अमेरिका: नस्लभेद के मुद्दे पर मार्टिन लूथर किंग और मैल्कम एक्स की बेटियों ने कही ये बातें

अमेरिका में अश्वेत फिर विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं- (File Photo)

अमेरिका में अश्वेत फिर विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं- (File Photo)

अमेरिका (America) में मार्टिन लूथर किंग जूनियर (Martin Luther King Junior) की 'आई हैव अ ड्रीम' (I Have a Dream) स्पीच की 57वीं सालगिरह मनाई गई. जिसमें कई मानवाधिकार-नस्लभेद विरोधी कार्यकर्ताओं और लोगों ने वॉशिंगटन (Washington) की ओर मार्च किया.

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 31, 2020, 11:34 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. अमेरिका (America) में ब्लैक लाइव्स मैटर आंदोलन (Black Lives Matter Movement) के चरम के समय मार्टिन लूथर किंग जूनियर (Martin Luther King Junior) की 'आई हैव अ ड्रीम' (I Have a Dream) स्पीच की 57वीं सालगिरह मनाई. इस कार्यक्रम के दौरान मार्टिन लूथर किंग, मैल्कम एक्स (Malcom X) और क्वैम एनक्रुमा (Kwame Nkrumah) की बेटियों ने अमेरिका में नस्लीय भेदभाव (Racial Discrimination) की स्थिति पर अपने विचार रखे. बता दें कि विस्कॉन्सिन (Wisconsin) के केनोशा में विलियम ब्लेक को पुलिस अधिकारियों के एक साथ 7 गोलियां मारने के बाद, जॉर्ज फ्लायड (George Floyd) की हत्या के बाद से शुरु हुआ ब्लैक लाइव्स मैटर आंदोलन एक बार फिर उग्र हो उठा है.

इन सब गतिविधियों के बीच अमेरिका (America) में मार्टिन लूथर किंग जूनियर (Martin Luther King Junior) की 'आई हैव अ ड्रीम' (I Have a Dream) स्पीच की 57वीं सालगिरह मनाई गई. जिसमें कई मानवाधिकार-नस्लभेद विरोधी कार्यकर्ताओं और लोगों ने वॉशिंगटन (Washington) की ओर मार्च किया. जिसके बाद मार्टिन लूथर किंग की बेटी डॉ बर्नीस किंग, मैल्कम एक्स की बेटी प्रोफेसर इलयासा शाबाज, क्वैम एनक्रुमा की बेटी सामिया एनक्रुमा ने भी अपने विचार रखे.

मार्टिन लूथर किंग की बेटी ने कहा- हमें अभी भी काफी कुछ करना है
किंग सेंटर की सीईओ डॉ बर्नीस किंग ने कहा, "मुझे लगता है कि हमने कम वक्त में ही काफी प्रगति देखी है. मेरी मां सुलह के की बात करती थीं, लेकिन मैं अभी भी इस हकीकत को समझने में असमर्थ हूं कि आखिर कोई कैसे मेरे पिता की बेवजह जान ले सकता है. जबकि वे केवल इस दुनिया को सबके रहने के लिए एक अच्छी जगह बनाना चाहते थे."
लेकिन उन्होंने आगे यह भी कहा कि हमें अभी भी काफी कुछ करना है. हमें एक साथ मिलकर योजना और रणनीति बनानी है और इस पर बात करनी है कि किस तरह से व्हाइट सुप्रीमेसी से हमारे समाज और पूरी दुनिया को नुकसान हो रहा है.



मैल्कम एक्स और क्वैम एनक्रुमा की बेटी ने भी रखी बात
वहीं मैल्कम एक्स की बेटी प्रोफेसर शाबाज, जो एक लेखिका हैं और उच्च शिक्षा को सब तक पहुंचाने के लिए काम करती हैं. जिनके पिता मैल्कम एक्स, अमेरिका में सिविल राइट्स मूवमेंट के एक मशहूर नेता थे जो काले लोगों को किसी भी मुमकिन तरीके से उनकी सुरक्षा करने की वकालत करते थे और खुद उनकी हत्या 1965 में कर दी गई थी. उन्होंने इस मौके पर कहा- "हमने जॉर्ज फ्लॉयड की भयानक हत्या देखी है और मूलरूप से इसलिए क्योंकि हम सब घर पर थे खुद को बचाने की कोशिश कर रहे थे, और एक-दूसरे से अलग-थलग बने हुए थे. हम ऐसी अनगिनत मौतें देख चुके हैं और अब लोग समझ रहे हैं कि मैल्कम एक्स क्या बात कर रहे थे."

यह भी पढ़ें: प्रणब मुखर्जी, जिन्होंने कसाब और अफजल गुरु को फांसी के फंदे तक पहुंचाया

वहीं सामिया एनक्रुमा, जो घाना की कनवेंशन पीपुल्स पार्टी की चेयर हैं. जिनके पिता घाना के पूर्व राष्ट्रपति थे और पैन-अफ्रीकनिज्म का एक अहम चेहरा थे. उन्होंने इस मौके पर कहा- "मेरे लिए यह सम्मान की बात है कि मैं अपने पिता के राजनीतिक कार्यों से जुड़ी हुई हूं. मैं घाना और अफ्रीका और इस तरह से पूरी दुनिया के लिए उनके विजन से हमेशा जुड़ी रहूंगी."
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज