Home /News /world /

US सैनिकों की वापसी पर अफसोस नहीं, अफगानियों को तालिबान से खुद लड़ना होगा- बाइडन

US सैनिकों की वापसी पर अफसोस नहीं, अफगानियों को तालिबान से खुद लड़ना होगा- बाइडन

अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडन (AP)

अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडन (AP)

अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडन (US President Joe Biden) ने 31 अगस्त तक युद्धग्रस्त देश अफगानिस्तान (Afghanistan) से सभी अमेरिकी सैनिकों की वापसी का आदेश दिया है. पेंटागन ने बताया कि अब तक वहां से 90 फीसदी से अधिक सैनिक स्वदेश लौट चुके हैं.

अधिक पढ़ें ...

    वॉशिंगटन. अमेरिका के राष्ट्रपति जो बाइडन (Joe Biden) ने अफगानिस्तान (Afghanistan) से सैनिकों की वापसी पर किसी भी तरह के बदलाव की गुंजाइश से साफ इनकार कर दिया है. बाइडन ने कहा, ‘अफगानिस्तान से अमेरिकी सैनिकों की वापसी के फैसले पर मुझे कोई अफसोस नहीं है. अफगान नेताओं और लोगों को अपने देश के लिए तालिबान (Taliban) से खुद लड़ना होगा. ये उनका ही संघर्ष है.’

    अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडन (US President Joe Biden) ने 31 अगस्त तक युद्धग्रस्त देश अफगानिस्तान (Afghanistan) से सभी अमेरिकी सैनिकों की वापसी का आदेश दिया है. पेंटागन ने बताया कि अब तक वहां से 90 फीसदी से अधिक सैनिक स्वदेश लौट चुके हैं.

    अफगानिस्तान की 6 प्रांतीय राजधानियों पर तालिबान का कब्जा, भारत ने अपने नागरिकों को बुलाया वापस

    हमने हजारों अमेरिकी सैनिकों को खो दिया
    अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडन ने कहा, ‘हमने हजारों अमेरिकी सैनिकों को खो दिया. अफगान नेताओं को साथ आना होगा. उन्हें अपने और देश के लिए लड़ना होगा. हम अपनी प्रतिबद्धताओं को जारी रखेंगे, लेकिन मुझे अपने फैसले (अफगानिस्तान से सेना को बाहर निकालने पर) पर खेद नहीं है. तालिबान अफगानिस्तान के बड़े हिस्सों में काबिज होता जा रहा है.’

    एक हजार अरब डॉलर से ज्यादा रकम खर्च की
    व्हाइट हाउस में संवाददाताओं ने बाइडन से पूछा कि सैनिकों की वापसी के वर्तमान कार्यक्रम में क्या कोई बदलाव आ सकता है, इस पर उन्होंने कहा, ‘नहीं’. बाइडन ने आगे कहा, ‘देखिए, हमने बीस साल से अधिक वर्षों में एक हजार अरब डॉलर से अधिक राशि खर्च की. अफगान बलों के 3,00,000 से अधिक सैनिकों को प्रशिक्षित किया, साजो सामान दिया. अफगान नेताओं को एक साथ आना होगा. हमारे हजारों सैनिक घायल हुए, हजारों मारे गए. उन्हें अपनी लड़ाई खुद लड़नी होगी, अपने देश के लिए लड़नी होगी.’

    भारत के बनाए हाइवे पर तालिबान का कब्जा, पाकिस्तान ने मदद के लिए भेजे लड़ाके

    बाइडन ने कहा, ‘हम अपने वादे पूरे करेंगे जैसे कि हवाई क्षेत्र में मदद देना, यह देखना कि उनकी वायुसेना ठीक से काम करने में सक्षम हो, उनके बलों को भोजन और उपकरणों की आपूर्ति और उनके सभी वेतनों का भुगतान वगैरह, लेकिन उन्हें लड़ना होगा. उनकी संख्या तालिबान से अधिक है.’ (एजेंसी इनपुट के साथ)

    Tags: Afghanistan, Pakistan, Taliban rise in Afghanistan, Terrorism

    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर