Home /News /world /

americal republican congressmen protests against india subsidy to farmers ask biden to raise it in wto mnj

भारत के किसानों को सब्सिडी पर अमेरिका में उठे सवाल, बाइडन से मांग- WTO में उठाएं मामला

पीएम मोदी और अमेरिकी राष्ट्रपति हाल ही में जी7 की बैठक के दौरान कुछ इस अंदाज में नजर आए थे. (फोटो ट्विटर)

पीएम मोदी और अमेरिकी राष्ट्रपति हाल ही में जी7 की बैठक के दौरान कुछ इस अंदाज में नजर आए थे. (फोटो ट्विटर)

India-US Trade: अमेरिका में रिपब्लिकन पार्टी के 12 सांसदों ने भारत सरकार द्वारा किसानों को दी जाने वाली सब्सिडी पर सवाल उठाते हुए राष्ट्रपति जो बाइडन को लेटर लिखा है और इस मसले को WTO में उठाने का आग्रह किया है. उनका आरोप है कि भारत की ज्यादा सब्सिडी के कारण दुनिया में व्यापार पर असर पड़ रहा है.

अधिक पढ़ें ...

वॉशिंगटन. भारत में सरकार की तरफ से किसानों को दी जाने वाली सब्सिडी का अमेरिका के रिपब्लिकन सांसदों ने विरोध किया है. उन्होंने राष्ट्रपति जो बाइडन को लेटर लिखकर कहा है कि भारत की तरफ से दी जाने वाली कृषि सब्सिडी की वजह से वैश्विक कारोबार पर असर पड़ रहा है और अमेरिका के किसानों को नुकसान हो रहा है. हिंदुस्तान टाइम्स के अनुसार, इन सांसदों ने बाइडन से कहा है कि वह भारत के खिलाफ इस मुद्दे को विश्व व्यापार संगठन (WTO) में उठाएं. हालांकि जानकारों का मानना है कि अमेरिका में जल्द ही प्रतिनिधि सभा (हाउस ऑफ रिप्रजेंटेटिव्स) के चुनाव होने हैं, उसी को देखते हुए ये सांसद अपने यहां किसानों को लुभाने की कवायद कर रहे हैं. भारत सब्सिडी की तुलना के डब्लूटीओ के नियम पर ही सवाल उठाता रहा है और उलटे अमेरिका पर आरोप लगाता रहा है.

एचटी की रिपोर्ट के मुताबिक, अमेरिकी कांग्रेस के 12 रिपब्लिकन सांसदों ने बाइडन को लिखे पत्र में आरोप लगाया है कि भारत कृषि सब्सिडी के मामले में डब्लूटीओ के नियमों के अनुसार नहीं चलता. ये नियम कहते हैं कि किसी खास उत्पाद या निर्यात होने वाले उत्पादों पर 10 फीसदी से ज्यादा सब्सिडी नहीं दी जा सकती. लेकिन भारत गेहूं और चावल जैसी चीजों पर 50 फीसदी से ज्यादा सब्सिडी देता है. ऐसे में इस मुद्दे को डब्लूटीओ में उठाया जाए. ये लेटर लिखने वाले 12 सांसदों में 10 ऐसे हैं, जो इलाकों का प्रतिनिधित्व करते हैं, जहां खेती काफी ज्यादा होती है. बाकी 2 सांसदों को कैलिफोर्निया की किसान लॉबी का समर्थक माना जाता है.

दरअसल, भारत की कृषि सब्सिडी अमेरिका के साथ व्यापार में लंबे समय से विवाद का विषय रही है. भारत का कहना है कि प्रति व्यक्ति के नजरिए से देखा जाए तो भारत से कहीं ज्यादा अमेरिका अपने किसानों को सपोर्ट देता है. एचटी के अनुसार, जेएनयू में प्रोफेसर और व्यापार मामलों के एक्सपर्ट बिश्वजीत धर कहते हैं कि अमेरिकी प्रशासन डब्लूटीओ के एग्रीमेंट ऑन एग्रीकल्चर के नियमों के तहत भारतीय सब्सिडी की गणना करके भेदभाव का आरोप लगाते हैं. असल बात ये है कि इन नियमों के तहत मौजूदा समय में सरकार द्वारा घोषित कीमतों की तुलना 1986-88 के कृषि उत्पादों की अंतरराष्ट्रीय कीमतों से तुलना की जाती है. तीन दशक पुरानी कीमतों को मानक मानना अपने आप में बहुत गलत तरीका है. उन्होंने बताया कि भारत डब्लूटीओ में लगातार इस बात को उठाता रहा है कि इस तरीके को बदला जाना चाहिए और मौजूदा संदर्भ के मुताबिक तय किया जाना चाहिए.

रिपब्लिकन सांसदों के इस लेटर के पीछे एक और वजह जानकार देख रहे हैं. उनका कहना है कि सांसदों का ये विरोध अमेरिका की घरेलू राजनीति का नतीजा है. अमेरिका में हाउस ऑफ रिप्रजेंटेटिव्स के चुनाव नजदीक आ रहे हैं. ऐसे में सांसद अपने किसान वोटरों का समर्थन हासिल करने के लिए बाइडन प्रशासन पर इस तरह का दबाव बना रहे हैं. इस साल जनवरी में भी 28 सांसदों ने अमेरिकी ट्रेड रिप्रजेंटेटिव कैथरीन टाई को लेटर लिखकर भारत और चीन पर इसी तरह के आरोप लगाए थे. इसके बाद भारतीय राजनयिकों ने इन सांसदों से संपर्क करके अपना पक्ष समझाया. जानकारों का मानना है कि ये उसी का नतीजा है कि इस बार 28 के बजाय सिर्फ 12 सांसदों ने ही विरोध में पत्र लिखा है.

Tags: America, Joe Biden

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर