होम /न्यूज /दुनिया /रूस-यूक्रेन युद्ध पर पीएम मोदी के बयान की अमेरिका ने की सराहना, विदेश मंत्री ब्लिंकन ने की टिप्पणी

रूस-यूक्रेन युद्ध पर पीएम मोदी के बयान की अमेरिका ने की सराहना, विदेश मंत्री ब्लिंकन ने की टिप्पणी

अमेरिकी विदेश मंत्री ने रूस-यूक्रेन युद्ध पर पीएम मोदी के बयान की सराहना की.

अमेरिकी विदेश मंत्री ने रूस-यूक्रेन युद्ध पर पीएम मोदी के बयान की सराहना की.

अमेरिकी विदेश मंत्री एंटनी ब्लिंकन ने मंगलवार को रूसी-यूक्रेन युद्ध पर प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी की टिप्पणी की सराहना ...अधिक पढ़ें

  • News18Hindi
  • Last Updated :

हाइलाइट्स

संयुक्त प्रेस वार्ता के दौरान अमेरिका के विदेश मंत्री ने पीएम मोदी की टिप्पणी की सराहना की.
अमेरिकी विदेश मंत्री ने कहा कि पीएम मोदी के बयान से वह और अधिक सहमत नहीं हो सकते.
अमेरिकी विदेश मंत्री ने पाकिस्तान को दी गई 450 मिलियन डॉलर की सैन्य मदद पर भी रूख स्पष्ट किया.

वॉशिंगटन. अमेरिकी विदेश मंत्री एंटनी ब्लिंकन ने मंगलवार को रूसी-यूक्रेन युद्ध पर प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी की टिप्पणी की सराहना की और कहा कि वह भारतीय पीएम के बयान के साथ और अधिक सहमत नहीं हो सकते कि यह एक युग या युद्ध का समय नहीं है. अपने संबोधन के दौरान अमेरिका के विदेश मंत्री ने कहा, “मैं वास्तव में इस बात पर जोर देना चाहता हूं कि पीएम मोदी ने क्या कहा. मैंने जो सुना है उसके मुताबिक पीएम मोदी ने कहा कि ये युद्ध का समय नहीं है और इस बयान से हम अधिक सहमत नहीं हो सकते हैं. अमेरिका के विदेश मंत्री ब्लिंकन ने भारत के विदेश मंत्री डॉ. एस जयशंकर के साथ संयुक्त संवाददाता सम्मेलन के दौरान ये बात कही.

बता दें कि हाल ही में, पीएम मोदी ने एससीओ शिखर सम्मेलन के मौके पर रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन के साथ अपनी बहुप्रतीक्षित द्विपक्षीय बैठक के दौरान रूसी प्रधान मंत्री से कहा था कि यह युद्ध का युग नहीं है. पीएम मोदी ने कहा था कि आज का युग युद्ध का नहीं है और मैंने आपसे इस बारे में फोन पर बात की है. आज हमें बात करने का अवसर मिलेगा कि हम शांति के पथ पर कैसे आगे बढ़ सकते हैं. भारत और रूस कई दशकों से एक-दूसरे के साथ रहे हैं. विदेश मंत्री एस जयशंकर ने संयुक्त संबोधन में कहा कि यह विवाद किसी के हित में नहीं है. आगे बढ़ने का सबसे अच्छा तरीका बातचीत और कूटनीति की ओर लौटना है.

भारत और अमेरिका के बीच साझेदारी को दुनिया में ‘सबसे अधिक परिणामी’ बताते हुए, ब्लिंकन ने कहा, “किसी भी दो देशों के पास भविष्य को आकार देने की कोशिश करने की अधिक क्षमता, अवसर और जिम्मेदारी नहीं है”. साथ ही उन्होंने पाकिस्तान को अमेरिका की तरफ से दी गई 450 मिलियन अमरीकी डालर की एफ-16 सुरक्षा सहायता के औचित्य पर भारतीय मंत्री द्वारा उठाए गए प्रश्न को भी संबोधित किया, और कहा, “यह एफ16 के लिए एक निरंतर कार्यक्रम है, जो पाकिस्तान के पास लंबे समय से है. ये कोई नई बात नहीं है, जो उनके पास है उसे बनाए रखना है. हम जिस किसी को भी सैन्य उपकरण प्रदान करते हैं, उसके प्रति हमारी जिम्मेदारी और दायित्व है.

भारत की टिप्पणी
सम्मेलन के दौरान बोलते हुए, विदेश मंत्री एस जयशंकर ने कहा, “आज की बैठक में, हमने अपने राजनीतिक समन्वय पर चर्चा की, महत्वपूर्ण क्षेत्रीय मुद्दों और वैश्विक चुनौतियों पर सहयोग पर आकलन का आदान-प्रदान किया. इस संबंध में, मैं विशेष रूप से यूक्रेन संघर्ष और भारत-प्रशांत स्थिति का उल्लेख करूंगा.”  इसके अलावा एस जयशंकर ने कहा कि हम तेल की कीमत को लेकर चिंतित हैं। तेल की कीमत हमारी कमर तोड़ रही है. यह हमारी बड़ी चिंता है.

Tags: America, S Jaishankar

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें