• Home
  • »
  • News
  • »
  • world
  • »
  • अमेरिका ने बनाया हाइपरसोनिक हथियार, रूस-चीन तक मचा सकता है तबाही

अमेरिका ने बनाया हाइपरसोनिक हथियार, रूस-चीन तक मचा सकता है तबाही

हाइपरसोनिक हथियार एक घंटे में करीब 6200 किमी. की दूरी तय करते हैं.  (AP)

हाइपरसोनिक हथियार एक घंटे में करीब 6200 किमी. की दूरी तय करते हैं. (AP)

रेडार की पकड़ में नहीं आने वाली इस नई अमेरिकी मिसाइल (Hypersonic Weapons) की मारक क्षमता 2700 किलोमीटर है. इस मिसाइल के साथ ही अमेरिका अब रूस और चीन पर दूर से ही भीषण हमला करने में सक्षम हो गया है.

  • News18Hindi
  • Last Updated :
  • Share this:

    वॉशिंगटन. अमेरिका (America) ने रूस-चीन के साथ जारी तकरार के बीच एयर-ब्रीथिंग हाइपरसोनिक हथियार (Hypersonic Weapons) की सफल टेस्टिंग की है. पेंटागन (Pentagon) ने सोमवार को इसकी जानकारी दी. पेंटागन के मुताबिक ये हथियार ध्वनि से 5 गुना ज्यादा की गति रखता है. अमेरिका के 2013 के बाद से ही ऐसा टेस्ट करने की कोशिश में था, अब जाकर इसमें कामयाबी मिल पाई है.

    पेंटागन ने जानकारी दी है कि हाइपरसोनिक एयर ब्रीथिंग वेपन कॉन्सेप्ट टेस्ट पिछले हफ्ते किया गया है. इस टेस्ट के साथ हम नई पीढ़ी की ओर बढ़ रहे हैं. अमेरिकी मिलिट्री की ताकत को मजबूत कर रहे हैं. अमेरिका इस साल के अंत तक ऐसे ही और टेस्ट करने की तैयारी में है. हाइपरसोनिक हथियार एक घंटे में करीब 6200 किमी. की दूरी तय करते हैं.

    उत्तर कोरिया ने समुद्र में दागी मिसाइल, किम जोंग ने बाइडन के सामने रखी ये मांग

    बता दें कि अमेरिका से पहले इसी साल जुलाई में रूस (Russia) ने Zircon हाइपरसोनिक क्रूज़ मिसाइल का टेस्ट किया था, जिसे रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन का प्रोजेक्ट कहा गया.

    2700 किलोमीटर तक है मारक क्षमता
    रेडार की पकड़ में नहीं आने वाली इस नई अमेरिकी मिसाइल की मारक क्षमता 2700 किलोमीटर है. इस मिसाइल के साथ ही अमेरिका अब रूस और चीन पर दूर से ही भीषण हमला करने में सक्षम हो गया है.

    चीन के सैन्‍य अड्डे तक हमला करने में सक्षम
    इसके जरिए दक्षिण चीन सागर और चीन के हैनान द्वीप समूह पर स्थित सैनिक ठिकाने या चीन की मुख्‍य भूमि पर जोरदार हमला किया जा सकता है. अ‍मेरिकी नौसेना अपनी हाइपरसोनिक मिसाइल को सभी 69 ड्रिस्‍ट्रायरों पर तैनात करेगी. विशेषज्ञों का कहना है कि यह मिसाइल दुश्‍मनों के लिए युद्ध के समय काल का काम करेगी. इतनी रेंज के साथ इस मिसाइल को अब प्रशांत महासागर में दक्षिण कोरिया, ताइवान, जापान या फिलीपीन्‍स कहीं भी तैनात किया जा सकता है.

    चीन में बड़े पैमाने पर बिजली कटौती, अंधेरे में डूबे कई शहर, हो रहा ये नुकसान

    अमेरिका अब अपनी मिसाइल को 3 लाख वर्ग मील के इलाके में कहीं भी छिपा सकता है. अगर इस मिसाइल को लंदन शहर में तैनात कर दिया जाए तो इससे आसानी से रूस के पूर्वी इलाके तक को निशाना बनाया जा सकता है.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज