लाइव टीवी

अपने नागरिकों को वुहान में मरता छोड़ने के बाद अब चीन के आगे हाथ फैला रहा पाक

भाषा
Updated: February 2, 2020, 9:27 PM IST
अपने नागरिकों को वुहान में मरता छोड़ने के बाद अब चीन के आगे हाथ फैला रहा पाक
पाकिस्तानी प्रधानमंत्री इमरान खान की फाइल फोटो (Reuters)

प्रधानमंत्री इमरान खान (PM Imran Khan) के स्वास्थ्य मामलों के विशेष सलाहकार ज़फर मिर्जा ने ट्विटर (Twitter) के जरिये इसकी जानकारी दी. बता दें पाकिस्तान ने वुहान (Wuhan) में फंसे अपने स्टूडेंट्स को निकालने से मना कर दिया था.

  • Share this:
इस्लामाबाद. पाकिस्तान (Pakistan) ने रविवार को बताया कि कोरोना वायरस (Corona Virus) की जांच के लिए उसे मित्र देश चीन (China) से 1,000 किट मिले हैं जिससे इस बीमारी से निपटने में उसकी क्षमता (Capability) सुधरेगी.

प्रधानमंत्री इमरान खान (PM Imran Khan) के स्वास्थ्य मामलों के विशेष सलाहकार ज़फर मिर्जा ने ट्विटर (Twitter) के जरिये इसकी जानकारी दी. बता दें पाकिस्तान ने वुहान में फंसे अपने स्टूडेंट्स को निकालने से मना कर दिया था.

अब तक किसी पाकिस्तानी नागरिक के कोरोना से संक्रमित न होने का दावा
ज़फर मिर्जा (Jafar Mirza) ने ट्वीट किया, ‘‘ अब हमारे पास पाकिस्तान में कोरोना वायरस की जांच करने की क्षमता है. मैं अपने NIH (नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ हेल्थ) नेतृत्व और अपनी टीम की जांच के इन उपकरणों को हासिल करने के लिए की गई मेहनत की सरहना करना चाहता हूं.’’

स्वास्थ्य अधिकारियों ने बताया कि चीन (China) से कम से कम 1,000 परीक्षण किट यहां पहुंचे हैं जिससे पाकिस्तान की संक्रमण से मुकाबला करने की कोशिश को बल मिलेगा. उन्होंने बताया कि अभी तक कोई भी पाकिस्तानी नागरिक इस विषाणु से संक्रमित नहीं हुआ है.

चीन में फंसे हुए हैं 20 हजार पाकिस्तानी स्टूडेंट्स
उन्होंने बताया कि शुरुआत में संदिग्ध की जांच की सुविधा इस्लामाबाद (Islamabad) स्थित एनआईएच में होगी और बाद में देश के अन्य हिस्सों तक विस्तार किया जाएगा.गौरतलब है कि चीन में 28,000 से अधिक पाकिस्तानी छात्र मौजूद हैं जिनमें से 500 छात्र सबसे अधिक प्रभावित वुहान शहर (Wuhan City) में हैं.

अपने स्टूडेंट्स को वुहान में फंसा छोड़ने के चलते पाक की हुई आलोचना
चीन में कोरोनावायरस (coronavirus) से अब तक 300 से ज्यादा लोगों की मौत हो गई है. हर दिन मौत का आंकड़ा लगातार बढ़ता ही जा रहा है. इस बीच, भारत ने वुहान में फंसे अपने 647 नागरिकों को स्पेशल फ्लाइट भेज कर वापस बुला लिया है. लेकिन पाकिस्तान के हज़ारों छात्र अब भी वहां फंसे हैं. लोग सरकार से बाहर निकालने के लिए मदद मांग रहे हैं. लेकिन पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान (Imran Khan) ने इन्हें वापस लाने से मना कर दिया है. लिहाजा सोशल मीडिया पर लोग इमरान खान की आलोचना कर रहे हैं.

सरकार की दलील है कि वहां चीन की तरफ से उनके नागरिकों को अच्छी मेडिकल सुविधाएं मिल रही है. पाकिस्तान में इनके परिवार वाले सरकार (Government) पर उन्हें वापस लाने का दबाव बना रहे हैं, लेकिन सरकार सुनने के लिए तैयार नहीं है. सरकार का कहना है कि उन्हें वहां से लाना खतरे से खाली नहीं है.

यह भी पढ़ें: भारत ने चीन में रह रहे चीनी और विदेशी नागरिकों के लिए स्थगित की ई-वीजा सुविधा

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए दुनिया से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: February 2, 2020, 9:27 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर