Home /News /world /

न्यूयॉर्क के गवर्नर का दावा, चीन से नहीं बल्कि यूरोप से आया है कोरोना वायरस

न्यूयॉर्क के गवर्नर का दावा, चीन से नहीं बल्कि यूरोप से आया है कोरोना वायरस

न्यूयार्क अमेरिका का सबसे बड़ा और प्रमुख शहर है.

न्यूयार्क अमेरिका का सबसे बड़ा और प्रमुख शहर है.

राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप (Donald Trump) पर निशाना साधते हुए गवर्नर एंड्र्यू कूमो (Andrew Cuomo) ने कहा कि अमेरिका ने 2 फरवरी को चीन से आने वाली उड़ानों को बंद कर दिया था जबकि चीन के वुहान (Wuhan) से इस महामारी को शुरू हुए एक महीने से ज्यादा का समय बीत चुका था

अधिक पढ़ें ...
    न्यूयॉर्क (New York) के गवर्नर (Governor) ने कोरोना महामारी (Corona Outbreak) को लेकर अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप (Donald Trump) को निशाने पर लिया है. न्यूयॉर्क के गवर्नर एंड्र्यू कूमो (Andrew Cuomo) ने एक रिसर्च का हवाला देते हुए कहा कि न्यूयार्क में कोरोना वायरस चीन से नहीं बल्कि यूरोप से आया है. उन्होंने कहा कि अमेरिकी सरकार ने कोरोना महामारी को रोकने में बहुत देर से कदम उठाए जिसकी वजह से कोरोना फैलता चला गया.

    एंड्रूय कूमो ने नॉर्थवेस्टर्न यूनिवर्सिटी की एक रिसर्च का हवाला देते हुए कहा कि न्यूयॉर्क में कोरोना संक्रमण का पहला मामला 1 मार्च को दर्ज हुआ था लेकिन एक अनुमान के मुताबिक तब तक न्यूयॉर्क में  10 हज़ार से ज्यादा लोग  कोरोना संक्रमित हो चुके थे. कूमो ने कहा कि न्यूयॉर्क में इटली से कोरोना संक्रमण के आने की आशंका है.

    राष्ट्रपति ट्रंप पर निशाना साधते हुए गवर्नर कूमो ने कहा कि अमेरिका ने 2 फरवरी को चीन से आने वाली उड़ानों को बंद कर दिया था जबकि चीन के वुहान से इस महामारी को शुरू हुए एक महीने से ज्यादा का समय बीत चुका था. उसी महीने कुछ दिनों बाद यूरोप से ट्रैवल बैन लगाया गया लेकिन तब तक अमेरिका में कोरोना वायरस बुरी तरह फैल चुका था.



    रॉयटर्स के मुताबिक कूमो ने कहा, ‘चीन में महामारी को देखते हुए हमने उड़ानें बंद कर एक तरह से सामने का दरवाज़ा बंद कर दिया जो कि ठीक किया लेकिन पिछला दरवाज़ा खुला रखा जिसकी वजह से चीन से दुनिया में फैलता हुआ वायरस आ गया.’

    कूमो के इस बयान से अमेरिका में एक गर्म और राजनीतिक बहस की शुरुआत हो गई है कि अमेरिका में वायरस कब पहुंचा और क्या समय रहते जरूरी कदम उठाकर बहुत सारी जानें बचाई जा सकती थीं? ये राजनीतिक सवाल बनेंगे और न सिर्फ ट्रंप बल्कि न्यूयॉर्क के गवर्नर से भी पूछे जाएंगे.

    कूमो ने ट्रंप सरकार की लेटलतीफी पर सवाल उठाते हुए निशाना लगाया कि जब चीन में जनवरी और फरवरी महीने में महामारी को लेकर बेहद विचलित करने वाली खबरें आ रही थीं तो उसके बावजूद अमेरिकी प्रशासन ने  इतनी धीमी प्रतिक्रिया क्यों दिखाई. कूमो ने कहा कि चीन में महामारी की शुरूआत के दो महीने बाद हम सक्रिय हुए. क्या कोई सोच सकता है कि चीन में मौजूद वायरस हमारे सक्रिय होने का दो महीने से इंतज़ार कर रहा था?

    न्यूयॉर्क के गवर्नर ने कहा, ‘अब महत्वपूर्ण ये है कि हम गलतियों से सीखें ताकि वायरस जब दोबारा हमला करे तो हम तैयार रहें. हम शुतुरमुर्ग की तरह रेत में सिर छुपा कर नहीं रह सकते. ये वायरस फिर लौटेगा.’

    वहीं लॉकडाउन के मामले में गवर्नर ने कहा कि 15 मई से पहले राज्य में लॉकडाउन हटाना  बहुत जल्दबाज़ी भर कदम होगा. अमेरिका में अब तक कोरोना वायरस से 9 लाख 25 हज़ार से ज्यादा लोग संक्रमित हो चुके हैं जबकि 52 हज़ार से ज्यादा मौतें हो चुकी हैं.

    ये भी पढ़ें :-कोरोना: जिस रिपोर्ट को रोकने के लिए चीन ने लगा दिया था पूरा जोर, वो हुई जारी

    Tags: Corona epidemic, Coronavirus

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर