लाइव टीवी

डोनाल्ड ट्रंप का बड़ा बयान, मिडिल ईस्ट में सेना भेजना सबसे बड़ी गलती, हमने अरबों डॉलर गंवाए

News18Hindi
Updated: October 9, 2019, 7:12 PM IST
डोनाल्ड ट्रंप का बड़ा बयान, मिडिल ईस्ट में सेना भेजना सबसे बड़ी गलती, हमने अरबों डॉलर गंवाए
डोनाल्ड ट्रंप पहले भी दूसरे देशों में सैन्य अभियानों पर सवाल उठा चुके हैं. फोटो : एपी

डोनाल्ड ट्रंप (Donald Trump) ने अमेरिका ने मिडिल ईस्ट (Middle East) में लड़ाई और सेना तैनात कर 8 ट्रिलियन डॉलर खर्च किए हैं. इसमें हमनें अपने हजारों बहादुर सैनिक गंवाए है. इसके अलावा सैकड़ों सैनिक ऐसे हैं, जो बुरी तरह घायल हुए हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 9, 2019, 7:12 PM IST
  • Share this:
वॉशिंगटन: अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप (Donald Trump) ने बड़ा बयान दिया है. उन्होंने मिडिल ईस्ट (Middle East) में अमेरिका द्वारा सेना भेजे जाने को सबसे बड़ी गलती बताया है. ट्रंप इससे पहले भी दुनिया भर में चल रहे सैन्य अभियानों पर अपनी असहमति जता चुके हैं. उन्होंने अमेरिकी राष्ट्रपति चुनावों में भी इस मुद्दे को जोर शोर से उठाया था, और कहा था कि वह कोशिश करेंगे कि अमेरिकी सैनिक जल्द से जल्द अपने देश वापस लौट सकें.

अब उन्होंने बाकायदा एक ट्वीट कर अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपतियों पर निशाना साधा है. उन्होंने लिखा, 'अमेरिका ने मिडिल ईस्ट में लड़ाई और सेना तैनात कर 8 ट्रिलियन डॉलर खर्च किए हैं. इसमें हमनें अपने हजारों बहादुर सैनिक गंवाए है. इसके अलावा सैकड़ों सैनिक ऐसे हैं, जो बुरी तरह घायल हुए हैं. इतना ही नहीं दूसरी तरफ भी लाखों लोग मारे गए. मिडिल ईस्ट में जाना हमारे देश के इतिहास में सबसे बुरी गलती थी.'



डोनाल्ड ट्रंप ने दूसरा ट्वीट करते हुए लिखा, हमारे देश के इतिहास में हम झूठे वादों और गलत आधार पर युद्ध में गए. इसमें नरसंहार करने वाले हथियारों का इस्तेमाल किया गया. हमें कुछ भी नहीं मिला. अब हम धैर्य के साथ धीरे धीरे वहां से अपने सैनिकों को वापस ला रहे हैं. हमारा फोकस बड़ी पिक्चर पर है.
Loading...




ये देश आते हैं मिडिल ईस्ट में
मिडिल ईस्ट में बहरीन, साइप्रस, इजिप्ट, इजरायल, जॉर्डन, कुवैत, लेबनान, ओमान, फिलिस्तीन, कतर, सऊदी अरब, सीरिया, तुर्की, यूएई, यमन, ईराक और ईरान जैसे देश आते हैं. इसमें सबसे बड़ा देश सऊदी अरब और सबसे छोटा देश बहरीन है.

सीरिया और ईराक में बुरी तरह उलझा है अमेरिका
मिडिल ईस्ट की बात करें तो अमेरिका सीरिया और ईराक में एक गंभीर लड़ाई में उलझा है. दरअसल इन दोनों देशों में उसे आईएसआईएस से जूझना पड़ रहा है. यहां की लड़ाई लंबी होती जा रही है और परिणाम नहीं निकल रहा है. ऐसे में डोनाल्ड ट्रंप चाहते हैं कि यहां पर जल्द से जल्द सैन्य अभियान खत्म हो.

अफगानिस्तान में सैन्य अभियान खत्म करने की कर चुके हैं कोशिश
डोनाल्ड ट्रंप अफगानिस्तान में सैन्य अभियान खत्म करने की दिशा में कदम उठा चुके थे. उन्होंने तालिबान से बातचीत भी शुरू कर दी थी. लेकिन बातचीत से पहले एक हमले में अमेरिकी सैनिक की मौत के बाद उन्होंने बातचीत तोड़ दी.

यह भी पढ़ें...
चीन ने किया कन्फर्म, राष्‍ट्रपति शी जिनपिंग 11 अक्‍टूबर को आएंगे भारत, PM मोदी से करेंगे मुलाकात

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए अमेरिका से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 9, 2019, 6:56 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...