अमेरिका में शर्मनाक है कोरोना वायरस के संक्रमण की जांच का तौर तरीका

अमेरिका में शर्मनाक है कोरोना वायरस के संक्रमण की जांच का तौर तरीका
अमेरिका के आम नागरिक चाहकर भी कोरोना वायरस के संक्रमण की जांच नहीं करवा पा रहे हैं क्योंकि वहां पर्याप्त टेस्ट किट नहीं हैं.

अमेरिका के आम नागरिक चाहकर भी कोरोना वायरस के संक्रमण की जांच नहीं करवा पा रहे हैं क्योंकि वहां पर्याप्त टेस्ट किट नहीं हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 20, 2020, 1:03 PM IST
  • Share this:
  • fb
  • twitter
  • linkedin
अमेरिका (America) में कोरोना वायरस (Coronavirus) के संक्रमण की जांच करने के तौर तरीकों को लेकर एक हैरान करने वाली रिपोर्ट सामने आई है. डेली मेल की एक रिपोर्ट के मुताबिक अमेरिका में सेलीब्रिटीज, राजनीतिक शख्सियतें और अरबपति वायरस संक्रमण के बिना किसी लक्षण के कोरोना वायरस की जांच करवा ले रहे हैं और जो जरूरतमंद हैं, जिनमें वायरस संक्रमण के लक्षण दिख रहे हैं, उन्हें जांच से मना कर दिया जा रहा है.

अमेरिका के आम नागरिक चाहकर भी कोरोना वायरस के संक्रमण की जांच नहीं करवा पा रहे हैं क्योंकि वहां पर्याप्त टेस्ट किट नहीं हैं. वहीं पैसे और ताकत के बल पर रसूखदार अमेरिकी बेवजह कोरोना वायरस की जांच करवा ले रहे हैं.

डेली मेल की एक रिपोर्ट के मुताबिक पिछले दिनों अमेरिका में कई सेलीब्रिटीज, बास्केट बॉल की पूरी टीम, कई राजनेताओं और अरबपतियों ने कोरोना वायरस के संक्रमण की जांच करवाई है. अगर अमेरिका में टेस्ट किट कम हैं तो फिर रसूखदार लोग इसे कैसे हासिल कर ले पा रहे हैं, इसके बारे में की जानकारी नहीं हैं.



आम अमेरिकी नागरिक को नहीं मिल रहे हैं टेस्ट किट



ऐसी कई घटनाएं हैं जहां आम अमेरिकी नागरिकों को अमेरिका के हेल्थ केयर सिस्टम ने वायरस के संक्रमण की जांच करने से इनकार कर दिया, जबकि उनलोगों में वायरस संक्रमण के लक्षण थे, वेलोग बार-बार अपने खराब सेहत का हवाला दे रहे थे. लेकिन अमेरिकी हेल्थ डिपार्टमेंट ने ये कहककर उनके टेस्ट से मना कर दिया कि वो किसी संक्रमित व्यक्ति के संपर्क में नहीं आए हैं और उन्होंने पिछले दिनों चीन की यात्रा नहीं की है.

ऐसे लोगों को सिर्फ ये सलाह दी जा रही है कि वो 14 दिनों तक क्वारांटाइन में रहें. अगर सांस लेने में तकलीफ हो तो मेडिकल हेल्प मांगे लेकिन उनके संक्रमण की जांच नहीं की जा रही है. जबकि पैसे वाले और रसूखदार लोग प्राइवेट तौर पर टेस्ट किट हासिल कर ले रहे हैं. डेली मेल की रिपोर्ट के मुताबिक पैसे वाले अमेरिकी प्राइवेट तौर पर कैसे टेस्ट किट हासिल कर ले रहे हैं, इसके बारे में कोई जानकारी नहीं है.

अमेरिकी राष्ट्रपति ने भेदभाव पर दिया हैरान करने वाला जवाब
इस बारे में अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप से भी पूछा गया. ट्रंप से कोरोना वायरस के संक्रमण की जांच में हो रहे भेदभाव को लेकर सवाल पूछा गया. ट्रंप का जवाब हैरान करने वाला था. उन्होंने कहा कि यही जिंदगी की कहानी है कि अमीर और संपन्न तबके को सबकुछ हासिल है, वो टेस्ट किट हासिल करने में समर्थ हैं.

अमेरिका में ऐसे कई प्राइवेट लैब हैं, जो टेस्ट किट उपलब्ध करवा रहे हैं. कई लैब सरकार के साथ मिलकर टेस्ट किट का बड़े पैमाने पर उत्पादन करने में लगे हैं. ऐसी कोशिश की जा रही है कि अमेरिकियों तक ऐसे टेस्ट किट फ्री में पहुंचे. लेकिन ऐसा हो नहीं पा रहा है. अमीर लोग ऊंची कीमतों पर टेस्ट किट खरीद ले रहे हैं.

ये भी पढ़ें:

कोरोना वायरस के संक्रमण का शिकार बना दुनिया का दूसरा कुत्ता, पहले की हो चुकी है मौत
इटली में कोरोना वायरस का कोहराम, चीन से भी ज्यादा हुई मौतें
जानिए निर्भया के दोषियों को फांसी पर लटकाने पर अंतरराष्ट्रीय मीडिया ने क्या लिखा
डच पीएम को क्यों कहना पड़ा- उनके पास है 10 सालों के लिए टॉयलेट पेपर
कोरोना वायरस की वजह से इस्तेमाल हुए मास्क के पहाड़ से कैसे निपटेगा चीन
First published: March 20, 2020, 1:03 PM IST
अगली ख़बर

फोटो

corona virus btn
corona virus btn
Loading