डाटा के लोकलाइजेशन पर भारत की नीति से खुश नहीं अमेरिका

डाटा के स्थानीयकरण का मतलब है, आंकड़ों को उसी देश में संग्रहीत करना, जहां से वह जुड़ा है. आरबीआई ने अप्रैल में अपने परिपत्र में कहा था कि भुगतान संबंधी सभी डाटा का संग्रहण उन्हें केवल भारत में ही स्थापित एक प्रणाली में करना होगा.

भाषा
Updated: October 13, 2018, 2:55 PM IST
डाटा के लोकलाइजेशन पर भारत की नीति से खुश नहीं अमेरिका
भारत और अमेरिका का राष्ट्रीय ध्व्ज- प्रतीकात्मक तस्वीर
भाषा
Updated: October 13, 2018, 2:55 PM IST
अमेरिका विभिन्न देशों में सूचना के मुक्त प्रवाह को सुनिश्चित करने के लिए डाटा को स्थानीय सर्वर में संग्रहीत करने की नीति पर रोक चाहता है. डाटा के स्थानीयकरण संबंधी भारत के हालिया दिशा-निर्देशों के खिलाफ अमेरिका की शीर्ष कंपनियों द्वारा विरोध जताये जाने के बीच ट्रंप प्रशासन के एक वरिष्ठ अधिकारी ने यह बात कही.

डाटा के स्थानीयकरण या डाटा लोकलाइजेशन का मतलब है, आंकड़ों को उसी देश में संग्रहीत करना, जहां से वह जुड़ा है. आरबीआई ने अप्रैल में अपने परिपत्र में भुगतान सेवा देने वाले सभी परिचालकों को यह सुनिश्चित करने के लिए कहा था कि भुगतान संबंधी सभी डाटा का संग्रहण उन्हें केवल भारत में ही स्थापित एक प्रणाली में करना होगा. रिजर्व बैंक ने ऐसा करने के लिए कंपनियों को 15 अक्टूबर तक की मोहलत दी थी.

यह भी पढ़ें:  अमेरिका का दावा चीन की इकॉनमी WTO के मुताबिक नहीं, कहा- फिर से परिभाषित हो- ‘विकासशील देश’

अमेरिका के उप व्यापार प्रतिनिधि और डब्ल्यूटीओ में अमेरिका के राजदूत डेनिस शीया ने शुक्रवार को कहा, 'हम एक सीमा से दूसरी सीमा तक सूचना एवं डाटा के मुक्त प्रवाह के लिए आंकड़ों के स्थानीयकरण पर रोक चाहते हैं.'

उन्होंने कहा कि वे डिजिटल ट्रांसमिशन के लिए कर या शुल्क पर स्थायी प्रतिबंध चाहते हैं. शीया ने एक सवाल के जवाब में कहा, 'हम चाहते हैं कि दक्षिण अफ्रीका और भारत इन शुल्कों पर रोक के बारे में नये सिरे से सोचे.' ऐसा समझा जा रहा है कि भारतीय रिजर्व बैंक के दिशा-निर्देशों के खिलाफ अमेरिकी वित्तीय कंपनियों ने ट्रंप प्रशासन से संपर्क किया है.

यह भी पढ़ें:  अमेरिका में भारतीय दूतावास शुरू करेगा हिंदी और संस्कृत की कक्षाएं
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर