अमेरिका में 24 घंटों में आए कोरोना के 2 लाख नए केस, एंटीबॉडी दवा के इमरजेंसी इस्तेमाल की मिली मंजूरी

24 घंटों में अमेरिका में 2 लाख 1 हजार 961 लोग कोरोना पॉजिटिव हुए हैं.
24 घंटों में अमेरिका में 2 लाख 1 हजार 961 लोग कोरोना पॉजिटिव हुए हैं.

Coronavirus cases in America: अमेरिका में कोरोना से संक्रमित होने वाले लोगों की संख्या 10 करोड़ 55 लाख 9 हजार 184 हो गई है. अमेरिका में इस वक्त 37 लाख 12 हजार 54 लोगों का इलाज चल रहा है, जिसमें 19 हजार 374 लोगों की हालत गंभीर है. अमेरिकी प्रशासन लगातार नागरिकों को सोशल डिस्टेंसिंग बनाए रखने और घरों से बाहर निकलने पर मास्क लगाने की हिदायत दे रहा है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 11, 2020, 2:26 PM IST
  • Share this:
वॉशिंगटन. दुनिया के सबसे ताकतवर देश अमेरिका में कोरोना वायरस (Coronavirus Pandemic) महामारी की नई लहर ने हाहाकार मचा रखा है. पिछले 24 घंटों में यहां कोरोना के 2 लाख से ज्यादा नए मामले सामने आए हैं. वेबसाइट वर्ल्डोमीटर के मुताबिक, 24 घंटों में अमेरिका में 2 लाख 1 हजार 961 लोग कोरोना पॉजिटिव हुए हैं. एक दिन में सामने आने वाले मामलों का ये नया रिकॉर्ड है. इस दौरान 1,535 मरीजों की मौत हुई है.

अमेरिका में अब तक कोरोना के 10,238,243 मामले सामने आ चुके हैं. कुल 2,39,588 लोगों की मौत हुई है. इसी के साथ देश में अब कोरोना से संक्रमित होने वाले लोगों की संख्या 10 करोड़ 55 लाख 9 हजार 184 हो गई है. अमेरिका में इस वक्त 37 लाख 12 हजार 54 लोगों का इलाज चल रहा है, जिसमें 19 हजार 374 लोगों की हालत गंभीर है.

ट्रंप के आरोपों के बीच कमला हैरिस ने दिया बयान, कहा- जो बाइडन ने चुनाव में स्पष्ट जीत दर्ज की है



इस बीच अमेरिकी फूड एंड ड्रग एडमिनिस्ट्रेशन ने सोमवार को कोविड-19 के खिलाफ सिन्थेटिक एंटीबॉडी से इलाज की आपातकालीन मंजूरी दे दी है. शोधकर्ताओं का कहना है कि Bamlanivimab दवा हल्के से मध्यम कोविड-19 के इलाज में प्रभावी साबित हुई. फार्मा कंपनी Eli Lilly की दवा ने मरीजों को अस्पताल या इमरजेंसी रूम जाने का खतरा कम कर दिया. कोविड-19 के खिलाफ पहली प्रायोगिक मोनोक्लोनल ऐंटीबॉडी बॉडी दवा इंसान के एंटीबॉडी की निर्मित प्रति है.
FDA ने अपने बयान में कहा कि bamlanivimab के प्रभावी होने का सबसे अहम सबूत डेटा से आया है. मंजूरी हासिल करनेवाली ये पहली दवा है जिसको विशेष तौर पर नोवल कोरोना वायरस के खिलाफ बनाया गया था. वैज्ञानिकों ने बताया कि bamlanivimab और प्लेसेबो के बीच साइड-इफेक्ट्स एक ही तरह के रहे. सबसे सामान्य साइड-इफेक्ट्स में डायरिया, चक्कर, सिर दर्द, खुजली और उल्टी पाया गया. कोविड-19 के खिलाफ दवा का मानव परीक्षण जारी है. आगे 800 से ज्यादा मरीजों को परीक्षण का हिस्सा बनाने का मंसूबा है. हालांकि, अस्पताल में भर्ती मरीजों के लिए दवा के इस्तेमाल को अधिकृत नहीं किया गया है.

फाइजर की वैक्सीन के 90 फीसदी कारगर होने का दावा
वहीं, अमेरिका की फार्मा क्षेत्र की दिग्गज कंपनी फाइजर और उसकी जर्मन पार्टनर बायो एनटेक ने बीते सोमवार को घोषणा की थी कि उनकी वैक्सीन कोरोना के इलाज में 90 फीसदी तक कारगर है.

ब्रिटेन: PM बोरिस जॉनसन बोले- जैसे भगवान राम ने रावण को हराया, इस दिवाली हम कोरोना से जीतेंगे
हम थक सकते हैं वायरस नहीं- WHO
इस बीच विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) के प्रमुख टेड्रोस एडहोम घेब्येयियस ने कोरोना वायरस को लेकर लोगों को चेताया है. उन्होंने कहा कि इस महामारी से लड़ते हुए हम कमजोर हो सकते हैं लेकिन कोरोना हमसे नहीं थक रहा है. टेड्रोस ने अमेरिका राष्ट्रपति चुनाव में जो बाइडेन की जीत पर खुशी जताई. उन्होंने कहा कि उम्मीद है कि महामारी से लड़ने में वैश्विक सहयोग मिलेगा.

उन्होंने लोगों को विज्ञान का अनुसरण करने और वायरस के प्रति आंख नहीं मूंदने का आग्रह किया. ट्रेडोस खुद कोरोना संक्रमित से संपर्क में आने के बाद क्वारंटाइन रहे हैं. उन्होंने चेतावनी दी कि वायरस कमजोर स्वास्थ्य वाले लोगों का शिकार करता है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज