• Home
  • »
  • News
  • »
  • world
  • »
  • कोवैक्‍सीन के बाद अब एस्‍ट्राजेनेका पर घिरी ब्राजील सरकार, जानें क्‍या है पूरा मामला?

कोवैक्‍सीन के बाद अब एस्‍ट्राजेनेका पर घिरी ब्राजील सरकार, जानें क्‍या है पूरा मामला?

कोवैक्‍सीन के बाद अब एस्‍ट्राजेनेका पर घिरी ब्राजील सरकार (File pic)

ब्राजील (Brazil) की मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, सरकार पर अब एस्‍ट्राजेनेका वैक्‍सीन (AstraZeneca Vaccine) खरीद में भी अनियमितता बरतने का आरोप है. ब्राजील के फोल्हा डी एस पाउलो अखबार ने दावा किया है क‍ि बोल्सनारो सरकार ने एस्ट्राजेनेका वैक्सीन के लिए प्रति खुराक रिश्वत मांगी है.

  • Share this:
    ब्रासीलिया. भारत बायोटेक (Bharat Biotech) की कोविड-19 (COVID-19) वैक्‍सीन कोवैक्सीन (Covaxin) की दो करोड़ डोज के खरीद समझौते को रद्द करने के बाद ब्राजील सरकार एक बार फिर विवादों में है. ब्राजील की मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, सरकार पर अब एस्‍ट्राजेनेका वैक्‍सीन खरीद में भी अनियमितता बरतने का आरोप है. ब्राजील के फोल्हा डी एस पाउलो अखबार ने दावा किया है क‍ि बोल्सनारो सरकार ने एस्ट्राजेनेका वैक्सीन के लिए प्रति खुराक रिश्वत मांगी है.

    ब्राजील के अखबार ने दावा किया है कि बोल्सनारो सरकार की ओर से एस्‍ट्राजेनेका वैक्‍सीन की हर खुराक पर 1 अमेरिकी डॉलर रिश्‍वत की मांग की गई है. हालांकि वैक्‍सीन निर्माता कंपनी एस्‍ट्रोजेनेका ने अखबार की ओर से किए गए सभी दावों का खंडन किया है. एस्‍ट्राजेनेका की ओर से कहा गया है कि वह ब्राजील में किसी भी बिचौलियों के साथ काम नहीं करते हैं. कंपनी की ओर से स्‍पष्‍ट किया गया है कि जो भी समझौते किए जाते हैं, वह सीधे फियोक्रूज़ (ओस्वाल्डो क्रूज़ फाउंडेशन) और संघीय सरकार के माध्यम से होते हैं.

    अखबार की रिपोर्ट के मुताबिक एस्ट्राजेनेका वैक्सीन की 400 मिलियन खुराक के लिए पोर्टफोलियो की मांग की गई थी. इस दौरान वैक्‍सीन की हर डोज की कीमत 3.5 अमेरिकी डॉलर थी. लेकिन बाद में एक वैक्‍सीन डोज की कीमत बढ़ा दी गई. अखबार ने दावा किया है कि कोरोना वैक्‍सीन की हर एक खुराक पर 1 अमेरिकी डॉलर रिश्‍वत की मांग की गई है.



    इसे भी पढ़ें :- स्विट्जरलैंड समेत EU के सात देशों ने कोविशील्ड टीका लेने वालों को दी यात्रा की अनुमति

    कोवैक्‍सीन की दो करोड़ डोज का समझौता हुआ है रद्द
    बता दें कि भारत बायोटेक के कोविड-19 रोधी टीके- कोवैक्सीन की दो करोड़ खुराकें खरीदने पर सहमत हुई ब्राजील सरकार ने समझौते को स्थगित कर दिया है. यह फैसला ऐसे वक्त में हुआ है जब ब्राजील के पीएम जायर बोलसोनारो पर कोरोना की स्थिति को ना संभाल पाने और वैक्सीनेशन को लेकर भ्रष्टाचार के आरोप लग रहे हैं. उधर, भारतीय दवा कंपनी भारत बायोटेक ने कहा है कि उसे कोई अग्रिम भुगतान नहीं मिले हैं. कंपनी ने एक बयान में कहा कि हमने करार, नियामक मंजूरियों और आपूर्तियों के लिहाज से 'ब्राजील’ में भी 'समान दृष्टिकोण’ का पालन किया. एक मीडिया रिपोर्ट में दावा किया गया कि रोके गए ऑर्डर की कीमत लगभग 320 मिलियन डॉलर यानी 23,799,759,040 रुपये (23 अरब से अधिक) आंकी जा रही है.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज