अमेजन ने TikTok डिलीट करने का दिया आदेश, 5 घंटे बाद कहा-गलती से ईमेल चला गया

अमेजन ने TikTok डिलीट करने का दिया आदेश, 5 घंटे बाद कहा-गलती से ईमेल चला गया
अमेजन ने टिकटॉक डिलीट करने का दिया था आदेश. पांच घंटे बाद कहा गलती से ईमेल चला गया.

अमेज़न (Amazon) ने अपने कर्मचारियों को जोखिमों का हवाला देकर मोबाइल से टिकटॉक (TikTok) ऐप डिलीट करने को कहा. इसके पांच घंटे बाद कंपनी ने कहा कि हमने गलती से स्टाफ को ईमेल कर दिया था.

  • Share this:
सिएटल. अमेज़न (Amazon) ने शुक्रवार को अपने कर्मचारियों को भेजे गए एक इंटरनल मेमो में कहा था कि कर्मचारियों को "सुरक्षा जोखिमों के कारण टिक टॉक ऐप को अपने अपने फ़ोन से हटा (Delete Tiktok From Mobile) देना चाहिए. हालांकि 5 घंटे बाद ही अमेज़न ने कर्मचारियों को फिर से एक मेल भेजा, जिसमें यह कहा गया कि उन्हें उनके मोबाइल से वीडियो-शेयरिंग ऐप टिक टॉक (TikTok) को हटाने के लिए भेजा गया ईमेल गलती से भेजा गया था. चीनी कंपनी के स्वामित्व वाला यह ऐप जांच और सुरक्षा जोखिम के दायरे में आ गया है क्योंकि ऐसी आशंकाएं जताई जा रही है कि यह ऐप चीन के साथ डेटा साझा कर सकता है.

10 जुलाई तक ऐप हटाने का दिया था आदेश

वहीं अमेज़न ने मीडिया को दिए एक इंटरव्यू में कहा कि आज सुबह हमारे कुछ कर्मचारियों को गलती से ईमेल भेजा गया था और टिकटॉक के संबंध में हमारी नीतियों में अभी कोई बदलाव नहीं हुआ है. शुक्रवार को भेजे अपने पहले मेल में कंपनी ने कहा कि सुरक्षा जोखिमों के कारण अमेज़न ईमेल एक्सेस करने वाले मोबाइल पर टिकटॉक ऐप की अनुमति नहीं है और यदि आपके डिवाइस पर टिकटॉक है तो आपको इसे 10 जुलाई तक हटा देना होगा.



अमेजन की चिंता की वजह समझ नहीं आ रही है: टिकटॉक
इस विषय पर टिकटॉक की तरफ से भी प्रतिक्रया आई है जिसमें कहा गया है कि वह अमेज़न की चिंता का कारण समझ नहीं पा रहा है. इसके साथ ही ईमेल निकलने से पहले कंपनी को अमेज़न से किसी तरह का कोई संवाद नहीं किया गया था.

टिकटॉक कॉमेडी और प्रतिभा वीडियो बनाने और साझा करने के लिए एक आईओएस और एंड्रॉइड सोशल मीडिया वीडियो ऐप है. वैश्विक दर्शकों तक पहुंचने के लिए बीजिंग स्थित बाइटडांस द्वारा टिकटॉक को चीन के बाहर लॉन्च किया गया था. रिसर्च फर्म सेंसर टॉवर के अनुसार इस साल के शुरूआती तीन महीनों में लगभग 315 मिलियन लोगों ने यह ऐप डाउनलोड किया और वैश्विक कोरोनॉयरस लॉकडाउन के दौरान इसकी लोकप्रियता में बहुत वृद्धि हुई है. यह ऐप एशिया, संयुक्त राज्य अमेरिका और दुनिया के अन्य भागों में लोकप्रिय है लेकिन टिकटॉक चीन में उपलब्ध नहीं है.

टिकटॉक पर प्रतिबंध लगाने जा रहा है अमेरिका

टिकटॉक ने ट्रंप प्रशासन का भी ध्यान खींचा है. बीते सोमवार को सचिव माइक पोम्पिओ ने फॉक्स न्यूज को बताया कि वह चीनी सोशल मीडिया ऐप पर प्रतिबंध लगाने पर विचार कर रहे हैं. पोम्पिओ ने कहा कि टिकटॉक उपयोगकर्ता अपनी निजी जानकारी जोखिम में डाल रहे हैं जो आगे चलकर चीनी कम्युनिस्ट पार्टी के हाथों इस्तेमाल की जा सकती है इसलिए देश के कर्मचारियों द्वारा ऐप डाउनलोड करने पर प्रतिबंध लगा दिया है और यह सुझाव दिया है कि इसे पूरे अमेरिका में भी प्रतिबंधित किया जा सकता है. ऑस्ट्रेलियाई सरकार भी डाटा सुरक्षा के खतरे को लेकर चीनी वीडियो शेयरिंग ऐप टिकटॉक पर प्रतिबंध लगाने की तैयारी कर रही हैं। भारत में इस पर पहले ही पाबंदी लग चुकी है.

ये भी पढ़ें: दुनिया में 24 घंटे में कोरोना के 2.28 लाख मामले दर्ज, ट्रंप ने मास्क ना पहनने का फैसला किया

अमेरिका ने चीन के 3 अधिकारियों पर लगाया बैन, VISA पर भी लगाई पाबंदी, जानें क्यों... 

साउथ चाइना मार्निंग पोस्ट के मुताबिक लिबरल पार्टी के सीनेटर जिम मोलान ने कहा कि टिकटॉक का चीन सरकार द्वारा दुरुपयोग किया जा रहा है. वहीं लेबर पार्टी के सीनेटर जेनी मैकएलिस्टर ने कहा कि टिकटॉक के प्रतिनिधियों को विदेश मामलों की स्थायी समिति के सामने पेश किया जाए ताकि चीन सरकार से उसके रिश्तों की असलियत सामने आ सके. अखबार के मुताबिक टिकटॉक मूल कंपनी बाइटडांस लगातार दावा करती रही है कि उसके सर्वर अमेरिका और सिंगापुर में हैं। कंपनी ने जनवरी में कहा था कि दुनिया का कोई डाटा स्टोरेज सिस्टम 100 फीसदी सुरक्षा की गारंटी नहीं दे सकता.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading