• Home
  • »
  • News
  • »
  • world
  • »
  • शोध में हुआ खुलासा- Corona वैक्सीन से कैंसर पीड़ितों को मिल सकती है राहत

शोध में हुआ खुलासा- Corona वैक्सीन से कैंसर पीड़ितों को मिल सकती है राहत

कॉन्सेप्ट इमेज.

कॉन्सेप्ट इमेज.

एक शोध के अनुसार, कैंसर (Cancer) से पीड़ित मरीजों में कोरोना वैक्सीन (Corona Vaccine) कारगर पाई गई है. वैक्सीन की दूसरी डोज लगने के तीन से चार हफ्ते बाद करीब 95 फीसद कैंसर मरीजों में कोरोना के प्रति इम्यून रिस्पांस काफी हद तक बेहतर पाया गया.

  • Share this:
    वाशिंगटन. कोरोना संक्रमण (Coronavirus) से बचाव में विकसित वैक्सीन से कैंसर मरीजों (Cancer Patient) में सकारात्मक नतीजे देखने को मिल रहे हैं जो इस लाइलाज बीमारी (कैंसर) से जूझ रहे लोगों के लिए अच्छी खबर है. इस बीमारी से ग्रस्त मरीजों पर किए गए अध्ययन के नतीजों में यह बात सामने आई है. अध्ययन के अनुसार, कैंसर से पीड़ित मरीजों में कोरोना वैक्सीन कारगर पाई गई है. वैक्सीन की दूसरी डोज लगने के तीन से चार हफ्ते बाद करीब 95 फीसद कैंसर मरीजों में कोरोना के प्रति इम्यून रिस्पांस काफी हद तक बेहतर पाया गया. यह अध्ययन जिन शोधकर्ताओं के ग्रुप ने किया उसमें भारतीय मूल के शोधकर्ता भी हैं.

    कैंसर सेल पत्रिका में प्रकाशित अध्ययन के अनुसार, यह शोध 131 कैंसर पीड़ितों पर किया गया. इसमें वैक्सीन की दोनों खुराक लगने के बाद प्रतिभागियों की जांच की गई. इनमें से करीब 95 फीसद प्रतिभागियों में एंटीबॉडी की मौजूदगी पाई गई जबकि सात कैंसर मरीजों में एंटीबॉडी नहीं बनी जिनकी हालत गंभीर है. इस अध्ययन में शामिल किए गए प्रतिभागियों की औसत आयु 63 साल थी.

    दूसरी ओर कोपनहेगन यूनिवर्सिटी में कैंसर सेल के मेंब्रेन पर रिार्चर फोकस कर रहे हैं. हेल्थ एंड मेडिकल साइंसेज के फैक्ल्टी ने एक नया तरीका पेश किया है जो कैंसर सेल के जरिए ही क्षति को पूरा करेगा.

    ये भी पढ़ें: Real Life वैम्पायर है ये महिला, खून पीकर नहीं, इन तरकीबों से घटा ली है 40 साल उम्र

    अमेरिका की यूनिवर्सिटी ऑफ टेक्सास हेल्थ साइंस सेंटर की शोधकर्ता डिम्पी पी शाह ने कहा, 'कैंसर से गंभीर रूप से पीड़ित मरीजों में कोरोना वायरस के खिलाफ कोई एंटीबॉडी नहीं पाई गई.' शोधकर्ताओं के मुताबिक, अध्ययन में कोरोना के डेल्टा समेत दूसरे वैरिएंट को लेकर परीक्षण नहीं किया गया. उन्होंने कैंसर पीड़ितों में संक्रमण से मुकाबला करने वाली टी सेल्स और बी सेल्स (कोशिकाओं) की प्रतिक्रिया का भी विश्लेषण नहीं किया.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज