PoK में सेना की कार्रवाई से मुश्किल में इमरान खान, 27 अक्टूबर को घेराबंदी की तैयारी में है विपक्ष

नवाज शरीफ की पीएमएल एन, आसिफ अली जरदारी की पीपीपी और मौलाना फजलू रहमान की जमीयत उलेमा इस्लाम पार्टी 27 अक्टूबर को इमरान खान का घेराव कर उनसे जवाब मांगेगी. इन पार्टियों के नेताओं ने इमरान खान (Imran Khan) पर वोटिंग में धांधली के भी आरोप लगाए हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 21, 2019, 1:10 PM IST
  • Share this:
कराची. पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर (PoK) में रविवार को भारतीय सेना (Indian Army) की बड़ी कार्रवाई से इमरान खान (Imran Khan Government) फिर से विपक्षियों के निशाने पर आ गई है. भारत की तरफ से हुई सैन्य कार्रवाई को रोकने में नाकाम होने को लेकर विपक्ष दल ने 27 अक्टूबर को इस्लामाबाद में प्रधानमंत्री इमरान खान का घेराव करने वाले हैं. इसमें कुल 10 लाख लोगों के शामिल होने की बात कही जा रही है. अगर ऐसा हुआ तो ये इमरान सरकार के खिलाफ अब तक के सबसे बड़ा विरोध प्रदर्शन होगा.

भारतीय जवानों ने रविवार को पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर (PoK) में चल रहे 3 आतंकी कैंपों को आर्टिलरी गन से तबाह कर दिया. इस ऑपरेशन में पाकिस्तान के 10 सैनिक मारे गए हैं, जबकि कई आतंकियों के मारे जाने की खबर है. भारतीय सेना प्रमुख जनरल बिपिन रावत (Bipin Rawat) ने बताया कि सेना आगे भी पाक की हरकतों का ऐसे ही जवाब देती रहेगी. अब इमरान सरकार के खिलाफ विपक्षी दल इसी को मुद्दा बना रहे हैं.

'दैनिक भास्कर' की एक रिपोर्ट के मुताबिक, नवाज शरीफ की पीएमएल एन, आसिफ अली जरदारी की पीपीपी और मौलाना फजलू रहमान की जमीयत उलेमा इस्लाम पार्टी 27 अक्टूबर को इमरान खान का घेराव कर उनसे जवाब मांगेगी. इन पार्टियों के नेताओं ने इमरान खान पर वोटिंग में धांधली के भी आरोप लगाए हैं. उनका मानना है कि इमरान खान ने खुफिया तंत्र की मदद से वोट बैंक में सेंध लगाई और सरकार बनाने में कामयाब रहे.



IMRAN KHANN
पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान

विपक्ष को मनाने में जुटी इमरान सरकार
रिपोर्ट में पाकिस्तान प्रशासन के विश्वस्त सूत्र के हवाले से लिखा गया है कि इमरान खान और उनके मंत्री इस होने वाले विरोध प्रदर्शन से काफी डरे हुए हैं. इस प्रदर्शन को रोकने के लिए विपक्ष के नेताओं को मनाया भी जा रहा है.

बता दें कि जम्मू-कश्मीर से आर्टिकल 370 हटाए जाने के बाद पाकिस्तान कश्मीर मसले को गरमाए रखने की कोशिश में है. इमरान खान ने अपनी पार्टी के नेताओं और कार्यकर्ताओं को हर हफ्ते आज़ादी मार्च करने को कहा है, लेकिन रविवार को पीओके में भारत की ओर से हुई इस सैन्य कार्रवाई के बाद पाकिस्तान के लोगों का ध्यान आजादी मार्च से हटकर पीओके पर शिफ्ट हो गया है.

6-10 पाक सैनिक मार गिराए गए
सेना प्रमुख जनरल बिपिन रावत ने रविवार को बताया कि जम्मू-कश्मीर के तंगधार सेक्टर के दूसरी तरफ भारतीय सेना द्वारा की गई एक जवाबी कार्रवाई में छह से 10 पाकिस्तानी सैनिक मारे गए और तीन आतंकी शिविर नष्ट कर दिए गए.

INDIAN ARMY
भारतीय सेना द्वारा की गई एक जवाबी कार्रवाई में छह से 10 पाकिस्तानी सैनिक मारे गए और तीन आतंकी शिविर नष्ट कर दिए गए.


PoK के लोग बोले- लगा मानों सब कुछ बर्बाद हो जाएगा
मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, पीओके निवासियों का दावा है कि जिस तरह से भारतीय सेना आतंकियों के लॉन्च पैड्स का खात्मा करने के लिए गोले बरसा रही थी, उससे ऐसा लग रहा था कि वह यहां मौजूद हर चीज खत्म कर देंगे.

घुसपैठ न हो इसलिए बड़ा एक्शन
पाक सेना ने नीलम घाटी में कथित तौर पर सैन्य चौकियों और पोस्टों के भीतर आतंकियों को पनाह दे रखी थी. सर्दी का मौसम आते ही बर्फबारी के कारण यहां रास्ते बंद होने का खतरा रहता है इसलिए इन आतंकियों को बॉर्डर क्रॉस करवाकर भारत में घुसपैठ के लिए पाकिस्तानी सैन्य पोस्टों से लगातार फायरिंग की जा रही थी. घुसपैठ रोकने के लिए जवाबी कार्रवाई करते हुए भारतीय सेना ने मुख्य लॉन्चपैड ही नष्ट कर दिए.

ये भी पढ़ें: जानिए नीलम घाटी में ही भारतीय आर्मी ने क्यों किया हमला

जनरल रिटायर्ड वीपी मलिक बोले-कश्मीर के तंगधार में लड़ने से इसलिए बचती है पाक सेना
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading