अटलांटिक महासागर में चीन-रूस की गतिविधियों से निपटने के लिए अमेरिका बना रहा युद्ध रणनीति

फाइल फोटो.

फाइल फोटो.

अमेरिकी रक्षा मंत्रालय (US Ministry of Defence) के अधिकारियों के हवाले से कहा गया है कि अटलांटिक महासागर में चीन और रूस (China And Russia) की उग्र गतिविधियों से निपटने के लिए नई युद्ध रणनीति बनाई जाएगी जिसके तहत अमेरिकी सेना के शीर्ष अधिकारियों को विशेष प्रशिक्षण दिया जाएगा.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 28, 2021, 4:00 PM IST
  • Share this:
वाशिंगटन. अमेरिका (America) की सेना चीन और रूस (China And Russia) के कारण लगातार बढ़ते हुए खतरे के मद्देनजर एक समग्र युद्ध रणनीति तैयार करने की योजना बना रही है. सीएनएन ने शनिवार को अपनी एक रिपोर्ट में अमेरिकी रक्षा सूत्रों के हवाले से यह जानकारी दी. रिपोर्ट में अमेरिकी रक्षा मंत्रालय के अधिकारियों के हवाले से कहा गया है कि अटलांटिक महासागर में चीन और रूस की उग्र गतिविधियों से निपटने के लिए नई युद्ध रणनीति बनाई जाएगी जिसके तहत अमेरिकी सेना के शीर्ष अधिकारियों को विशेष प्रशिक्षण दिया जाएगा. अमेरिकी सैन्य अधिकारियों को वैश्विक चुनौतियों का सामना करने के लिए भी तैयार किया जाएगा.

अमेरिका की इस नयी युद्ध रणनीति के तहत साइबर हमलों, बाल्टिक और आर्कटिक सागर में रूस की बढ़ती हुई मौजूदगी के अलावा दक्षिण चीन सागर में चीन की लगातार मजबूत होती स्थिति से निपटने की ओर विशेष ध्यान दिया जाएगा. अमेरिका की इस युद्ध रणनीति की अध्यक्षता अमेरिकी रक्षा मंत्री लॉयड आस्टिन की निगरानी में सेना के ज्वाइंट चीफ ऑफ स्टाफ मार्क मिले करेंगे.

ये भी पढ़ें: अमेरिका: जो बाइडन ने पहली वैश्विक जलवायु चर्चा के लिए रूस और चीन को किया आमंत्रित

वहीं दूसरी तरफ, अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडन (Joe Biden) के प्रशासन ने पहली वैश्विक जलवायु चर्चा के लिए रूसी राष्ट्रपति व्लादीमीर पुतिन और चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग (Xi Jinping) को आमंत्रित किया है. प्रशासनिक अधिकारियों ने बताया कि इस समारोह के जरिए अमेरिका को जीवाश्म ईंधन से होने वाले जलवायु प्रदूषण को कम करने में वैश्विक स्तर पर प्रयासों को धार देने में मदद मिलने की उम्मीद है. उन्होंने कहा कि 22 और 23 अप्रैल को होने वाले कार्यक्रम के लिए शुक्रवार को विश्व के 40 नेताओं को निमंत्रण पत्र भेजने का कार्य जारी है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज