अमेरिका ने किया कोरोना की 'जादुई' दवा का दावा, रेमडेसिविर को बताया 'संजीवनी'

अमेरिका ने किया कोरोना की 'जादुई' दवा का दावा, रेमडेसिविर को बताया 'संजीवनी'
अमेरिकी के संक्रामक रोग विशेषज्ञ डॉ एंथनी फॉसी ने लॉकडाउन हटाने का विरोध किया है

डॉ. एंथनी फॉसी (Antohony Fauci) ने कहा कि रेमडेसिविर (Remdesivir) के ट्रॉयल ने कोरोना (Coronavirus) के संभावित इलाज का दरवाज़ा खोल दिया है

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 30, 2020, 5:20 PM IST
  • Share this:
पूरी दुनिया के शीर्ष विशेषज्ञ और टॉप मेडिकल संस्थाएं कोरोना वायरस (Coronavirus) की दवाई और वैक्सीन (Vaccine) बनाने में जुटे हुए हैं. इसके बावजूद इस साल के आखिर तक भी वैक्सीन आने की संभावना फिलहाल दिखाई नहीं दे रही है. लेकिन कोरोना महामारी के कहर से जूझ रही दुनिया के लिए एक खबर राहत की उम्मीद जगा रही है. एंटी वायरल ड्रग रेमडेसिविर (Remdesivir) को कोरोना वायरस के इलाज में कारगर माना जा रहा है.

अमेरिकी वैज्ञानिकों का कहना है कि एंटीवायरल ड्रग रेमडेसिविर के चौंकाने वाले नतीजे सामने आए हैं. नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ एलर्जी एंड इंफेक्शियस डिज़ीज़ के प्रमुख ने कहा कि रेमडेसिवीर ड्रग को प्रयोग के तौर पर कोरोना मरीज़ों पर इस्तेमाल किया जा रहा था जिसके फायदे सामने दिखाई दिए हैं. डॉक्टर एंथनी फॉसी ने कहा है कि रेमडेसिविर की सफलता पर तमाम विरोधाभासी रिपोर्ट के बावजूद ये साबित हुआ है कि ये दवा कोरोना वायरस का खात्मा कर रही है. उन्होंने कहा कि रेमडेसिविर के ट्रॉयल ने कोरोना के संभावित इलाज का दरवाज़ा खोल दिया है.

कोरोना को रोक सकती है रेमडेसिवीर 
अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के सलाहकार डॉ. फॉसी ने व्हाइट हाउस में इस दवा की कामयाबी के बारे मे ऐलान किया. उन्होंने कहा कि आंकड़े बताते हैं कि रेमडेसिवीर दवा का बहुत स्पष्ट, प्रभावी और सकारात्मक असर पड़ रहा है. डॉ. फॉसी ने बताया कि रेमडेसिवीर का अमेरिका, यूरोप और एशिया के 68 स्थानों पर 1063 लोगों पर ट्रायल किया गया जिससे ये पता चला कि रेमडेसिविर दवा कोरोना वायरस को रोक सकती है.
इबोला के इलाज के लिए रेमडेसिविर दवा तैयार की गई थी लेकिन इबोला के ट्रायल में ये फेल हो गई थी. लेकिन डॉ. फॉसी के इस बयान से अब दुनियाभर में कोरोना का इलाज कर रहे डॉक्टरों में एक उम्मीद जाग गई है क्योंकि विश्व स्वास्थ्य संगठन ने भी रेमेडेसिविर ड्रग के कोरोना मरीज़ों पर ट्रायल को सीमित प्रभावी ही बताया था.



अब तक 32 लाख से ज्यादा लोग संक्रमित 
दुनियाभर में कोरोना महामारी से अब तक 32 लाख से ज्यादा लोग संक्रमित हो चुके हैं जबकि 2 लाख 28 हज़ार से ज्यादा लोगों की मौत हो गई है. सबसे ज्यादा अमेरिका में कोरोना के कहर से दुनिया में मौतें हुई हैं. ऐसे में डॉ. फॉसी का अमेरिकी दवा रेमडेसिविर को लेकर दावा दुनिया के लिए राहत का सबब है. कई रिपोर्ट में ये पता चला है कि रेमडेसिविर ने गंभीर रूप से बीमार कोरोना मरीज़ों को ठीक किया है. अमेरिका के शिकागो में 125 कोरोना मरीज़ों को रेमडेसिविर दवा दी गई थी जिसमें 123 लोगों ठीक हो गए थे.

बहरहाल, अभी रेमडेसिविर को अमेरिका के फूड एंड ड्रग डिपार्टमेंट ने मंजूरी नहीं दी है और न ही इसे कोरोना वायरस के मरीजों के इलाज के लिए प्रभावी इलाज माना जा रहा है. The Lancet में छपी रिपोर्ट में ये भी कहा गया है कि रेमडेसिवीर से कोरोना के मौत के आंकड़ों में कोई कमी नहीं आई और न ही मरीज़ों में इस दवा को लेने के बाद जल्दी कुछ बेहतर सुधार हुआ. ऐसे में रेमडेसिविर को लेकर आने वाले सप्ताह में कुछ और रिपोर्ट का इंतज़ार है ताकि कोरोना वायरस के इलाज को लेकर किसी निष्कर्ष पर पहुंचा जा सके.

ये भी पढ़ें :- लॉकडाउन हटाने की जिद पर अड़े ट्रंप, कहा- 25000 लोगों के साथ करूंगा चुनावी रैली
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading