अपना शहर चुनें

States

‘Ice Bucket Challenge’ के सह-संस्थापक पैट क्विन का 37 वर्ष की आयु में निधन

(फोटो: रॉयटर्स/न्यूज18)
(फोटो: रॉयटर्स/न्यूज18)

इस अनोखे आइस बकेट चैलेंज (Ice Bucket Challenge) के तहत बर्फ के पानी से भरी एक बाल्टी के किसी व्यक्ति के सिर पर डाला जाता है. इस चैलेंज की शुरुआत ‘एमियोट्रोफिक लैटरल स्लेरोसिस’ बीमारी को लेकर जागरूकता बढ़ाने के लिए की गई थी.

  • भाषा
  • Last Updated: November 23, 2020, 10:58 AM IST
  • Share this:
योंकर्स. सोशल मीडिया (Social Media) पर वायरल (Viral) हुए ‘एएलएस आइस बकेट चैलेंज’ के सह-संस्थापक पैट क्विन का रविवार को निधन हो गया. वह 37 साल के थे. इस चैलेंस के जरिए ‘लू गहृग’ (Lou Gehrig) बीमारी से जुड़े अनुसंधान के लिए दुनिया भर से 20 करोड़ डॉलर से अधिक की राशि इकट्ठी की गई. इस रोग को ‘एमियोट्रोफिक लैटरल स्लेरोसिस’ (Amyotrophic lateral sclerosis(ALS)) भी कहा जाता है.

‘एएलएस एसोसिएशन’ ने बताया कि क्विन 2013 में अपने 30वें जन्मदिन से एक माह बाद इस बीमारी की चेपट में आ गए थे. उसने कहा, ‘पैट ने एएलएस का सकारात्मकता एवं साहस के साथ सामना किया और अपने आसपास सभी लोगों को प्ररित किया. जो लोग उन्हें जानते हैं, वे उनके जाने से बेहद दुखी हैं, लेकिन साथ ही उन्होंने एएलएस के खिलाफ लड़ाई के लिए जो काम किया, उसके लिए उनके आभारी भी हैं. पैट के परिवार, उनके दोस्तों और समर्थकों के साथ हमारी संवेदनाएं हैं. पैट से एएएलएस समुदाय समेत दुनिया भर में कई लोग प्यार करते थे.’

पैट ने 2014 में पेशेवर गोल्फर क्रिस केन्नेडी को अपनी पत्नी की एक रिश्तेदार जीनेट सेनेरचिया को ‘आइस बकैट चैलेंज’ देते देखा था, जिन्होंने इसका वीडियो सोशल मीडिया पर डालकर लोगों से ऐसा करने का आग्रह किया था और पैसे दान करने को भी कहा था. सेनेरचिया के पति भी एएलएस से पीड़ित हैं. इसके बाद ही, पैट और सह-संस्थापक पेटे फ्रैटस ने अपने दल के साथ इस चैलेंज को लोकप्रिय बनाने की दिशा में काम किया.

क्या है आईस बकेट चैलेंज


इस अनोखे चैलेंज के तहत बर्फ के पानी से भरी एक बाल्टी के किसी व्यक्ति के सिर पर डाला जाता है. इस चैलेंज की शुरुआत ‘एमियोट्रोफिक लैटरल स्लेरोसिस’ बीमारी को लेकर जागरूकता बढ़ाने के लिए की गई थी. इस बीमारी को मोटर न्यूरोन डिसीज भी कहा जाता है. इस चैलेंज के जरिए लोगों को शोध के लिए दान करने के लिए भी प्रोत्साहित किया जाता है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज