Home /News /world /

अमेरिकी सेना ने 31 अगस्त से पहले ही क्यों छोड़ा अफगानिस्तान? आज बताएंगे जो बाइडन

अमेरिकी सेना ने 31 अगस्त से पहले ही क्यों छोड़ा अफगानिस्तान? आज बताएंगे जो बाइडन

अमेरिका के राष्ट्रपति जो बाइडन (AP)

अमेरिका के राष्ट्रपति जो बाइडन (AP)

तालिबान (Taliban) के साथ हुए समझौते के तहत अमेरिका (US Forces) को 31 अगस्त से तक पूरी तरह अफगानिस्तान (Afghanistan) को छोड़ देना था, लेकिन अमेरिका 24 घंटे पहले ही अफगानिस्तान से निकल गया. बीती रात अमेरिका के चार सैन्य परिवहन विमानों सी-17 ने काबुल एयरपोर्ट से उड़ान भरी.

अधिक पढ़ें ...

    काबुल. अफगानिस्तान (Afghanistan) से 20 साल बाद आखिरकार अमेरिकी सेना (US Forces) की वापसी हो गई है. सोमवार रात को 12 बजने से कुछ मिनट पहले ही काबुल एयरपोर्ट (Kabul Airport)से आखिरी अमेरिकी विमानों ने उड़ान भर ली. इसके बाद तालिबान (Taliban) ने काबुल एयरपोर्ट पर कब्जा जमा लिया. अफगानिस्तान से अमेरिकी सेना की वापसी को लेकर पूरी दुनिया में राष्ट्रपति जो बाइडन (Joe Biden) की आलोचना हो रही है. इस बीच मंगलवार को बाइडन अमेरिकियों को संबोधित करेंगे और बताएंगे कि उन्होंने आखिर क्यों यूएस सैनिकों की वापसी की डेडलाइन आगे नहीं बढ़ाई.

    अफगानिस्तान में 20 साल लंबे युद्ध का अंत, अमेरिकी सेना की आखिरी टुकड़ी लौटी

    तालिबान के साथ हुए समझौते के तहत अमेरिका को 31 अगस्त से तक पूरी तरह अफगानिस्तान को छोड़ देना था, लेकिन अमेरिका 24 घंटे पहले ही अफगानिस्तान से निकल गया. बीती रात अमेरिका के चार सैन्य परिवहन विमानों सी-17 ने काबुल एयरपोर्ट से उड़ान भरी. अमेरिका के राष्ट्रपति जो बाइडन ने कहा, ‘अब अफगानिस्तान में हमारी 20 साल की सैन्य उपस्थिति समाप्त हो गई है. मैं अपने कमांडरों को अफगानिस्तान से खतरनाक निकासी के लिए धन्यवाद देना चाहता हूं. जैसा कि 31 अगस्त सुबह का समय निर्धारित किया गया था.’

    जो बाइडन ने कहा, ‘यूएन सिक्योरिटी काउंसिल का प्रस्ताव एक स्पष्ट संदेश भेजता है कि अंतरराष्ट्रीय समुदाय तालिबान से आगे बढ़ने की अपेक्षा करता है, विशेष रूप से यात्रा की स्वतंत्रता को लेकर. तालिबान ने सुरक्षित मार्ग पर प्रतिबद्धता जताई है और दुनिया उन्हें अपनी प्रतिबद्धताओं पर कायम रखेगी. इसमें अफगानिस्तान में चल रही कूटनीति…जो लोग अफगानिस्तान छोड़ना चाहते हैं उनके लिए निरंतर प्रस्थान के लिए हवाई अड्डे को फिर से खोलने के लिए भागीदारों के साथ समन्वय शामिल होगी.’

    यूएस जनरल केनेथ एफ मैकेंजी ने अफगानिस्तान से अपने सैनिकों की वापसी की घोषणा की. उन्होंने कहा कि वे अफगानिस्तान से अमेरिकी सैनिकों की वापसी के पूरा होने और अमेरिकी नागरिकों और अफगानों को निकालने के लिए सैन्य मिशन की समाप्ति की घोषणा करते हैं. जनरल ने कहा कि अंतिम सी-17 विमान को हामिद करजई हवाई अड्डे से 30 अगस्त को दोपहर 3:29 बजे रवाना किया गया.

    अफगानिस्तान में अमेरिका की राजनयिक उपस्थिति खत्म
    इसके अलावा अमेरिका ने अफगानिस्तान में अपनी राजनयिक उपस्थिति को भी खत्म कर दिया और वह कतर में शिफ्ट हो गया है. न्यूज़ एजेंसी एएफपी ने अमेरिकी के विदेश मंत्री एंटनी ब्लिंकन के हवाले से ये बात कही. ब्लिंकन ने कहा कि अमेरिका हर उस अमेरिकी की मदद करने के लिए प्रतिबद्ध है जो अफगानिस्तान छोड़ना चाहता है.

    अमेरिका जानता था पाकिस्‍तान का परमाणु कार्यक्रम, पर किया कुछ नहीं, दस्‍तावेज में खुलासा

    काबुल में अब कोई एयर ट्रैफिक नहीं
    अमेरिकी विमानों ने अफगानिस्तान का एयरस्पेस छोड़ा भी नहीं था कि तालिबान ने अफगानिस्तान के अमेरिका मुक्त होने की घोषणा कर दी. इसी बीच नोटैम (नोटिस टू एयरमैन) ने आपात संदेश जारी कर कहा कि काबुल एयरपोर्ट अब किसी के नियंत्रण में नहीं है और यहां कोई एयर ट्रैफिक कंट्रोल भी नहीं है. इसका मतलब ये है कि किसी विमान का यहां से उड़ना या उतरना सुरक्षित नहीं है.

    तालिबान के स्पेशल फोर्स ने ली काबुल एयरपोर्ट की सुरक्षा की कमान
    वहीं, तालिबान का कहना है कि उसके स्पेशल फोर्स बदरी 313 ने काबुल हवाई अड्डे की सुरक्षा की कमान संभाल ली है. तालिबान के लड़ाकों ने हवाई फायरिंग कर अमेरिकी सेना के अफगानिस्तान छोड़ने का जश्न मनाया.

    Tags: Afghanistan, Afghanistan Crisis, Afghanistan Taliban conflict, Joe Biden, Kabul Airport

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर