अपना शहर चुनें

States

डोनाल्ड ट्रंप ने किम जोंग को दिया था एयर फोर्स वन में बैठने का ऑफर: रिपोर्ट

अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप और उत्तर कोरिया के नेता किम जोंग उन (फ़ाइल फोटो)
अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप और उत्तर कोरिया के नेता किम जोंग उन (फ़ाइल फोटो)

बीबीसी की सीरीज ट्रंप टेक्स ऑन द वर्ल्ड में इंटरव्यू के दौरान नेशनल सिक्योरिटी काउंसिल के एशिया एक्सपर्ट रहे मैथ्यू पोटिंगर ने कहा कि पूर्व राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप (Former US president Donald Trump) ने किम को एयर फोर्स वन में लिफ्ट देने की पेशकश की थी.

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 22, 2021, 1:25 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ( Former US president Donald Trump) ने उत्तर कोरिया के नेता किम जोंग उन (Kim Jong Un ) को दो साल पहले वियतनाम समिट में एयर फोर्स वन में में बैठने का ऑफर दिया था. इस बात का खुलासा बीबीसी की एक डॉक्यूमेंट्री में हुआ है. दोनों नेता साल 2019 में वियतनाम की राजधानी हनोई में मिले थे. इस डॉक्यूमेंट्री का प्रसारण बुधवार को किया जाएगा.

बता दें कि न्यूक्लियर प्रोग्राम को लेकर दोनों नेता पिछले साल फरवरी में मिले थे. इस बातचीत का कोई खास नतीजा नहीं निकला था. इसके बाद ट्रंप ने किम जोंग से कहा था कि वो दो घंटे में उन्हें हनोई से प्योंगयांग छोड़ सकते हैं. बता दें कि ट्रंप के साथ दूसरे समिट के लिए किम जोंग उन ट्रेन से वियतनाम की राजधानी हनोई पहुंचे थे. इतना ही नहीं वो चीन के रास्ते वहां दो ट्रेन बदल कर पहुंचे थे.

दिल जीतने की कोशिश
बीबीसी की सीरीज ट्रंप टेक्स ऑन द वर्ल्ड में इंटरव्यू के दौरान नेशनल सिक्योरिटी काउंसिल के एशिया एक्सपर्ट रहे मैथ्यू पोटिंगर ने कहा कि ट्रंप ने किम को एयर फोर्स वन में लिफ्ट देने की पेशकश की थी. दरअसल ट्रंप को पता था कि किम चीन से होते हुए हनोई में कई दिनों की ट्रेन की यात्रा करने के बाद पहुंचे थे. समिट खत्म होने के बाद राष्ट्रपति ने कहा: 'अगर आप चाहें तो मैं आपको दो घंटे में घर पहुंचा सकता हूं.' लेकिन किम जोंग उन ने एयरफोर्स वन में जाने से मना कर दिया था.
ये भी पढ़ें:- गुलाम नबी आजाद का रेड कारपेट वेलकम करती दिखी बीजेपी, क्या बढ़ रही नजदीकियां?



मना किया था किम ने
कहा जा रहा है कि अगर किम ट्रंप का ऑफर स्वीकार कर लेते तो फिर उत्तर कोरिया की सुरक्षा को लेकर खतरा हो सकता था. दरअसल कोई बाहरी विमान नॉर्थ कोरिया के एयरस्पेस में पहुंचता. बता दें कि पहली बार दोनों नेता साल 2018 में सिंगापुर के समिट में मिले थे तब किम एयर चाइना की फ्लाइट से आए थे.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज