अमेरिका: राष्ट्रपति पद के लिए बाइडेन की डेमोक्रेटिक पार्टी की आधिकारिक उम्मीदवारी तय

अमेरिका: राष्ट्रपति पद के लिए बाइडेन की डेमोक्रेटिक पार्टी की आधिकारिक उम्मीदवारी तय
बाइडेन अमेरिका के 47वें उप-राष्ट्रपति रहे हैं (फाइल फोटो)

शुक्रवार रात तक 77 वर्षीय जो बाइडेन (Joe Biden) ने कुल 3,979 प्रतिनिधियों में से 1,991 का समर्थन हासिल कर लिया जिसके साथ वह डेमोक्रेटिक पार्टी (Democratic Party) के आधिकारिक नामांकन को हासिल करने पात्र बन गए हैं.

  • Share this:
वाशिंगटन. अमेरिका-भारत (America-India) के बीच मजबूत संबंधों के पैरोकार पूर्व उप-राष्ट्रपति (Former Vice President) जो बाइडेन (Joe Biden) नवंबर में होने वाले राष्ट्रपति चुनाव (Presidential Election) के लिए डेमोक्रेटिक पार्टी (Democratic Party) की आधिकारिक उम्मीदवारी प्राप्त करने के पात्र बन गए हैं और अब व्हाइट हाउस (White House) की दौड़ में वह राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप (Donald Trump) को चुनौती देंगे.

शुक्रवार रात तक 77 वर्षीय जो बाइडेन (Joe Biden) ने कुल 3,979 प्रतिनिधियों में से 1,991 का समर्थन हासिल कर लिया जिसके साथ वह डेमोक्रेटिक पार्टी (Democratic Party) के आधिकारिक नामांकन को हासिल करने पात्र बन गए हैं.

जो बाइडेन, बराक ओबामा प्रशासन में रह चुके हैं 47वें उप-राष्ट्रपति
बाइडेन बराक ओबामा प्रशासन (Obama Administration) में वर्ष 2009 से 2017 तक अमेरिका के 47वें उप-राष्ट्रपति रहे. अगस्त में डेमोक्रेटिक पार्टी के नेशनल कन्वेंशन (National Convention) में उन्हें औपचारिक रूप से नामित किया जाएगा.
राष्ट्रपति पद के लिए तीन नवंबर को होने वाले चुनाव में वह रिपब्लिकन पार्टी (Republican Party) के 73 वर्षीय ट्रंप को चुनौती देंगे.



जो बाइडेन ने कहा, "अमेरिका के इतिहास में यह एक कठिन समय"
डेमोक्रेटिक पार्टी (Democratic Party) की प्राइमरी में बहुसंख्यक प्रतिनिधियों का समर्थन हासिल करने के बाद बाइडेन ने कहा कि यह अमेरिका के इतिहास में एक कठिन समय है और इसका जवाब ट्रंप की आक्रामक, विभाजनकारी राजनीति नहीं है.

उन्होंने कहा, ‘‘देश नेतृत्व चाह रहा है. ऐसा नेतृत्व जो हमें एकजुट कर सके, जो हमें एक साथ ला सके. ’’

2008 में ऐतिहासिक असैन्य परमाणु संधि के दौरान भारत के लिये पक्ष में किया था मतदान
बाइडेन भारत और अमेरिका (America) के संबंधों के हिमायती रहे हैं. 2008 में एक सीनेटर के नाते उन्होंने ऐतिहासिक असैन्य परमाणु संधि (Historic Civil nuclear treaty) के पक्ष में मतदान किया था.

वह 2013 में भारत की यात्रा (Journey) कर चुके हैं. हाल ही में उन्होंने अमेरिका में चल रहे ब्लैक लाइव्स मैटर्स (Black Lives Matters) आंदोलन का समर्थन भी किया था.

यह भी पढ़ें: भारत-चीन में अधिक टेस्ट हों तो अमेरिका से ज्यादा Corona के केस मिलेंगे- ट्रंप
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज