लाइव टीवी

सीरिया पर तुर्की ने किया हमला तो आमने-सामने आए चीन और पाकिस्तान

भाषा
Updated: October 16, 2019, 7:35 AM IST
सीरिया पर तुर्की ने किया हमला तो आमने-सामने आए चीन और पाकिस्तान
चीन और पाकिस्तान तुर्की को लेकर आमने-सामने आ गए हैं.

इससे पहले अमेरिका (America) के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप (President Donald Trump) ने उत्तरपूर्वी सीरिया (Syria) में तुर्की (Turkey) की सैन्य कार्रवाई का विरोध करते हुए कहा है कि यदि तुर्की तबाही की राह पर बढ़ता चला गया तो हम उसकी अर्थव्यवस्था को तेजी से बर्बाद कर देंगे.

  • Share this:
बीजिंग. अपनी दोस्ती को ‘हिमालय से ऊंची’ बताने वाले वाले चीन (China) और पाकिस्तान (Pakistan) के बीच उत्तरी सीरिया (North Syria) में कुर्द लड़ाकों के खिलाफ तुर्की (Turkey) की सैन्य कार्रवाई को लेकर मतभेद हैं. चीन ने जहां तुर्की से सैन्य अभियान रोकने को कहा है, वहीं पाकिस्तान ने इसका समर्थन किया है.

तुर्की ने पिछले सप्ताह ‘सीरियन कुर्दिश पीपुल्स प्रोटेक्शन यूनिट्स’ (वाईपीजी) के खिलाफ सैन्य कार्रवाई शुरू की थी जिसे वह अपने क्षेत्र में सक्रिय कुर्द विद्रोहियों की शाखा मानता है. संयुक्त राष्ट्र (United Nations) के अनुसार अभियान में अब तक दर्जनों आम लोग मारे जा चुके हैं और कम से कम एक लाख 60 हजार लोग क्षेत्र से पलायन कर गए हैं.

चीन ने कही ये बात
चीन ने मंगलवार को तुर्की से कहा कि वह उत्तरी सीरिया में जारी अपनी सैन्य कार्रवाई को रोके क्योंकि इससे आईएस के आतंकवादियों को भागने का मौका मिल सकता है.

चीन के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता गेंग शुआंग ने एक नियमित संवाददाता सम्मेलन में कहा, ‘‘सीरिया की संप्रभुता, स्वतंत्रता, एकीकरण और क्षेत्रीय अखंडता का सम्मान किया जाना चाहिए तथा इसे बरकरार रखा जाना चाहिए.’’ उन्होंने आगाह किया कि तुर्की के अभियान के चलते आतंकवादी भाग सकते हैं और इस्लामिक स्टेट दोबारा पैर जमाने के लिए इस अवसर का लाभ उठा सकता है.

इसलिए चीन कर रहा है विरोध
चीन को आशंका है कि आईएस के उइगुर लड़ाकों के लौटने से उसके शिनजियांग प्रांत में अशांति हो सकती है जो व्यापक धरपकड़ के बाद पिछले कुछ वर्षों से शांत है. उइगुर तुर्की भाषा बोलने वाले मुसलमान हैं जिनकी जातीय जड़ें तुर्की से जुड़ी हैं.
Loading...

पाकिस्तान जा सकते हैं तुर्की राष्ट्रपति
वहीं, पाकिस्तान ने उत्तरी सीरिया में तुर्की की सैन्य कार्रवाई का समर्थन किया है और तुर्की के राष्ट्रपति रजब तैयब एर्दोआन (Recep Tayyip Erdoğan) इस महीने के अंत में पाकिस्तान की यात्रा कर सकते हैं. पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान (PM Imran Khan) के कार्यालय ने कहा कि प्रधानमंत्री ने शुक्रवार को एर्दोआन से बात की और तुर्की के प्रति पाकिस्तान का समर्थन तथा एकजुटता व्यक्त की.

तुर्की की सैन्य कार्रवाई के मुद्दे पर चीन का रुख भारत के रुख के अनुरूप है. भारत ने पिछले सप्ताह उत्तरी सीरिया में तुर्की की सैन्य कार्रवाई पर चिंता जताते हुए इसे ‘‘एकतरफा’’ करार दिया था.

ये भी पढ़ें-
ट्रंप की तुर्की को धमकी, कहा- और प्रतिबंध लगाएंगे, बर्बाद कर देंगे इकॉनमी

जानिए कितना खतरनाक है आतंकी संगठन जमात उल मु​जाहिदीन, निशाने पर है भारत

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए दुनिया से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 15, 2019, 10:37 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...