'युद्ध के लिए रहें तैयार'! चीन के राष्‍ट्रपति शी जिनपिंग ने दिए सैन्य क्षमता मजबूत करने के आदेश

चीन ने कहा- हम और झड़प नहीं चाहते हैं.
चीन ने कहा- हम और झड़प नहीं चाहते हैं.

चीन (China) के राष्‍ट्रपति शी जिनपिंग (Xi Jinping) ने कहा है, 'देश के सैनिकों की ट्रेनिंग मजबूत करना और युद्ध के लिए तैयार होना, राष्ट्रीय संप्रभुता की रक्षा करना और देश की समग्र सामरिक स्थिरता की रक्षा करना महत्वपूर्ण है.'

  • Share this:
नई दिल्‍ली. भारत (India) के साथ सीमा विवाद और अमेरिका (United States) के साथ कोरोना वायरस (Coronavirus) की उत्‍पत्ति को लेकर चल रहे गतिरोध के बीच चीन (China) ने मंगलवार को बड़ा कदम उठाया है. चीन के राष्‍ट्रपति शी जिनपिंग (Xi jinping) ने देश के सशस्‍त्र बलों को सैनिकों की ट्रेनिंग मजबूत करने का आदेश दिया है. इसके साथ ही उन्‍होंने कोरोनो वायरस महामारी के चीन की राष्‍ट्रीय सुरक्षा पर पड़ रहे सीधे प्रभाव से निपटने को तैयार रहने को कहा है.

चीनी मीडिया रिपोर्ट्स का हवाला देते हुए हिंदुस्‍तान टाइम्स में प्र‍काशित खबर के मुताबिक शी जिनपिंग ने कहा है, 'देश के सैनिकों की ट्रेनिंग मजबूत करना और युद्ध के लिए तैयार होना, राष्ट्रीय संप्रभुता की रक्षा करना और देश की समग्र सामरिक स्थिरता की रक्षा करना महत्वपूर्ण है.

शी जिनपिंग ने कहा है कि कोविड 19 से लड़ने को लेकर चीन का प्रदर्शन सैन्‍य रिफॉर्म्‍स की सफलता को दर्शाता है. ऐसे में सशस्‍त्र बलों को महामारी के बावजूद प्रशिक्षण के नए तरीके खोजने की जरूरत है. शी जिनपिंग चीन के सशक्‍त सेंट्रल मिलेट्री कमीशन की अध्‍यक्षता करते हैं. उन्‍होंने यह बयान संसद में पीपुल्‍स लिबरेशन आर्मी (PLA) और पीपुल्‍स आर्म्‍ड पुलिस फोर्स (PAPF) के प्रतिनिधिमंडल के साथ मीटिंग में दिया.



दो दिन पहले ही चीन के शीर्ष राजनयिक वांग यी ने चीन को कोरोना वायरस महामारी के लिए जिम्‍मेदार ठहराने संबंधी अफवाहों को फैलाने के लिए कुछ अमेरिकी राजनेताओं के प्रयासों की कड़ी आलोचना की थी. वांग ने कहा था, अमेरिका चीन के साथ अपने संबंधों को एक नए शीत युद्ध की ओर धकेल रहा है. चीन के स्‍टेट काउंसलर और विदेश मंत्री ने भी कोरोनो वायरस महामारी पर अमेरिका के झूठ को खारिज कर दिया.
पीएम मोदी ने की बैठक
वहीं लद्दाख स्थित वास्‍तविक नियंत्रण रेखा पर चीन की ओर से सीमा विवाद को लेकर चल रहे गतिरोध पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मंगलवार को हाई लेवल मीटिंग की. इस बैठक में राष्‍ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजित डोभाल, चीफ ऑफ डिफेंस स्‍टाफ जनरल बिपिन रावत और तीनों सेनाओं के प्रमुख शामिल हुए. पीएम मोदी ने इस बैठक से इतर विदेश सचिव हर्षवर्धन श्रिंगला से अलग से इस मामले पर बातचीत की.

भारत ने खारिज किया था चीन का दावा
विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अनुराग श्रीवास्तव ने चीन के उस आरोप को खारिज किया था कि भारतीय सैनिकों द्वारा चीन की तरफ अतिक्रमण करने की वजह से तनाव बढ़ा. भारत की यह प्रतिक्रिया चीन के उस आरोप के दो दिन बाद आई थी जिसमें उसने कहा था कि भारतीय सेना ने उसके क्षेत्र में अतिक्रमण किया और दावा किया कि यह सिक्किम और लद्दाख में एलएसी के दर्जे को एकपक्षीय बदलने का प्रयास है.

5 मई को भिड़े थे भारत-चीन के सैनिक
भारतीय और चीनी सैनिक पांच मई को पैंगोंग सो झील इलाके में भिड़ गए थे और इस दौरान लोहे की छड़ों, लाठियों से एक दूसरे पर हमला किया तथा पथराव भी किया जिसमें दोनों तरफ के सैनिकों को चोट आई थी. एक अन्य घटना में करीब 150 भारतीय और चीनी सैनिक नौ मई को सिक्किम सेक्टर के नाकुला पास में आमने-सामने आ गए और इस दौरान हुई झड़प में दोनों पक्षों के कम से कम 10 सैनिक घायल हुए. इससे पहले डोकलाम में 2017 में 73 दिनों तक तक दोनों देशों के सैनिक आमने-सामने डटे हुए थे जिससे परमाणु हथियार से लैस दो पड़ोसी देशों के बीच युद्ध का खतरा भी मंडराने लगा था.

News18 Polls: लॉकडाउन खुलने पर ये काम कबसे और कैसे करेंगे आप?


यह भी पढ़ेंं : चीन से तनाव पर PM मोदी ने की मीटिंग, NSA, CDS और तीनों सेना प्रमुख हुए शामिल
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज