Israel-Palestine Conflict: इजरायल-हमास के बीच सीजफायर की कोशिश में लगा अमेरिका, बाइडन प्रशासन पर बढ़ा दबाव

जो बाइडन (फाइल तस्‍वीर)

अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडन (Joe Biden) की पार्टी के सांसदों ने बाइडन से मांग की है कि वह इजरायल-गज़ा मामले में अहम भूमिका अदा करें, हालांकि अमेरिकी अधिकारियों का कहना है कि प्रशासन पर्दे के पीछे से कोशिशें कर रहा है.

  • Share this:
    वॉशिंगटन. इजरायल और हमास (Israel and Hamas ) के बीच जारी संघर्ष को रोकने के लिए अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडन (Joe Biden) और उनका प्रशासन 'पर्दे के पीछे' कोशिश कर रहा है. समाचार एजेंसी रायटर्स के अनुसार एक सूत्र ने कहा था कि इजरायल द्वारा गज़ा स्थित कुछ समाचार संस्थाओं की बिल्डिंग को निशाना बनाने के बाद अमेरिका पर दबाव बढ़ गया है. सूत्र ने कहा कि बाइडन प्रशासन ने इमारत पर की गई स्ट्राइक को बड़ी रणनीतिक गलती माना है. अमेरिकी प्रशासन का मानना है कि इससे अमेरिका में इजरायल के लिए जनमत में थोड़ा बदलाव आया है.

    अमेरिकी राष्ट्रपति की पार्टी के सांसदों ने बाइडन से मांग की है कि वह इस मामले में अहम भूमिका अदा करें, हालांकि अमेरिकी अधिकारियों का कहना है कि प्रशासन पर्दे के पीछे से कोशिशें कर रहा है. अधिकारियों ने दावा किया कि इजरायली अधिकारियों से बात करने के साथ ही अरब देशों में अमेरिकी सहयोगियों से भी बात की जा रही है.

    व्हाइट हाउस की प्रवक्ता जेन पास्की ने कहा कि 'हमारा मानना है कि पर्दे के पीछे की बातचीत के जरिये सकारात्मक परिणाम निकाले जा सकते हैं.' इजरायल और हमास के बीच हिंसा भड़कने के बाद बाइडन, इजरायल के प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू के साथ फोन पर तीन बार बात कर चुके हैं.

    बाइडन ने इजरायल से क्या कहा?
    व्हाइट हाउस ने कहा कि बाइडन ने 'इजरायल को निर्दोष नागरिकों की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए हर संभव कोशिश करने की सलाह दी' और दोनों नेताओं ने 'गज़ा में हमास और अन्य आतंकवादी समूहों के खिलाफ इजरायल के सैन्य अभियानों पर चर्चा की.' व्हाइट हाउस के एक बयान में कहा गया, 'राष्ट्रपति ने सीजफायर का समर्थन व्यक्त किया. साथ ही इजिप्ट और अन्य सहयोगियों के साथ इस मुद्दे पर चर्चा की.'

    इजराइल और गज़ा के हमास आतंकवादी शासकों के बीच संघर्ष 2014 के बाद से सबसे भीषण स्तर पर है और अंतरराष्ट्रीय आक्रोश भी पैदा हो रहा है लेकिन अमेरिका की विदेश नीति में पश्चिम एशिया और अफगानिस्तान से ध्यान हटाने को संकल्पित बाइडन प्रशासन ने संघर्ष में इजराइल की भूमिका की निंदा करने या क्षेत्र में एक उच्चस्तरीय राजनयिक को तैनात करने से अभी तक इनकार ही किया है. अन्य देशों की अपील का भी कोई असर नहीं दिखाई दे रहा.

    वहीं बाइडन प्रशासन के समर्थकों ने जल्द कार्रवाई की मांग की. जे स्ट्रीट के प्रवक्ता लोगान बेयरॉफ ने कहा  'हम इस मुद्दे पर निराश हैं कि प्रशासन अधिक तत्परता के साथ आगे नहीं बढ़ रहा है.' अट्ठाईस सीनेटर्स ने रविवार को एक बयान जारी कर 'नागरिक जीवन के नुकसान को रोकने और संघर्ष को और अधिक बढ़ने से रोकने के लिए.'  तत्काल युद्धविराम का आह्वान किया.