कमजोर नहीं हुआ अलकायदा, लश्कर और हक्कानी के साथ सहयोग जारी: यूएन

यूएन रिपोर्ट में कहा गया है, ‘अलकायदा कमजोर नहीं पड़ा है. हालांकि उसके आका अयमन मुहम्मद रबी अल-जवाहिरी की खराब सेहत के चलते संगठन के काम करने के तरीके को लेकर संदेह बरकरार रखना है.

भाषा
Updated: July 30, 2019, 2:16 PM IST
कमजोर नहीं हुआ अलकायदा, लश्कर और हक्कानी के साथ सहयोग जारी: यूएन
कमजोर नहीं पड़ा अलकायदा, लश्कर और हक्कानी के साथ उसका सहयोग जारी है (फाइल फोटो)
भाषा
Updated: July 30, 2019, 2:16 PM IST
संयुक्त राष्ट्र की एक रिपोर्ट में कहा गया है कि आतंकवादी संगठन अलकायदा कमजोर नहीं पड़ा है. पाकिस्तान से संचालित लश्कर-ए-तैयबा और हक्कानी नेटवर्क आदि आतंकी गुटों के साथ उसका सहयोग का सिलसिला जारी है. लेकिन उसके सरगना अयमन मुहम्मद अल-जवाहिरी की सेहत और उसके बाद संगठन के काम करने के तरीके को लेकर संदेह बरकरार है.

ये खुलासे विश्लेषणात्मक समर्थन एवं प्रतिबंध निगरानी टीम की 24वीं रिपोर्ट में हुए हैं, जो संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद अलकायदा प्रतिबंध समिति को इस माह सौंपी गई. यह टीम इस्लामिक स्टेट, अलकायदा एवं संबंधित व्यक्तियों, समूहों, उपक्रमों एवं कंपनियों पर सुरक्षा परिषद को हर छह महीने में स्वतंत्र रिपोर्ट सौंपती है.

कमजोर नहीं पड़ा अलकायदा
इस रिपोर्ट में कहा गया है, ‘अलकायदा कमजोर नहीं पड़ा है. हालांकि उसके आका अमन मोहम्मद रबी अल-जवाहिरी की सेहत, उसके जीवनकाल और उसके बाद संगठन के काम करने के तरीके को लेकर संदेह बरकरार रखना है. इसमें कहा गया कि अलकायदा अफगानिस्तान को अपने नेतृत्व के लिए सुरक्षित पनाहगाह मानता रहा है और इसके लिए वह तालिबान के साथ अपने लंबे एवं मजबूत संबंधों पर निर्भर रहता है.

ओसामा बिन लादेन के साथ अमन मोहम्मद रबी अल-जवाहिरी (फाइल फोटो)
ओसामा बिन लादेन के साथ अमन मोहम्मद रबी अल-जवाहिरी (फाइल फोटो)


रिपोर्ट में कहा गया कि तालिबान के आश्रय के तहत अलकायदा बदख्शां प्रांत, खास कर ताजिकिस्तान के साथ लगने वाले शिगनान इलाके के साथ ही पकतिका प्रांत के बारमल में अपनी मौजूदगी मजबूत करने का इच्छुक है.

लश्कर-हक्कानी नेटवर्क से सहयोग जारी
Loading...

इस रिपोर्ट के मुताबिक, ‘अलकायदा का लश्कर-ए-तैयबा और हक्कानी नेटवर्क के साथ करीब से सहयोग करना जारी है. अलकायदा के सदस्यों का तालिबान के लिए सैन्य एवं धार्मिक निर्देशकों के तौर पर नियमित रूप से काम करना जारी है.’
First published: July 30, 2019, 1:57 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...