगानिस्तान सरकार की बातचीत का रास्ता भी सुझाया गया है, ताकि तालिबान के लड़ाकों को मुख्य धारा में लाकर जंग के हालात खत्म किए जा सकें.



तालिबान भी 1 हजार अफगानी सैनिकों को रिहा करेगा
अफगानिस्तान के राष्ट्रपति अशरफ गनी के ऑफिस की तरफ से कहा गया है कि तालिबान कैदियों की रिहाई अगले चार दिनों में शुरू हो जाएगी. तालिबान कैदियों को 15 दिनों के भीतर रिहा किया जाएगा. हर दिन 100 कैदी रिहा किए जाएंगे, इस तरह से 15 दिनों में 1500 कैदी रिहा होंगे.

तालिबान की तरफ से अफगानिस्तान सरकार के इस फैसले की सराहना की गई है. तालिबान कमांडरों ने कैदियों को लाने के लिए गाड़ी रवाना कर दिया है. तालिबान की तरफ से कहा गया है कि सरकार के फैसले के स्वागत में तालिबान भी करीब 1 हजार अफगानी सैनिकों को छोड़ देगा.

अमेरिका और तालिबान के बीच शांति समझौता तो हो गया है लेकिन इससे अफगानिस्तान में हालात कितने सुधरेंगे, इसके आकलन में अभी वक्त लगेगा. अमेरिका की तरफ से कहा गया है कि वो तालिबान की तरफ से सकारात्मक पहल की उम्मीद लगाए बैठे हैं. इस दिशा में उन्हें बहुत कुछ करना होगा.

पिछले दिनों अमेरिका की पूर्व विदेश मंत्री हिलेरी क्लिंटन ने इस शांति समझौते के खिलाफ बयान दिया था. हिलेरी क्लिंटन ने कहा था कि जब आप अफगानिस्तान की धरती को छोड़ रहे हों, वहां से अपनी पकड़ खत्म कर रहे हों, ऐसे में कोई समझौता मुश्किल जान पड़ता है. अफगानिस्तान की महिलाओं के अधिकारों की वकालत करते हुए हिलेरी क्लिंटन ने ये भी कहा था कि महिलाओं को भी समझौते के टेबल पर आना चाहिए.

ये भी पढ़ें:

ट्रंप नहीं करवाना चाहते कोरोना वायरस की जांच, बोले- टेस्ट करवाने की जरूरत नहीं

Coronavirus: ब्रिटेन की स्वास्थ्य मंत्री को भी हुआ कोरोना, खुद को कमरे में किया बंद

कोरोना वायरस पर मजाक पड़ा भरा, मुसीबत में फंसे भारतीय मूल के दो अफ्रीकी

ईरान में कोरोना वायरस से कोहराम, रिहा किये 70000 कैदी, मरने वालों की संख्या पहुंची दो सौ के करीब
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading