शांतिवार्ता के बीच अफगानिस्तान में महिला पत्रकार की गोली मारकर हत्या, ISIS ने ली जिम्मेदारी

अफगानिस्तान में महिला टीवी पत्रकार मलाला मैवंद की गोली मारकर हत्या. (फोटो- AP)

Journalist Malala Maiwand shot dead: अफगानिस्तान में महिला टीवी पत्रकार मलाला मैवंद की बुधवार को कुछ हथियारबंद लोगों नेगोली मारकर हत्या कर दी. इस हत्या की जिम्मेदारी इस्लामिक स्टेट ने ली है.

  • Share this:
    काबुल. पूर्वी अफगानिस्तान (Afghanistan) में गुरुवार को एक महिला टीवी एंकर की गोली मारकर हत्या कर दी गई. इस हत्या की जिम्मेदारी आतंकी संगठन इस्लामिक स्टेट ने ली है. बुधवार को मलाला मैवंद (Malala Maiwand) नाम की टीवी पत्रकार नंगरहार प्रांत स्थित अपने घर से जैसे ही कार से निकलीं उन पर बाहर मौजूद हमलावरों से गोलियां बरसानी शुरू कर दीं. इस हमले में उनकी मौके पर ही मौत हो गयी. जानकरी के मुताबिक मैवंद इस्लामिक स्टेट (Islamic State) के जुल्मों के खिलाफ सार्वजनिक तौर पर विरोध दर्ज कराती थीं.

    गवर्नर के एक प्रवक्ता अताउल्ला खोग्यानी ने बताया कि एक निजी रेडियो टीवी स्टेशन में काम करने वाली महिला पत्रकार मालालाई मिवंद को जलालाबाद में आज सुबह के व्यवस्ततम घंटों में अज्ञात हथियारबंद लोगों ने गोलियों से भून दिया. उन्होंने कहा कि अपराधियों को न्याय के दायरे में लाने के प्रयास किए जा रहे हैं. अस्पताल के सूत्रों ने बताया कि हमले में मिवंद का ड्राइवर भी मारा गया है. इस इलाके में इस्लामिक स्टेट और तालिबान दोनों की मौजूदगी है. टीवी और रेडियो उद्घोषक के रूप में कार्य करने के साथ ही मैवंद एक सामाजिक कार्यकर्ता थीं और अफगानिस्तान में महिलाओं और बच्चों के अधिकारों की वकालत करती थीं. अफगानिस्तान में नवंबर के मध्य से 2 पत्रकारों की हत्या की जा चुकी है. मिवंद से पहले 12 नवंबर को हेलमंद प्रांत में बम विस्फोट में एक अन्य पत्रकार एलिस डेई की मौत हो गई थी.

    अफगान शांतिवार्ता जारी
    दोहा वार्ता के एजेंडे पर अफगान सरकार व तालिबान के बीच शांति वार्ताकारों की दूसरे दिन भी मुलाकात हुई. हालांकि अब तक इन मुलाकातों के दौरान हुई बातचीत के बारे में सार्वतनिक तौर पर कुछ बताया नहीं गया है. इस्‍लामिक रिपब्‍लिक ऑफ अफगानिस्‍तान के वार्ताकारों की टीम के सदस्‍य गुलाम फारुक माजरोह ने बताया, 'अब तक इस बैठक के बारे में किसी तरह का ब्‍यौरा सामने नहीं आया है लेकिन दोनों पक्षों ने वार्ता के लिए उम्‍मीद प्रकट की है. यह उम्‍मीद की जा रही है कि दोनों ओर से डिमांड की लिस्‍ट तैयार कर ली गई है और एजेंडे पर आधारित वार्ता कराई जाएगी.' इस बीच अमेरिका के विशेष दूत जलमय खलीलजाद (Zalmay Khalilzad) ने तालिबान के डिप्‍टी लीडर अब्‍दुल गनी बरादर से कतर में मुलाकात की और बचे कैदियों की रिहाई पर चर्चा कर बैकलिस्‍ट से नामों को हटाया.

    अफगानिस्‍तान के राष्ट्रपति मोहम्मद अशरफ गनी ने एक दिन पहले ही देश की हाई काउंसिल फॉर लेशनल रिकंसिलिएशन (एचसीएनआर) की पहली बैठक का उद्घाटन किया था. इस दौरान उन्‍होंने तालिबान से देशव्यापी युद्धविराम का पालन करने के लिए आह्वान किया जिसे आतंकी समूह ने मानने से इनकार कर दिया. बैठक को संबोधित करते हुए, एचसीएनआर के अध्यक्ष, अब्दुल्ला अब्दुल्ला ने कहा कि अफगान लोगों को पहले से कहीं अधिक राजनीतिक एकता और एक जरूरी समावेशी संघर्ष विराम की सख्त जरूरत है. संयुक्त राष्ट्र मिशन के आंकड़ों के अनुसार, जनवरी 2009 से अफगानिस्तान में सशस्त्र संघर्ष में 35,000 से अधिक अफगान नागरिक मारे गए हैं और लगभग 65,000 घायल हुए हैं.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.