Home /News /world /

हैती में US-कनाडा के 17 ईसाई मिशनरी अगवा, किडनैपर्स ने हर एक के बदले मांगे 10-10 लाख

हैती में US-कनाडा के 17 ईसाई मिशनरी अगवा, किडनैपर्स ने हर एक के बदले मांगे 10-10 लाख

हैती में अमेरिकी दूतावास ने अभी इस पर कमेंट करने से मना कर दिया है. (AP)

हैती में अमेरिकी दूतावास ने अभी इस पर कमेंट करने से मना कर दिया है. (AP)

हैती (Haiti) में शनिवार को एक गिरोह ने 17 अमेरिकी ईसाई मिशनरियों (US missionaries) का उनके परिवारवालों के साथ अपहरण (kidnapped) कर लिया है. यह वारदात तब हुई, जब सभी मिशनरी राजधानी पोर्ट-ऑ-प्रिंस के एक अनाथालय से बाहर जा रहे थे.

    वॉशिंगटन/हैती. कैरेबियाई देश हैती में अपहरण करने वाली गैंग ने अमेरिका और कनाडा के 17 ईसाई मिशनरियों के रिहाई के बदले (Haiti Missionaries Abducted) में मोटी रकम मांगी है. इन सभी को छोड़ने के लिए किडनैपर्स ने 17 मिलियन डॉलर यानी 170 लाख रुपये की फिरौती मांगी है. हर एक मिशनरी के बदले 10 लाख रुपये देने को कहा गया है.

    वॉल स्ट्रीट जनरल की रिपोर्ट के मुताबिक, न्याय मंत्री लिस्जट क्विटल ने कहा कि अपहरणकर्ताओं से बातचीत चल रही है. मिशनरियों को 400 मावोजो गैंग ने कैद किया है. मंत्री ने इस भारी फिरौती की रकम की भी पुष्टि की है. उन्होंने कहा, ‘उन्होंने (अपहरणकर्ताओं) हर एक को रिहा करने के बदले 10 लाख रुपये मांगे हैं.’

    हैती में 17 अमेरिकी ईसाई मिशनरियों का उनके परिवार-बच्चों समेत अपहरण
    रिपोर्ट के मुताबिक, किडनैपर्स ने सबसे पहले ओहायो (Ohio) स्थित क्रिश्चियन एड मिनिस्ट्रीज (Christian Aid Ministries) को फोन किया और फिरौती की रकम के बारे में बताया. अगवा किए गए मिशनरी इसी समूह से जुड़े हुए हैं. अमेरिकी खुफिया एजेंसी एफबीआई और हैती की पुलिस इस समूह को बातचीत करने को लेकर लगातार सलाह दे रही है. ताकि सभी लोगों को सुरक्षित छुड़ाया जा सके.

    हैती (Haiti) में शनिवार को एक गिरोह ने 17 अमेरिकी ईसाई मिशनरियों (US missionaries) का उनके परिवारवालों के साथ अपहरण (kidnapped) कर लिया है. यह वारदात तब हुई, जब सभी मिशनरी राजधानी पोर्ट-ऑ-प्रिंस के एक अनाथालय से बाहर जा रहे थे. ये लोग अपने ग्रुप के कुछ मेंबर्स को छोड़ने के लिए बस से एयरपोर्ट की ओर जा रहे थे. जिनका अपहरण किया गया है, उनमें मिशनरियों के बच्चे भी शामिल हैं.
    स्थानीय अधिकारियों के हवाले से रिपोर्ट में कहा गया है कि समूह के कुछ सदस्यों को छोड़ने के लिए हवाई अड्डे की ओर जाने वाली एक बस से उनका अपहरण किया गया था. वॉशिंगटन में अमेरिकी विदेश विभाग की प्रवक्ता जेनिफर वियाउ ने बताया कि “हम इस घटना पर नजर रखे हुए हैं. हैती में अमेरिकी दूतावास ने अभी इस पर कमेंट करने से मना कर दिया है.

    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर